Click here for Full Mobile site


Page#    459 Blog Entries  next>>
admin please update the map
mavli-barisadari #gc update.
ajmer-det #electrification done update.
#Narwana - #Kaithal - #Kurukshetra #Electrification
Total track Length - 86.16 kms
Foundation block work completed till #New #Kaithal station (37.25kms) as on 17-05-2018
#source: Amar Ujala
Rail News
0 Followers
2500 views

New Facilities/Technology
ECR/East Central
May 17 (23:00)   विद्युत इंजन से चलेगी गरीब रथ, जनसेवा और पुरबिया

amishkumar~   906 news posts
रेलवे बोर्ड ने लिया निर्णय 24 मई से कोसी मे लिखी जाएगी विकास की नई कहानी रेलवे के संस्थानों में लगेंगे सौर ऊर्जा के प्लांट : रेल राज्यमंत्रीकोसी में हुआ रेलवे का तीव्र विकास1डेढ़ दशक पहले तक कोसी का इलाका रेल क्षेत्र में पिछड़ा हुआ था। यहां बड़ी लाइनों का विकास नहीं हो पाने के कारण लंबी रूट की गाड़ियों से यहां के लोग वंचित थे। दिल्ली या देश के अन्य इलाकों से जुड़ने के लिए कोसी के लोगों को खगड़िया या मानसी में ट्रेन बदलनी पड़ती थी। हाल के वर्षो में कोसी में रेल का तेज विकास हुआ। बड़ी लाइनें बिछ जाने के बाद यह देश के अन्य हिस्सों से सीधा जुड़ गया। इसके बाद मधेपुरा में विद्युत रेल इंजन कारखाना शुरू किया गया। अब विद्युतीकरण का काम पूरा किया जा चुका है।खुशखबरीजागरण संवाददाता, पटियाला : रेल राज्यमंत्री राजेन गोहाईं ने है कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिजली बचाने के लिए रेल विभाग को एक हजार मेगावाट सौर ऊर्जा पैदा करने का लक्ष्य दिया है। इसके तहत देश में रेलवे के संस्थानों में सौर ऊर्जा के प्लांट लगाए जा रहे हैं। पटियाला के डीएमडब्ल्यू में लगाया गया दो मेगावाट का सौर ऊर्जा प्लांट इसी कड़ी का हिस्सा है। एक हजार मेगावाट सौर ऊर्जा पैदा करने का यह लक्ष्य रेल विभाग 2021 तक पूरा कर लेगा। रेल राज्यमंत्री बुधवार को पटियाला की डीजल लोकोमोटिव माडर्नाइजेशन वर्कशाप (डीएमडबल्यू) में दो मेगावाट रूफटॉप ऊर्जा प्लांट का उद्घाटन करने के लिए आए थे। डीएमडब्ल्यू पटियाला को साल में 50 इलेक्ट्रिक रेल इंजन बनाने का टारगेट दिया गया है। उन्होंने कहा, रेल विभाग के पास देश में 63 हजार किलोमीटर रेल लाइन है। मौजूदा समय में देश में 40 हजार किलोमीटर ट्रैक पर बिजली के साथ ट्रेन दौड़ने का काम पूरा हो गया है और आने वाले समय में जल्द ही सारा ट्रैक इलेक्ट्रीफिकेशन के साथ जोड़ देंगे। देश में मानवरहित रेल फाटकों के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस साल सभी रेल फाटक कर्मचारियों से लैस कर दिए जाएंगे। इससे आने वाले समय में रेल हादसे नहीं होंगे। देश के 600 रेलवे स्टेशनों को प्राइवेट हाथों में देने के सवाल पर कहा कि रेलवे स्टेशन निजी हाथों में नहीं दिए गए हैं, बल्कि उनका विकास निजी कोष के जरिये करने का प्रयास किया जा रहा है।