Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Followed
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

The mighty veteran Purulia Express serving for decades, daily commuters' lifeline and witness to a Rising Bengal! - Soumyadip Mahato

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Sat Oct 31 17:17:03 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Advanced Search

News Posts by Jayashree ❖ Amita

Page#    Showing 1 to 5 of 49479 news entries  next>>
रेलवे बोर्ड ने रांची रेलमंडल की चार पैसेंजर ट्रेनों को एक्सप्रेस में तब्दील करने की सूचना जारी कर दी है। इसमें हटिया-टाटा पैसेंजर, हटिया-वर्द्धमान पैसेंजर, हटिया-झारसुगुड़ा पैसेंजर और हटिया-खड़गपुर पैसेंजर शामिल हैं। फिलहाल दक्षिण पूर्व रेलवे रांची रेलमंडल के द्वारा उक्त ट्रेनों के कंवर्ट करने की अधिकारिक सूचना जारी नहीं की गई है। परंतु रेलवे बोर्ड ने दिनांक 20 अक्तूबर को इस दिशा में सभी रेलवे जोन को पत्र भेज दिया है। इसमें कई रेलवे जोन के दर्जन भर से ज्यादा पैसेंजर ट्रेनों को एक्सप्रेस ट्रेन में तब्दील करने की बात कही गई है, जबकि दक्षिण पूर्व रेलवे जोन में 36 ट्रेनों को एक्सप्रेस ट्रेन में बदलने की सूची जारी की गई है।

एक्सप्रेस
...
more...
ट्रेन का किराया लगेगा :

प्राप्त जानकारी के अनुसार पूर्व में ये पैसेंजर ट्रेन 45-50 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से चलती थीं। एक्सप्रेस ट्रेन में तब्दील होने पर इसकी रफ्तार 70-75 किलोमीटर प्रतिघंटा हो जाएगी। इससे ट्रेनों के गंतव्य स्थान तक पहुंचने में कुछ घंटे की भी बचत होगी। इसके अलावा एक्सप्रेस ट्रेन होने से कई छोटे दर्जे के स्टेशनों में ट्रेनों का ठहराव भी नहीं होगा। एक्सप्रेस ट्रेन के रूप में परिचालन आरंभ होने पर उक्त ट्रेनों का किराया एक्सप्रेस ट्रेन का लिया जाएगा। इसके सामान्य टिकट की जगह आरक्षित टिकट का शुल्क यात्रियों से लिया जाएगा और एक्सप्रेस जैसी सुविधा भी मिलेगी। ज्ञात हो कि हटिया-टाटा पैसेंजर 27 स्टेशन, हटिया-वर्द्वमान पैसेंजर 50, हटिया-झारसुगुड़ा पैसेंजर 33 और हटिया-खड़गपुर पैसेंजर 40 स्टेशनों पर रुकती हैं।

ठहराव बंद होने से कई स्टेशन के यात्रियों को होगी दिक्कत :

पैसेंजर ट्रेन से एक्सप्रेस ट्रेन में तब्दील हो जाने से कई छोटे स्टेशनों से यात्रा करने वाले यात्रियों की समस्या बढ़ जाएगी, क्योंकि इन स्टेशनों में एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव बंद हो जाएगा। फिलहाल रेलवे ने किस स्टेशन में ठहराव होगा या नहीं, इसकी घोषणा नही की है। परंतु संभावना व्यक्त की गई है कि टाटीसिलवे, गंगाघाट, जोन्हा, तुलीन, बक्सपुर, ओड़गा जैसे कई दर्जन भर से ज्यादा छोटे स्टेशनों से जुड़े यात्रियों के सफर पर संकट आ जाएगा। ज्ञात हो कि हटिया से खुलने व आने वाली चार पैसेंजर ट्रेन झारखंड के कई छोटे शहरों, ग्रामीण इलाकों को रांची से जोड़ती है। इन पैसेंजर ट्रेनों से प्रत्येक दिन हजारों की संख्या में लोग रोजी, रोजगार और शिक्षा के लिए रांची आते-जाते हैं।

