Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Followed
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

Forget AI; our RailFans are endowed with NI - Natural Intelligence

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Tue Oct 27 23:38:52 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Advanced Search

SPC/Sitapur City Junction (3 PFs)
سیتاپور سیٹی جنکشن     सीतापुर सिटी जंक्शन

Track: Construction - Electric-Line Doubling

Show ALL Trains
MDR 76C, Sitapur
State: Uttar Pradesh


Zone: NR/Northern   Division: Moradabad

No Recent News for SPC/Sitapur City Junction
Nearby Stations in the News
Type of Station: Junction
Number of Platforms: 3
Number of Halting Trains: 10
Number of Originating Trains: 3
Number of Terminating Trains: 3
Rating: 3.0/5 (30 votes)
cleanliness - good (4)
porters/escalators - average (3)
food - average (3)
transportation - good (4)
lodging - average (4)
railfanning - average (4)
sightseeing - average (4)
safety - good (4)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 22 News Items  next>>
Sep 18 (20:44) महज 24 घंटे में 52 किलोमीटर OHE वायरिंग बिछाई, मुरादाबाद रेल मंडल ने रचा इतिहास (www.google.co.in)
New Facilities/Technology
NR/Northern
0 Followers
17528 views

News Entry# 418850  Blog Entry# 4719532   
  Past Edits
Sep 18 2020 (20:44)
Station Tag: Unnao Junction/ON added by Pankaj/1718748

Sep 18 2020 (20:44)
Station Tag: Sitapur City Junction/SPC added by Pankaj/1718748

Sep 18 2020 (20:44)
Station Tag: Sitapur Junction/STP added by Pankaj/1718748

Sep 18 2020 (20:44)
Station Tag: Balamau Junction/BLM added by Pankaj/1718748

Sep 18 2020 (20:44)
Station Tag: Moradabad Junction/MB added by Pankaj/1718748
मुरादाबाद रेल मंडल ने बिजली लाइन बिछाने के मामले में अपना पुराना रेकॉर्ड तोड़ दिया है। लखनऊ परियोजना इकाई ने मुरादाबाद रेल मंडल में महज 24 घंटे में ही 52 ट्रैक किलोमीटर ओवरहेड बिजली लाइन (OHE Wiring) बिछा दी है। इसके साथ ही इस लाइन पर दूसरे सभी काम भी तय समय सीमा में पूरे हो गए। इस उपलब्धि के साथ ही मुरादाबाद रेल मंडल ने इतिहास रच दिया है।
डिवेलपमेंट के मामले में इसे एक मिसाल माना जा रहा है। इस काम के लिए मुरादाबाद रेल मंडल को विशेष सपॉर्ट दिया गया। इस दौरान ट्रैक पर 24 घंटे के लिए कोई ट्रेन पास नहीं की गई। साथ ही तकनीकी सहायता भी दी गई। तेजी से टेक्निकल काम को पूरा कर लेने
...
more...
से विभाग के अधिकारी भी काफी मोटिवेटेड हैं। अकसर सरकारी विभागों की छवि लेट-लतीफी की ही बन जाती है। लेकिन मुरादाबाद मंडल में रेलवे इन दिनों जो कर रहा है, उससे देश भर के रेलवे सिस्टम में मिसाल बन रही है।
क्या होगा फायदा
उन्नाव से लेकर बालामऊ और वहां से सीतापुर रूट को जोड़ते हुए विद्युतीकरण का काम दिसंबर तक पूरा हो जाएगा। इसके बाद इलेक्ट्रिक इंजन से लैस ट्रेनों का संचालन यहां भी शुरू हो जाएगा।
Sep 16 (20:37) मुरादाबाद रेल मंडल ने रचा इतिहास, 24 घंटे में 38 किलोमीटर तक बिछा डाली बिजली लाइन (www.google.co.in)
New Facilities/Technology
NR/Northern
0 Followers
23223 views

News Entry# 418577  Blog Entry# 4717794   
  Past Edits
Sep 16 2020 (20:37)
Station Tag: Unnao Junction/ON added by Pankaj/1718748

Sep 16 2020 (20:37)
Station Tag: Sitapur Junction/STP added by Pankaj/1718748

Sep 16 2020 (20:37)
Station Tag: Sitapur City Junction/SPC added by Pankaj/1718748

