Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Full Site Search  
 
Fri Aug 17 23:04:07 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Gallery
News
FAQ
Trips
Login
Feedback
Advanced Search
Page#    331270 news entries  next>>
  
Today (22:40) Log in (menafn.com)
0 Followers
108 views

News Entry# 351457  Blog Entry# 3723400   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
Posted by: a2z~ 7221 news posts
Forgot Username or Password
Cleanest Indian Railways stations revealed: Full list here
Date
(MENAFN - NewsBytes)
...
more...
Cleanest Indian Railways stations revealed: Full list here 15 Aug 2018
Anyone who's traveled extensively by train will inevitably know that cleanliness isn't the Indian Railways' biggest forte.
Yet, to promote cleanliness, the Indian Railways, in partnership with the Quality Council of India (QCI), has, for the past two years, been releasing lists of its cleanest stations.
This year, Rajasthan's Jodhpur and Marwar stations have topped in their respective categories.
Here is the complete list.
This year's survey covered 407 railway stations across India Survey
The survey was started in 2016 with the aim of ranking A1 and A category railway stations on the basis of cleanliness standards.
The Indian Railways claims that since the start of the 'Swachh Rail, Swachh Bharat' survey, the average cleanliness of Indian railway stations have gone up.
Notably, this year, the survey covered 407 railway stations across India.
Why category A1 and A stations only? Fact
Insofar as the Indian Railways' revenue is concerned, category A1 and category A stations contribute around 80% of the Railways' total passenger revenue. Hence, they were chosen.
Details about the evaluation process for the survey Evaluation
The QCI survey is a four-part survey that evaluates stations based on process evaluation, direct observation, citizen feedback, and station master interviews.
For this year's survey, feedback from over 120,000 passengers was taken into account, data was collected on a real-time basis, and a 24*7 control room tracked daily progress of stations, said the Indian Railways.
Last year's absentees are this year's toppers Cleanest stations
Among category A1 stations, Jodhpur, Jaipur, Tirupati, Vijayawada, Delhi's Anand Vihar Terminal, Secunderabad Jn., Bandra, Hyderabad, Bhubaneswar, and Vishakhapatnam comprised the top 10, respectively.
Marwar, Phulera, Warangal, Udaipur, Jaisalmer, Nizamabad, Barmer, Manchiryal, Mysore, and Bhilwara respectively made up the category A top 10.
Interestingly, neither Jodhpur, nor Marwar featured in last year's top 10, when Vishakhapatnam and Beas topped A1 and A categories respectively.
Major stations like Howrah, Varanasi, etc. among dirtiest stations Dirtiest stations
Mathura (UP), Kalyan (Maharashtra), Gwalior (MP), Gaya (Bihar), Howrah (WB), Muzaffarpur (Bihar), Varanasi (UP), Jhansi (UP), Bareilly (UP), and Bhagalpur (Bihar) were the dirtiest A1 category stations respectively.
Meanwhile, Shahganj (UP), Phaphund (UP), Sasaram Jn. (Bihar), New Farakka (WB), Ayodhya (UP), Jagadhri (Haryana), Adarsh Nagar (Delhi), Sagauli Jn. (Bihar), Nagercoil (TN), and Faridabad (Haryana) made the category A bottom 10 respectively.
North-Western Railway topped zonal cleanliness rankings Zonal rankings
In terms of zones, 10 among the Railways' 16 zones showed 10-20% improvement compared to last year, while four zones showed over 20% improvement in scores.
In terms of ranking, North-Western Railway, South-Central Railway, East Coast Railway, South-East-Central Railway, and Western Railway comprised the top five zones in terms of cleanliness.
North-Central Railway was ranked last among all the 16 zones.
  
Today (22:37) Indian Railways issues New Time Table to be effective from August 15 (odishatv.in)
IR Affairs
0 Followers
130 views

News Entry# 351456  Blog Entry# 3723390   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
Posted by: a2z~ 7221 news posts
New Delhi: The Indian Railways on Monday announced a change in timings of more than 300 trains in its northern zone with effect from August 15 in view of the ongoing maintenance/repair of rail infrastructure.
A Northern Railway statement said that the departure timings of 57 trains have been advanced while that of 58 others have been delayed. The departure timings of 28 trains have been advanced by five minutes, while those of eight trains have been advanced by 10 minutes.
Timings of more than 300 trains will change in the new Northern
...
more...
Railway schedule which will come into effect from August 15, a statement from the zone read.
The departures of 57 trains have been preponed while 58 trains have been postponed in the new timetable. The arrivals of 102 trains have been preponed while 84 trains have been postponed.
“It is notified for the information of general public that Northern Railways’ new time table will be effective from August 15,” the statement read.
Also Read: Good News! Indian Railways Reduces AC Fares Of Express Trains
Passengers are requested to please check their train timings from railway enquiry before commencing their journey, the statement said.
The arrival timings of 102 trains have been advanced while 84 others will run with delayed timings. The arrival timings of 17 trains have been delayed by five minutes and of 13 others deferred by 10 minutes.
Northern Railways’ new time table will be effective from August 15. Passengers could check the new train timings from the railway enquiry.
The NR also said that the timings of nine trains have been advanced by 15 minutes and of two by 30 minutes.
[With Agency Inputs]
  
