Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Followed
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

RailFans - we wander, but never get lost - Shaurya Kumar

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Tue Sep 29 23:49:01 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Feedback
Advanced Search
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 415765
Aug 05 (05:14) ताकतवर इंजन बनाकर भारत बन गया दुनिया का छठा देश (www.naidunia.com)
IR Affairs
SECR/South East Central
0 Followers
16774 views

News Entry# 415765  Blog Entry# 4681452   
  Past Edits
Aug 05 2020 (05:14)
Station Tag: Korba/KRBA added by Adittyaa Sharma/1421836

Aug 05 2020 (05:14)
Station Tag: Bilaspur Junction/BSP added by Adittyaa Sharma/1421836

Aug 05 2020 (05:14)
Station Tag: Raipur Junction/R added by Adittyaa Sharma/1421836
फोटो- इंजन का
रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि
देश के ताकतवर इंजन ने सोमवार को बिलासपुर से कोरबा तक मालगाड़ी खींची। यह देश में बना अब तक का सबसे शक्तिशाली मालवाहक इंजन है, जो 12 हजार हार्सपावर क्षमता का है। इसके पहले 30 जुलाई को इतवारी से भिलाई रेलवे स्टेशन तक इसी इंजन से मालगाड़ी का सफलतापूर्वक परिचालन किया गया था। रेलवे के जानकारों का मानना है कि मधेपुरा इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव फैक्ट्री और फ्रांसीसी कंपनी के संयुक्त प्रयास से यह इंजन तैयार किया गया है। इसे बनाने के साथ ही भारत 10 हजार हॉर्सपावर के
...
more...
इंजन उत्पादन की तकनीक वाला दुनिया का छठा देश बन गया है। इस इंजन की मालवाहक क्षमता डब्ल्यू ए जी-9 से दोगुना है। इसकी सामान्य गति भी 100 किलोमीटर प्रति घंटा है। इसे 120 किलोमीटर प्रति घंटा रफ्तार से भी चलाया जा सकता है। इसकी लंबाई 35 मीटर है। इसमें एक हजार लीटर हाई कंप्रेशर कैपेसिटी के दो टैंक लगाए गए हैं।
दोनों तरफ वातानुकूलित ड्राइवर कैब
यह इंजन पारंपरिक ओएचई लाइनों वाली रेलवे पटरियों के साथ ही ऊंची ओएचई लाइनों वाले (फ्रेट डेडिकेटेड) समर्पित माल गलियारों पर भी चलने में सक्षम है। इंजन में दोनों ही तरफ वातानुकूलित ड्राइवर कैब है। इंजन पुनरुत्पादक ब्रेकिंग सिस्टम से लैस है, जो परिचालन के दौरान पर्याप्त ऊर्जा बचत सुनिश्चित करता है। ये उच्च हॉर्स पावर वाले इंजन मालवाहक ट्रेनों की औसत गति को बढ़ाकर अत्यधिक इस्तेमाल वाली पटरियों पर भीड़ कम करने में मदद करेंगे। नई पीढ़ी के इस 12 हजार अश्व शक्ति वाले लोकोमोटिव इंजन के माध्यम से रेल परिचालन शुरू होने से चढ़ाई वाले रेल खंडों में मालगाड़ियों के पीछे लगाए जाने वाले बैंकर इंजनों की आवश्यकता समाप्त होगी एवं मालगाड़ियों की गति बढ़ने से सेक्शन में ज्यादा गाड़ियों के परिचालन के साथ ही यात्री गाड़ियों की संबद्धता में भी सुधार होगा ।
Go to Full Mobile site