Sep 16 2020 (20:37)
Station Tag: Balamau Junction/BLM added by Pankaj/1718748

Sep 16 2020 (20:37)
Station Tag: Moradabad Junction/MB added by Pankaj/1718748
मुरादाबाद। मुरादाबाद रेल मंडल प्रशासन ने विद्युतीकरण के तार डालने में भारतीय रेलवे का रिकार्ड तोड़ दिया है।  24 घंटे में 38 किलोमीटर तक बिजली की लाइन डाली गई। इतना ही नहींं इस लाइन को प्‍वाइंट पर कसने समेत इससे संबंधित अन्‍य सभी कार्य भी पूरे कर लिए गए। इससे पहले भी मुरादाबाद रेल मंडल तकनीकी में अपना डंका बजवा चुका है। जिसकी चारों ओर सराहना भी हो चुकी है। 
मंडल रेल प्रबंधक तरुण प्रकाश ने बताया कि विद्युतीकरण संगठन ने उन्नाव-बालामऊ-सीतापुर मार्ग पर विद्युतीकरण के लिए 24 घंटे के लिए रेल यातायात बंद करने की अनुमति मांगी थी। साथ ही इंजन आदि उपलब्ध कराने का अनुरोध किया था। रविवार रात 12 बजे से से सोमवार रात 12 बजे तक रेल यातायात बंद कर दिया
...
more...
था। इंजन व अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई गईं थीं।  टीम ने लगातार काम कर 76 ट्रैक किलोमीटर विद्युतीकरण किया है। वास्तविक में यह 38 किलोमीटर रेल लाइन के ऊपर विद्युतीकरण की गई है। वाकई में इतने कम समय मेें यह उपलब्धि हासिल करना आसान नहीं था। विद्युतीकरण करने में दो तार डालना होता है, एकऊपर और एक नीचे होता है। रेलवे रिकार्ड में ट्रैक किलोमीटर के आधार पर नाप दर्ज होता है। इसमें 160 खंभे आदि पर तार को लगाने का काम किया गया है। यह भारतीय रेल का रिकार्ड है। अभी तक 22 फरवरी को उत्तर रेलवे में ही 26 किलो मीटर विद्युतीकरण का तार डालने का काम किया था। डीआरएम ने बताया कि इस मार्ग पर दिसंबर तक काम पूरा हो जाएगा और इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाएगा। इस मार्ग से मालगाड़ी का संचालन किया जाएगा।
कम समय में पुल बनाकर भी लूटी थी वाहवाही 
मुरादाबाद रेल मंडल इससे पूर्व डेढ़ से दो साल पहले महज कुछ ही घंटे में रेलवे पुल बनाकर वाहवाही लूटी थी। इसकी तैयारी भी काफी समय पूर्व ही कर ली गई थी। इसके बाद इसे अंजाम दिया गया।



Oct 14 2018 (22:03) अब सीतापुर जंक्शन पर नैमिष दर्शन (www.jagran.com)
Commentary/Human Interest
NER/North Eastern
0 Followers
10915 views

News Entry# 364610  Blog Entry# 3900360   
  Past Edits
Oct 14 2018 (22:03)
Station Tag: Sitapur Cantt./SCC added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739