5 Public Posts - Sun Oct 25, 2020





रेलवे बोर्ड ने देश के 120 साधारण मेल-एक्सप्रेस ट्रेनों को सुपरफास्ट का दर्जा देने का फैसला किया है। सुपरफास्ट का दर्जा देने वाली सूची में धनबाद से खुलने वाली धनबाद-फिरोजपुर गंगा सतलज एक्सप्रेस और धनबाद-अल्लापुजा एलेप्पी एक्सप्रेस को भी शामिल किया गया है। सुपरफास्ट का दर्जा मिलते ही दोनों ट्रेनों के स्टॉपेज में कटौती की जाएगी। साथ ही इसके किराए में भी बढ़ोतरी की जाएगी।रेलवे बोर्ड ने हाल ही में घोषणा की थी कि देश की सभी ट्रेनें जल्द ही एलएचबी बोगियों के साथ चलेंगी। धनबाद-फिरोजपुर गंगा सतलज की बोगियों को पहले ही एलएचबी में बदल दी गई हैं। साथ ही ट्रेन की गति को भी पिछले दिनों बढ़ा दिया गया है। गति बढ़ाने और बोगियों में बदलाव के बाद अब ट्रेन को सुपरफास्ट बनाने की तैयारी है। इसी तरह नेशनल टाइम टेबल कमेटी की अनुशंसा पर एलेप्पी एक्सप्रेस को लिंक एक्सप्रेस से पृथक कर धनबाद से फुल रेक यानी 22...
more...
बोगियों के साथ चलाने की घोषणा की गई है। अब इस ट्रेन में राउरकेला से 10 बोगियां नहीं जोड़ी जाएंगी। फिलहाल एलेप्पी धनबाद से सिर्फ 14 बोगियों के साथ चलती हैं। ट्रेन के रूवरूप बदलने के साथ इसके दर्जे को भी अपग्रेड किया जा रहा है। रेल सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार धनबाद से खुलने वाली दीक्षाभूमि एक्सप्रेस को भी अगले चरण में एक्सप्रेस से सुपरफास्ट बनाने की तैयारी है। इधर 200 किलोमीटर से अधिक दूरी तय करने वाली पैसेंजर ट्रेनों को भी एक्सप्रेस बनाने का निर्णय टाइम टेबल कमेटी की बैठक में लिया गया है।

14 Public Posts - Sun Oct 25, 2020

2 Public Posts - Mon Oct 26, 2020





रेल यात्रियों के लिए एक और राहत भरी खबर है। गोरखपुर जंक्शन पर बने सभी फूड स्टॉल पर यात्री बैठकर नाश्ता या भोजन कर सकेंगे। इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कार्पोरेशन (आईआरसीटीसी) ने फूड प्लाजा, फास्ट फूड यूनिट और स्टालों पर पके हुए भोजन (कुक्ड फूड) की बिक्री के साथ ही बैठकर खिलाने की सुविधा भी शुरू कर दी है। लॉकडाउन में खानपान की यूनिटें भी बंद थीं। एक जून से स्पेशल ट्रेनों के संचालन के साथ धीरे-धीरे स्टाल व यूनिटें भी खुलने लगीं। लेकिन वेंडरों को सिर्फ खानपान की पैक्ड सामग्री बेचने की अनुमति थी। लोगों की मुश्किलों को देखते हुए आईआरसीटीसी ने अक्टूबर के प्रथम सप्ताह में यूनिटों पर कुक्ड फूड बेचने की अनुमति प्रदान कर दी। लेकिन बैठकर नाश्ता करने व खाने की इजाजत नहीं दी थी। फिलहाल, आईआरसीटीसी ने स्टेशनों पर स्थित रिटायरिंग रूम और डारमेट्री को भी खोलने की तैयारी शुरू कर दी है। दशहरे बाद ऑनलाइन...
more...
बुकिंग शुरू हो जाएगी। गोरखपुर जंक्शन समेत सभी प्रमुख रेलवे स्टेशनों के सभी प्लेटफार्म खुल गए हैं। आईआरसीटीसी के मुख्य क्षेत्रीय प्रबंधक अनिल गुप्ता ने बताया कि रेलवे बोर्ड के दिशा-निर्देश पर फास्ट फूड यूनिट और फूड प्लाजा में खानपान की व्यवस्था शुरू करा दी गई है।
कोरोना काल में रेलवे ने यात्रियों की जेब पर डाका डाल दिया है। 20 अक्तूबर से शुरू हुईं त्योहार स्पेशल ट्रेनों का किराया गुपचुप 15 से 20 प्रतिशत बढ़ा दिया है। लेकिन कोई रियायत नहीं दी है। इन ट्रेनों में रेलवे कर्मचारियों को पास पर यात्रा करने के सीमित विकल्प दिए हैं। यात्री इस बात से अनभिज्ञ हैं कि उन्हें ज्यादा किराया चुकाना पड़ रहा है। कोरोना संक्रमण के चलते हो रहे घाटे की भरपाई के लिए रेलवे लोगों की जेब हल्की कर रही है।