Today (22:16) मुंबई: इस साल 100 किमी की रफ्तार से दौड़ेगी मालगाड़ी (navbharattimes.indiatimes.com)
New Facilities/Technology
0 Followers
260 views

News Entry# 351449  Blog Entry# 3723329   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
Posted by: a2z~ 7221 news posts
सांकेतिक तस्वीर
मुंबई
वेस्टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर (डीएफसी) पर पहली बार 190 किमी ट्रैक पर मालगाड़ी का ट्रायल किया गया। बीते बुधवार को यह ट्रायल अटेली (हरियाणा) से फुलेरा (राजस्थान) के बीच किया गया। इस ट्रायल के साथ ही 1,504 किमी लंबे पश्चिमी डीएफसी को पूरा करने की कवायद तेज हो गई है। इस कॉरिडोर पर 100 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से मालगाड़ी चलाने की योजना है।
बता
...
more...
दें कि वर्तमान में भारतीय रेलवे में मालगाड़ी की औसत गति 30-35 किमी प्रतिघंटा है। 9 किमी प्रभावित क्षेत्र को छोड़कर जेएनपीटी से वैतरणा तक के 102 क्षेत्र सिविल वर्क का काम शुरू हो चुका है। टाटा प्रॉजेक्ट्स द्वारा यह काम किया जा रहा है और योजना के मुताबिक सितंबर 2020 तक काम पूरा होना है। इसी वर्ष के आखिर तक वेस्टर्न डीएफसी का पहला चरण (941 किमी) अटेली-मेहसाणा तक जल्दी ही शुरू किए जाने की उम्मीद है।
रेलवे का संकटमोचक डीएफसी
वर्ष 30 अक्टूबर 2006 को कंपनीज ऐक्ट के तहत डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (डीएफसीसीआई) का गठन हुआ। वर्ष 2007-12 की पंचवर्षीय योजना में इस परियोजना को शामिल किया गया। इसके तहत वेस्टर्न डीएफसी और ईस्टर्न डीएफसी कुल 3,360 किमी लंबा फ्रेट कॉरिडोर (मालगाड़ियों के लिए अलग से ट्रैक) प्रस्तावित हुआ। ईस्टर्न डीएफसी लुधियाना (पंजाब) से दानकुनी (पश्चिम बंगाल) तक 1,760 किमी लंबा और वेस्टर्न डीएफसी महाराष्ट्र के जेएनपीटी से दादरी (उत्तर प्रदेश) तक 1,504 किमी लंबा कॉरिडोर होगा। इस कॉरिडोर पर जब 100 किमी प्रतिघंटा की गति से 1.5 किमी डबल डेकर मालगाड़ी सरपट दौड़ेगी।
बढ़ जाएगी मालवहन की क्षमता
मालगाड़ी में प्रत्येक कंटेनर की लंबाई 4.265 मीटर है, जबकि डीएफसी में प्रत्येक कंटेनर की लंबाई 5.1 मीटर होगी। एक के ऊपर एक कंटेनर होंगे यानी डबल स्टेक और एक्सेल की चौड़ाई थी 3,200 मीटर से बढ़कर 3,660 मीटर हो जाएगी। अभी माल गाड़ी की अधिकतम लंबाई 700 मीटर होती है, जो बढ़कर 1500 मीटर यानी डेढ़ किमी हो जाएगी। प्रत्येक मालगाड़ी से माल ढुलाई की क्षमता 4,000 टन की बजाय 13,000 टन हो जाएगी। डीएफसी पर चलने वाली एक मालगाड़ी 1300 ट्रकों की क्षमता का माल वहन करेगी।
तीसरे कॉरिडोर की तैयारियां
वेस्टर्न और ईस्टर्न डीएफसी के बाद अब भारतीय रेलवे खड़गपुर से विजयवाड़ा तक तीसरे कॉरिडोर की योजना बना रही है। अधिकारियों के अनुसार यह कॉरिडोर 1,114 किलोमीटर लंबा होगा और इस पर लगभग 500 करोड़ से ज्यादा खर्च होंगे। इसके लिए जायका या विश्व बैंक से धन की व्यवस्था करने पर विचार किया जा रहा है।
वेस्टर्न डीएफसी
430 किमी: जेएनपीटी से वडोदरा
947 किमी: वडोदरा से रेवाड़ी
127 किमी: दादरी से रेवाड़ी
मुख्य परियोजना प्रबंधक (दक्षिण) राजीव त्यागी ने बताया, ‘वेस्टर्न डीएफसी पर तेजी से काम चल रहा है। महाराष्ट्र में इसका 177 किमी का हिस्सा है। भूमि अधिग्रहण का काम कुछ हिस्से को छोड़कर पूरा हो चुका है। दीवा-पनवेल सेक्शन में काम भी शुरू किया जा चुका है। वेस्टर्न डीएफसी का पहला चरण इस वर्ष शुरू हो जाएगा।’
  