जागरण संवाददाता, सहरसा : मधेपुरा रेल इंजन कारखाना शुरू होने के बाद कोसी इलाके में एक और ऐतिहासिक बदलाव होने जा रहा है। अब यहां से चलने वाली लंबी दूरी की रेलगाड़ियों में बिजली का इंजन लगाया जाएगा। यह निर्णय रेलवे बोर्ड ने लिया है। 24 मई से इसकी शुरुआत होगी। सहरसा से चलने वाली गरीब रथ, जनसेवा और पुरबिया एक्सप्रेस का परिचालन बिजली के इंजन से किया जाएगा। 1रेलवे ने दो महीने पहले ही मधेपुरा से मानसी तक 65 किलोमीटर लंबे ट्रैक पर विद्युतीकरण का कार्य पूरा कर लिया था। कोसी इलाके में विद्युतीकरण रेलवे की प्राथमिकता में था। इस कारण दुर्गम क्षेत्र के होने के बावजूद तीन महीनों के भीतर काम पूरा कर लिया गया। इसके बाद सहरसा रेल में पदस्थापित लोको पायलटों व सहायक लोको पायलटों को बिजली इंजन चलाने का प्रशिक्षण दिया गया। यहां के करीब दो दर्जन लोको पायलटों को इसके लिए मुगलसराय भेजा गया। हाल ही में इनका प्रशिक्षण पूरा हुआ है। 1ट्रेनों में इन तिथियों में लगेगा बिजली इंजन : आनंद विहार से सहरसा आने वाली पुरबिया एक्सप्रेस में 21 मई विद्युत इंजन लगेगा। अमृतसर से सहरसा आने वाली जनसेवा एक्सप्रेस में 22 मई को ही इलेक्ट्रिक इंजन लगेगा। अमृतसर से सहरसा के बीच चल रही 12204 गरीब रथ में 23 मई को इलेक्ट्रिक इंजन चलेगा। यह रेलगाड़ियां विद्युत इंजन के साथ ही सहरसा पहुंचेंगी। ऐसा पहली बार होगा जब मानसी-सहरसा रेलखंड पर विद्युत इंजन चालित रेलगाड़ियां दौड़ेंगी। 24 मई को इन रेलगाड़ियों को बिजली इंजन लगाकर रवाना किया जाएगा।’>>दो महीने पहले पूरा हो चुका है मधेपुरा से मानसी तक विद्युतीकरण 1’>>65 किलोमीटर ट्रैक के विद्युतीकरण में लगे तीन महीने1’>>विद्युत इंजन शुरू होने से डीजल की होगी बचत और पर्यावरण सुरक्षासहरसा से चल रही लंबी दूरी की ट्रेनों में अब इलेक्ट्रिक इंजन चलेगा। 24 मई से सहरसा से तीन ट्रेन गरीब रथ एक्सप्रेस, पुरबिया एक्सप्रेस एवं जनसेवा एक्सप्रेस में इलेक्ट्रिक इंजन लग जाएगी। इसके बाद अन्य ट्रेनों में भी सुविधानुसार इलेक्ट्रिक इंजन से परिचालन होगा। इलेक्ट्रिक इंजन चलने से जहां समय की बचत होगी वहीं रेल परिचालन सुगम होगा। 1वीरेंद्र कुमार, वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक, पूर्व मध्य रेल, समस्तीपुर,सहरसा स्टेशन पर लगे विद्युत पोल ’ जागरण f8wxzqmulmtl7wx598fiyo9c9id9m43cefsh33sf{{{May 17 2018 (23:01)}}}~@~Station Tag: Saharsa Junction/SHC added by amishkumar~/1702584~@~~@~{{{May 17 2018 (23:01)}}}~@~Station Tag: Saharsa Junction/SHC added by amishkumar~/1702584~@~

Great news.
#electrification
1 posts are hidden.

Palanpur tak SINGLE line electrification complete ho gaya ?
click here
Plz update the #Atlas as per details of #Electrification in #2017-18 by #CORE
Go to Full Mobile site