Oct 14 2018 (22:03)
Station Tag: Sitapur City Junction/SPC added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739
सीतापुर : रेलवे स्टेशन कैंट, एक जमाने से खुद में एक अलग पहचान बनाए हुए है, लेकिन अब कैंट नाम इतिहास बनकर रह जाएगा। नए स्टेशन को सीतापुर जंक्शन के नाम से जाना जाएगा। यूं तो सीतापुर शहर में रेल सेवाएं अंग्रेजों के जमाने की हैं। इनमें छोटी रेल लाइन सीतापुर जंक्शन, कैंट रेलवे स्टेशन, कचेहरी हाल्ट व सिटी रेलवे स्टेशन शामिल हैं। छोटी लाइन को ब्राडगेज में जब परिवर्तित किया गया, तब छोटी लाइन के रेलवे स्टेशन का भी विस्तार किया गया। इसी विस्तार के तहत कैंट रेलवे स्टेशन का विलय छोटी लाइन से बड़ी लाइन में परिवर्तित हुए, सीतापुर जंक्शन में कर दिया गया। अब जब कैंट स्टेशन का विलय हो गया, तब उसका नाम भी सीतापुर जंक्शन में ही शामिल कर दिया गया। अब इस रेलवे स्टेशन को लोग सीतापुर जंक्शन के नाम से ही जानेंगे। सहायक मंडल अभियंता संजोग श्रीवास्तव कहते हैं, कि अब कैंट रेलवे स्टेशन...
more...
सीतापुर जंक्शन के नाम से ही जाना जाएगा। यहां से रेल टिकट भी सीतापुर जंक्शन के नाम स ही काटे जाएंगे। पूरे स्टेशन का नाम रेल विभाग ने सीतापुर जंक्शन ही रखा है।
ऐतिहासिक विरासत को दर्शाएगा नया स्टेशन
सीतापुर: अमान परिवर्तन करके छोटी लाइन रेलवे स्टेशन को बड़ी लाइन रेलवे स्टेशन में परिवर्तित कर दिया गया है। वहीं इस स्टेशन को नया लुक दिया गया है। रेलवे स्टेशन की दरों दीवारों पर सीतापुर की ऐतिहासिक स्थलियों के चित्र उकेरे जा रहे हैं। जिसमें सीतापुर के इतिहास की झलक साफ नजर आ रही है। इन दिनों जो दो रेलवे स्टेशनों को मिलाकर एक जंक्शन तैयार हुआ है, उस रेलवे स्टेशन पर सात रेल पटरिया हैं। स्टेशन खूबसूरत दिख सके, इसके लिए सीतापुर जंक्शन की केबिन पर ऐतिहासिक तीर्थ स्थल नैमिषारण्य, चक्रतीर्थ, मां ललिता देवी मंदिर, महार्षि दधीचि की नगरी मिश्रिख के चित्र व जानकारी का चित्रण किया जा रहा है। इससे जंक्शन की सुंदरता देखते ही बन पड़ रही है। सफर के दौरान सीतापुर जंक्शन से गुजरने वाले यात्री, सीतापुर की विरासत से भी रूबरू हो सकेंगे। माना जा रहा है कि इस चित्रण से सीतापुर में पर्यटन की संभावनाएं भी बढ़ेंगी।
Oct 04 2018 (13:51) यहां रेलवे ट्रैक पर दौड़ता है ट्रैक्टर (www.livehindustan.com)
Commentary/Human Interest
NR/Northern
0 Followers
10654 views

News Entry# 362581  Blog Entry# 3866823   
  Past Edits
Oct 11 2018 (15:56)
Station Tag: Sitapur City Junction/SPC added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739

Oct 11 2018 (15:55)
Station Tag: Sitapur Cantt./SCC removed by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739
Stations:  Sitapur City Junction/SPC  
रेलवे ने ऐसे ट्रैक्टर तैयार किए हैं, जो रेल ट्रैक पर दौड़ते हैं। यह ट्रैक्टर ट्रैक निर्माण संबंधी मेटेरियल को रेल ट्रैक पर ले कर जाते हैं। इन दिनों मुरादाबाद मंडल के सीतापुर में निर्माणाधीन ट्रैक पर काम चल रहा है। ट्रैक्टर लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र है। रेल अधिकारियों का कहना है, जब ट्रैक का निर्माण होता है तो मेटेरियम को ट्रैक पर पहुंचाने में अधिक दिक्कत आती थी। ट्रक को ट्रैक तक नहीं ले जाया जा सकता है। ट्रैक से काफी दूर मेटेरियम को डाल जाता था। इससे कर्मचारियों को अधिक परेशानी होती थी। समय भी अधिक लगता था। इसलिए रेलवे बोर्ड के निर्देश पर कुछ ऐसे ट्रैक्टर बनाए गए हैं, जिनके पहिए ट्रैक पर चल सकते हैं। रेल निर्माण विभाग के सभी क्षेत्रीय कार्यालयों के पास एक-एक ट्रैक्टर है। इन दिनों सीतापुर से लखनऊ को छोटी लाइन से बड़ी रेल लाइन बनाई जा रही है। जिसमें ट्रेन वाले...
more...
पहियों वाला ट्रैक आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। रेल ट्रैक पर ही इसे चलाया जा सकता है।
Sep 26 2018 (14:07) यात्रियों काे रेलवे ने दी राहत, अब सीतापुर से होकर भी जाएगा दिल्ली का रास्ता (www.jagran.com)
Commentary/Human Interest
NER/North Eastern
0 Followers
14045 views

