Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

ट्रेनों का सफर, ज़िन्दगी का सफर, रेलफैन दोनों में माहिर

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Wed Apr 21 19:00:07 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Advanced Search
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 436479
प्रयागराज, जेएनएन। पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन चौरीचौरा शताब्दी समारोह वर्ष की तैयारी में जुटा है। इसके तहत ट्रेन का कलेवर भी बदला जा रहा है। गोरखपुर से कानपुर अनवरगंज तक चलाई जाने वाली चौरीचौरा स्पेशल ट्रेन प्रयागराज जंक्शन से होकर जाती है। यह ट्रेन अब नए कलेवर में दौड़ेगी। 
चौरीचौरा ट्रेन में चार फरवरी से एलएचबी कोच लगाया जाएगा
दरअसल, चौरीचौरा की एतिहासिक घटना के 100 वर्ष पूरा होने पर प्रदेश सरकार शताब्दी समारोह मनाएगी। रेलवे ने भी इस उपलक्ष्य पर 05003/05004 गोरखपुर-कानपुर अनवरगंज-गोरखपुर चौरीचौरा स्पेशल ट्रेन में यात्रियों का सफर और आरामदायक
...
more...
बनाने के लिए कोच में बदलाव करेगा। यह गाड़ी चार फरवरी से गोरखपुर से और पांच फरवरी से कानपुर अनवरगंज से एलएचबी कोच लगाकर चलाई जाएगी। अभी चौरीचौरा ट्रेन कंवेंशनल रैक से चलाई जा रही है। कुल 22 कोच वाली चौरीचौरा कोहरे की वजह से आंशिक रूप से चलाई जा रही थी। सोमवार से यह नियमित रूप से चलाई जाने लगी है।
पूर्वोत्तर रेलवे के पीआरओ बोले-यात्रियों का आरामदायक होगा सफर
पूर्वोत्तर रेलवे के पीआरओ अशोक कुमार ने बताया कि एलएचबी कोच में यात्रियों को झटके महसूस नहीं होंगे। साथ ही यात्रा और आरामदायक बनाने के उद्देश्य से रेलवे ने एलएचबी कोच लगाने का निर्णय लिया है।
लिच्छवी में भी लगाए गए एलएचबी कोच
04006/04005 आनंद विहार-सीतामढ़ी-आनंद विहार के बीच चलने वाली लिच्छवी एक्सप्रेस मेें भी 29 जनवरी से एलएचबी कोच लगाए गए हैं। नए रंगरूप की ट्रेन देखकर यात्री अचरज में पड़ गए। एक बार पूछकर गाड़ी में सवार हुए। इस कोच में यात्रियों को झटके नहीं लगते हैं। हादसे में भी जानमाल का कम से कम नुकसान होता है। दुर्घटना होने पर कोच एक-दूसरे पर नहीं चढ़ते हैं। कुल मिलाकर नए कलेवर की लिच्छवी एक्सप्रेस अब पहले से आकर्षक और सुरक्षित है।
Go to Full Mobile site