Today (22:30) 12 दिन का सफर कर पहुंची 18वीं मेट्रो ट्रेन (navbharattimes.indiatimes.com)
New/Special Trains
LMRC/Lucknow Metro
0 Followers
192 views

News Entry# 351455  Blog Entry# 3723379   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
Posted by: a2z~ 7221 news posts
एनबीटी संवाददाता, लखनऊ : आंध्र प्रदेश से 18वीं मेट्रो ट्रेन राजधानी के ट्रांसपोर्ट नगर स्थित मेट्रो डिपो पहुंच गई है। इसे दो अगस्त को विशेष ट्रेलर से रवाना किया गया था। 12 दिन का सफर कर ट्रेन लखनऊ पहुंचाई गई। 40 टन वजनी मेट्रो ट्रेन को 64 पहियों वाले ट्रेलर से विशेष सुरक्षा व्यवस्था में लाया गया। एलएमआरसी के वरिष्ठ जनसंपर्क अधिकारी अमित कुमार ने बताया कि संयंत्र में मेट्रो ट्रेन से सम्बन्धित सभी आवश्यक परीक्षण हो चुके हैं। अब ट्रांसपोर्ट नगर स्थित मेट्रो डिपो में डायनमिक ट्रायल किया जाएगा।
  
Today (22:28) पुणे-मुंबई: 1500 रुपये तक में कर सकेंगे हाइपरलूप का सफर (navbharattimes.indiatimes.com)
New Facilities/Technology
CR/Central
0 Followers
199 views

News Entry# 351454  Blog Entry# 3723371   
  Past Edits
Aug 17 2018 (22:28)
Station Tag: Pune Junction/PUNE added by a2z~/1674352

Aug 17 2018 (22:28)
Station Tag: Mumbai CSM Terminus/CSTM added by a2z~/1674352
Posted by: a2z~ 7221 news posts
सांकेतिक तस्वीर
पुणे मेट्रोपॉलिटन रीजन डिवेलपमेंट अथॉरिटी (पीएमआरडीए) की एक रिपोर्ट के आधार पर अधिकारियों ने पुणे-मुंबई हाइपरलूप के टिकट की अनुमानित कीमत निकाली है। जिनलोगों के पास समय की कमी है, उनको इन दोनों शहरों के बीच यात्रा के लिए 1,000 रुपये से 1,500 रुपये तक खर्च करना पड़ सकता है। प्री-फिजिबिलिटी रिपोर्ट में विभिन्न वर्गों के यात्रियों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले यात्रा के माध्यमों को कवर किया गया है। बस, कैब, हवाई जहाज, ट्रेन के टिकट की कीमत और यात्रियों द्वारा प्राप्त रिस्पॉन्स वे पैरामीटर्स थे जिसके आधार पर अनुमानित किराये का आकलन किया गया।
हमारे
...
more...
सहयोगी अखबार पुणे मिरर से बात करते हुए मुंबई-पुणे का अकसर सफर करने वाले और मुंबई की एक वित्त कंपनी में काम करने वाले विद्युत देशपांडे ने बताया, 'मैं मूल रूप से पुणे का रहने वाला हूं लेकिन वर्तमान समय में मुंबई में काम करता हूं। करीब हर हफ्ते के अंत पर मैं यहां लौट आता हूं। अगर मौका मिले तो मैं रोजाना आना-जाना करूंगा। शुरू में जब इसके बारे में मैंने सोचा तो यह असंभव सा लगा क्योंकि 8 घंटे आने-जाने में लगते। हाइपरलूप की मदद से हम जैसे लोगों को इस तरह के लाभ उठाने का मौका मिलेगा यानी रहो एक शहर में और काम करो दूसरे शहर में।'
रेलवे में काम करने वाले रोजाना के यात्री महेश शहागाडकर ने बताया, 'मैं ट्रेन में औसतन 7.5 घंटे खर्च करता हूं। उसके अलावा सड़क मार्ग से यात्रा में आधा घंटा लगता है। अगर हाइपरलूप सर्विस का टिकट 1500 रुपये के आसपास रखा जाए तो रोजाना नहीं तो एक हफ्ते में दो बार मैं इस सेवा का लाभ उठा सकता हूं।'
पीएमआरडीए के एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि वे ठीक-ठीक रकम के बारे में नहीं बता सकते हैं लेकिन 1,000 से 1,500 रुपये के बीच खर्च होगा।
आपको बता दें कि मुंबई-पुणे की यात्रा के लिए कैब या बस से चार घंटे से ज्यादा और ट्रेन से तीन घंटे लगते हैं। अब कुछ सालों के अंदर यहां हाइपरलूप सर्विस शुरू हो जाएगी। हाइपरलूप से 25 मिनट्स में 180 किलोमीटर दूरी तय की जा सकेगी। अमेरिका की वर्जिन हाइपरलूप कंपनी 40,00,000 करोड़ रुपये की लागत से हाइपरलूप का निर्माण करेगी। हाइपरलूप ट्रायल रूट गाहुंजे से पिम्परी तक के निर्माण को दिसंबर 2018 तक और पूरी परियोजना को 2024 तक मुकम्मल होने की उम्मीद है।
Page#    331270 news entries  next>>

Go to Full Mobile site