News Entry# 360774  Blog Entry# 3842275   
  Past Edits
Sep 26 2018 (14:07)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739

Sep 26 2018 (14:07)
Station Tag: Pilibhit Junction/PBE added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739

Sep 26 2018 (14:07)
Station Tag: Mailani Junction/MLN added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739

Sep 26 2018 (14:07)
Station Tag: Aishbagh/ASH added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739

Sep 26 2018 (14:07)
Station Tag: Sitapur City Junction/SPC added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739

Sep 26 2018 (14:07)
Station Tag: Bareilly Junction/BE added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739

Sep 26 2018 (14:07)
Station Tag: Lucknow Charbagh NR/LKO added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739
लखनऊ [निशांत यादव]। शहरवासियों को दिल्ली, पंजाब और जम्मूतवी जाने के लिए जल्द ही नए रूट पर टेनों का विकल्प मिल सकता है। पहले से ही क्षमता से डेढ़ गुना ओवरलोड चल रही लखनऊ-बरेली रेलखंड की जगह सीतापुर होकर ट्रेनों संचालन की तैयारी है। रेलवे सीतापुर होकर दिल्ली और पंजाब रूट पर टेनें चलाने पर विचार कर रहा है। दरअसल, अभी दिल्ली, पंजाब और जम्मूतवी जाने के लिए लखनऊ से दो रूट हैं। एक रूट लखनऊ से कानपुर का है जबकि दूसरा रूट लखनऊ से बरेली है। दोनों ही रूट ओवरलोड हैं। इन रेलखंड पर क्षमता से डेढ़ गुना ट्रेनें दौड़ रही हैं। ऐसे में रेलवे ने सीतापुर से ऐशबाग तक अमान परिवर्तन पूरा कर लिया है। रेलवे सीतापुर को बड़ा जंक्शन बनाकर ऐशबाग से दिल्ली के लिए नया रूट बनाने की तैयारी कर रहा है। रेलवे ने दो विकल्पों पर कार्य शुरू भी कर दिया है। एक तो ऐशबाग से...
more...
सीतापुर तक ट्रेन को चलाकर वहां से इंजन रिवर्स कर रोजा होते हुए ट्रेन संचालन किया जाए। हालांकि इसके लिए नॉन इंटरलॉकिंग और ट्रेनों की शंटिंग को लेकर रेलवे को काम करना होगा। वहीं रेलवे ने दूसरा विकल्प ऐशबाग से सीतापुर के बाद मैलानी और पीलीभीत तक अमान परिवर्तन पूरा होते ही सीधे बरेली होकर ट्रेन संचालन का तैयार किया है। दोनो को लेकर पूवरेत्तर रेलवे मुख्यालय और रेलवे बोर्ड के बीच मंथन चल रहा है। साथ ही उत्तर रेलवे का मुरादाबाद रेल मंडल को भी इसमें शामिल किया गया है। मुरादाबाद मंडल ने ही लखनऊ-आनंद विहार डबल डेकर को जयपुर तक विस्तार के लिए समय बदलने पर पाथ देने में असहमति जताई थी। जिस कारण पिछले साल जून में नोटिफिकेशन के बावजूद डबल डेकर का संचालन जयपुर तक शुरू नहीं हो सका था।
क्‍या कहते हैं अफसर?
पूर्वोत्तर रेलवे मुख्यालय के सीपीआरओ संजय यादव के मुताबिक, ऐशबाग से सीतापुर होकर दिल्ली, पंजाब और जम्मूतवी के लिए नया रूट बनाने पर रेलवे ने मंथन शुरू कर दिया है। कई सांसदों ने भी ऐशबाग से बरेली होकर दिल्ली की ट्रेनें चलाने की मांग की है। रेलवे सीतापुर से पीलीभीत तक अमान परिवर्तन पूरा होते ही सीधे रूट पर ट्रेन चला सकता है। हालांकि सीतापुर से रोजा रूट पर ट्रेन चलाने में परिचालन की दृष्टि से कठिनाई आएगी। जल्द ही बोर्ड कुछ निर्णय ले सकता है।




Page#    Showing 1 to 20 of 22 News Items  next>>

Go to Full Mobile site