Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 #
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
dark mode

Bandra Garib-Rath - नाम से गरीब, लेकिन मेरे दिल के करीब - Abdul Rehman

Full Site Search
  Full Site Search  
Just PNR - Post PNRs, Predict PNRs, Stats, ...
 
Fri May 20 02:50:12 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips
Login
Advanced Search
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 472624
इन दिनों कोरोना संक्रमण के मामले स्थिर होने से दैनिक जीवन पटरी पर लौट रहा है। सरकारी कामकाज भी फिर गति पकड़ने लगा है। रेलवे ने भी देशभर में 84 फीसदी और राजस्थान की 92 फीसदी ट्रेनों का संचालन शुरू कर दिया है। साथ ही धीरे-धीरे ट्रेनों को पुराना (कोरोना पूर्व) चोला पहनाना भी शुरू कर रहा है। लेकिन इस बार रेलवे इसमें शॉर्ट कट ज्यादा ले रहा है। ऐसे में एक तरफ तो इससे कोरोना गाइडलाइंस की खुल्ले में धज्जिया उड़ रही हैं।

दूसरी तरफ रेलवे जिसे सुविधा दावा कर रहा
...
more...
है, वो यात्रियों के लिए दुविधा साबित हो रही है। दरअसल रेलवे धीरे-धीरे ट्रेनों में साधारण (जनरल) टिकट से यात्रा शुरू कर रहा है। ऐसे में जनरल कोच की बुकिंग प्रोफाइल भी रिजर्व से अनरिजर्व में बदली जा रही है। लेकिन 18 से 26 कोच की ट्रेनों में महज 3-4 कोच में साधारण टिकट से यात्रा की अनुमति दी जा रही है। जबकि कोरोना से पहले सामान्य टिकट से अनरिजर्व के अलावा रिजर्व कोच में भी अनरिजर्व और रिजर्व का डिफरेंस (किराए का अंतर) देकर यात्रा की सुविधा दी जाती थी।

ऐसे में रेलवे तर्क दे रहा है कि ये निर्णय कोरोना संक्रमण नहीं फैलने के चलते लिया गया है। जबकि रेलवे ने साधारण टिकट जारी करने की कोई सीमा निर्धारित नहीं की है। यानि 1 ही कोच में अनगिनत यात्री सफर कर सकते हैं। क्योंकि कोच तो निर्धारित कर दिए, लेकिन इनमें सफर करने वाले यात्रियों और जारी किए जाने वाले जनरल टिकट की संख्या निर्धारित नहीं की गई है।

इन ट्रेनों में जनरल टिकट से यात्रा की सुविधा मिलेगीरेलवे के सीपीआरओ कैप्टन शशि थरूर ने बताया कि चुनिंदा ट्रेनों में ऑपरेशनल और कॉमर्शियल बदलाव करते हुए ट्रेन नंबर 12548 बीकानेर-दिल्ली सराय स्पेशल में डीएल-1, डीएल-2, डी-3, डी-4, 12464 जोधपुर-दिल्ली सराय में डी-3, डी-4, 14811 सीकर-दिल्ली में डी-3, डी-4, 14819 भगत की कोठी-साबरमती में डीएल-1, डीएल-2, डी-3, डी-4, 20474 उदयपुर सिटी-दिल्ली में डीएल-1, डीएल-2, डी-1, डी-4, 22464 बीकानेर-दिल्ली सराय मे डी-3, डी-4, 22481 जोधपुर-दिल्ली सराय में डीएल-1, डीएल-2, डी-3 व डी-4, 22471 बीकानेर-दिल्ली सराय में डीएल-1, डीएल-2, डी-3, डी-4, 22422 जोधपुर-दिल्ली सराय में डीएल-1, डीएल-2, डी-3, डी-4, 14803 भगत की कोठी-साबरमती में डीएल-1, डीएल-2, डी-3, डी-4, 22987 अजमेर-आगराफोर्ट में डी-1, डी-10, डीएल-1, 12196 अजमेर-आगराफोर्ट में डीएल-1, डीएल-2, डी-13, डी-14 और ट्रेन नंबर 14813 जोधपुर-भोपाल में डी-1, डी-2, डी-3 और डी-6 कोच में जनरल टिकट से यात्रा की सुविधा मिलेगी।

रिजर्वेशन एक्सपर्ट अजय कश्मीरी और ट्रेन ऑपरेशन एक्सपर्ट रजनीश शर्मा बताते हैं कि रेलवे का इस तरह सुविधा देकर कोरोना पर नियंत्रण करने का दावा तो झूठा है। क्योंकि रेलवे के पास अन रिजर्व कोच में यात्रियों की संख्या का निर्धारण करने का कोई मैकेनिज्म ही नहीं है।

ऐसे में रेलवे को प्रमुख रूट्स पर अन रिजर्व ट्रेनों का संचालन करना चाहिए। इससे एक तरफ जहां यात्रियों को सुविधा मिल सकेगी। वहीं काफी हद तक कोरोना गाइडलाइंस की पालना भी हो सकेगी। गौरतलब है कि वर्तमान में उत्तर पश्चिम रेलवे में 164 ट्रेनों में अनारक्षित (साधारण/जनरल) टिकट से यात्रा की सुविधा दी जा रही है।
Go to Full Mobile site