रेलवे ने 20 अक्तूबर से करीब तीन
...
more...
त्योहार स्पेशल ट्रेनों का परिचालन शुरू किया है। इनमें से आगरा कैंट से समता एक्सप्रेस, स्वर्णजयंती एक्सप्रेस, छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस और आगरा फोर्ट से मरुधर एक्सप्रेस, अजमेर-सियालदाह एक्सप्रेस, अहमदाबाद-ओखा एक्सप्रेस, गुवाहाटी-बीकानेर एक्सप्रेस शामिल हैं। यह सभी नियमित ट्रेन हैं और उसी समय, ठहराव व दिन पर चल रही हैं, जो कोरोना काल से पहले चलती थीं। परंतु रेलवे ने त्योहार स्पेशल के नाम पर गुपचुप किराया 15 से 20 प्रतिशत तक बढ़ा दिया है। बढ़ा हुआ किराया एसी फर्स्ट, सेकेंड, थर्ड के साथ स्लीपर में भी लिया जा रहा है। आगरा कैंट स्थित रिजर्वेशन सेंटर पर कार्यरत एक क्लर्क ने बताया कि रेलवे ने रिजर्वेशन वाले कंप्यूटरों में इन ट्रेनों का किराया भी छिपा लिया है। किराया तभी पता चलता है, जब टिकट प्रिंट हो जाता है। इसका मकसद लोगों को बढ़े हुए किराए की जानकारी पहले न देना है।

रेलकर्मी भी इन ट्रेनों में नहीं कर पा रहे यात्रा

रेलवे ने त्योहार स्पेशल ट्रेनों में रेलकर्मियों के सफर पर भी पाबंदियां लगा दी हैं। अभी तक नि:शुल्क रेलवे पास पर राजधानी व शताब्दी ट्रेनों में जो नियम थे, उन्हें त्योहार स्पेशल ट्रेनों में लागू कर दिया है। इन ट्रेनों में रेलकर्मी नि:शुल्क रेल पास पर सीमित संख्या में ही रिजर्वेशन कराकर यात्रा कर सकेंगे। पहले इन्हीं ट्रेनों में इस तरह की बंदिश नहीं थी।

त्योहार स्पेशल ट्रेनों का किराया रेलवे बोर्ड ने तय किया है। नियमित ट्रेन नहीं चल रही हैं। यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने में रेलवे पूरी मुस्तैदी से जुटा है।

एसके श्रीवास्तव, पीआरओ
Oct 25 (14:28) बांद्रा हमसफर में लगेगा अधिक किराया (www.livehindustan.com)
0 Followers
4330 views

News Entry# 422724  Blog Entry# 4758231   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
बांद्रा हमसफर फेस्टिवल स्पेशल के यात्रियों को अतिरिक्त किराया राशि जमा करना पड़ेगा। ऐसा हमसफर को सहरसा-बांद्रा फेस्टिवल बनाकर चलाए जाने की नई अधिसूचना के कारण होगा।टीटीई टिकट किराया की अंतर राशि नए निर्धारित किराया के मुताबिक यात्री से वसूल करेंगे। वहीं पूर्व मध्य रेल के डिप्टी सीसीएम टीटीई आशुतोष शरण ने पत्र जारी कर ट्रेन परिचालन से दो घंटे पूर्व स्टेशनों पर विशेष टिकट काउंटर खोलने के लिए कहा है। उन्होंने कहा है कि सहरसा सहित अन्य स्टेशनों पर विशेष काउंटर पर भी टिकट किराया की अंतर राशि को जमा लिया जाय। इसकी उदघोषणा कराई जाय।

साथ
...
more...
ही सीटीटीआई टीटीई के माध्यम से ट्रेन में अंतर किराया राशि (अतिरिक्त राशि) वसूली करना सुनिश्चित करें। पत्र में कहा है कि किराया राशि में अंतर सहरसा-बांद्रा हमसफर फेस्टिवल एक्सप्रेस को फेस्टिवल एक्सप्रेस के रूप में चलाने की अधिसूचना के बाद हो गई है। बता दें कि सहरसा-बांद्रा अप डाउन फेस्टिवल एक्सप्रेस का परिचालन 25 अक्टूबर से होना है।

फ्लेक्सी फेयर से राहत पर बढ़ जाएगा किराया: फेस्टिवल स्पेशल ट्रेन चलने का फायदा यह होगा कि यात्रियों को इस ट्रेन में सफर करने के लिए फ्लेक्सी फेयर नहीं लगेगा। लेकिन सफर के लिए अधिक टिकट किराया लगेगा। सूत्रों की माने तो सहरसा-बांद्रा हमसफर एक्सप्रेस जब चलती थी तो उसमें थ्री एसी कोच में सफर का किराया करीब 1700 से 2580 रुपए तक लगता था। अब फेस्टिवल स्पेशल बनकर इसे चलाए जाने के बाद स्टेशन के आरक्षण काउंटर पर सहरसा से बांद्रा का थ्री एसी कोच का टिकट लेने पर 2405 रुपए लगेगा।

प्रायवेट टिकट संचालक से लेने पर 40 रुपए अतिरिक्त किराया राशि लगेगा। वहीं अभी स्लीपर क्लास में सफर के लिए सहरसा से बांद्रा का किराया 945 रुपए लगेगा जो पहले की किराया राशि से करीब 100 रुपए अधिक बढ़ जाएगी। ऐसे में यह जहां यात्रियों की जेब पर भार देगा वहीं रेलवे की कमाई बढ़ाएगा।

तत्काल टिकट नहीं कटने से यात्रियों के लिए राहत : फेस्टिवल स्पेशल ट्रेन होने के कारण सहरसा-बांद्रा अप डाउन ट्रेन में तत्काल टिकट नहीं कटेगा। ऐसे में यात्रियों को तत्काल टिकट के लिए लगने वाली शुल्क राशि से राहत मिलेगी। वहीं अधिक कन्फर्म टिकट बन पाएगी।

क्लोन स्पेशल की एक कोच में छह घंटे बिना एसी का सफर : नई दिल्ली से सहरसा आ रही क्लोन स्पेशल ट्रेन की एक कोच में बिना एसी का करीब छह घंटे का सफर यात्रियों ने तय किया।

जब मुरारी वत्स नामक व्यक्ति ने टवीट किया तब हरकत में रेल महकमा आया और एसी ठीक हुआ। मुरारी ने टवीट कर बताया कि कानपुर पहुंचने वाले हैं और कोच बी 11 का एसी काम नहीं कर रहा। गर्मी से हम यात्रियों की हालत खराब है। बता दें कि क्लोन स्पेशल गुरुवार की शाम 5.55 बजे नई दिल्ली से खुली थी और निर्धारित समय पर कानपुर सेंट्रल रात 11.55 पर पहुंची थी।
Page#    49479 news entries  next>>

Go to Full Mobile site