Large TB;
Entry# 1401788-0
Large TB;
Entry# 2078606-0


22849/Shalimar - Secunderabad Weekly SF Express
শালিমার - সেকেন্দ্রাবাদ সাপ্তাহিক সুপারফাষ্ট এক্সপ্রেস     शालिमार - सिकंदराबाद साप्ताहिक सुपरफास्ट एक्सप्रेस

SHM/Shalimar (Kolkata) --> SC/Secunderabad Junction

Availability Calendar
Search SHM to SC
Return# 22850
PDF Download
Latest News
(You need to double-check/verify this info yourself)
22849 Shalimar-Secunderabad Express has been rescheduled to leave Shalimar at 14:30 hrs instead of 12:20 hrs on 05.01.2022.
Tue Jan 04, 2022 (07:42PM)
News History
22849/22850 Shalimar-Secunderabad-Shalimar Express will run with LHB rake w.e.f 01.12.2021 from Shalimar and 03.12.2021 from Secunderabad.
Tue Nov 30, 2021 (03:58PM)
2 Follows
Inaugural Run
Fri Feb 24, 2012
Pantry/Catering
✕ Pantry Car
✓ On-board Catering
✓ E-Catering
Updated: Feb 19 (09:09) by TSAnubharadwaj^
Dep:
Arr:
Rating: 3.8/5 (21 votes)
cleanliness - good (4)
punctuality - good (4)
food - good (3)
ticket avbl - good (4)
u/r coach - good (3)
railfanning - good (3)
safety - good (3)
LHB Rake

Rake/Coach Position

  0
  L
  1
EOG
  2
 GS
  3
 GS
  4
 S1
  5
 S2
  6
 S3
  7
 S4
  8
 S5
  9
 S6
 10
 S7
 11
 M1
 12
 M2
 13
 M3
 14
 B1
 15
 B2
 16
 B3
 17
 B4
 18
 B5
 19
 A1
 20
 A2
 21
SLR
VSKP
News
PNR
Forum
Time-Table
Availability
Fare Chart
Map
Arr/Dep History
Trips
Gallery
ΣChains
X/O
Timeline
Train Pics
Tips

Train News

Page#    13 News Items  
दक्षिण पूर्व रेलवे ने 22 जोड़ी गाड़ियाँ मेल एक्सप्रेस विशेष श्रेणी में शुरू करने हेतु नामित की है। यह विशेष गाड़ियाँ संक्रमण कालीन निर्बंधोके तहत अधीन रहकर चलाई जाएगी। नामित गाड़ियोंके क्रमांक नियमित गाड़ियोंके ही दिए गए है जो विशेष श्रेणी में चलाए जाने में ‘0’ क्रमांक से शुरू होंगे और अलग भी हो सकते है, साथ ही गाड़ियोंका शेड्यूल, फेरे, स्टापेजेस में भी बदलाव हो सकता है जो दपू रेल द्वारा अलग से घोषित किया जाएगा।

1: 18103/04 टाटानगर अमृतसर टाटानगर प्रतिदिन
...
more...

2: 18637/38 हटिया बेंगालुरु कैंट हटिया साप्ताहिक

3: 12841/42 हावड़ा डॉ एम जी आर चेन्नई सेंट्रल हावडा कोरोमण्डल प्रतिदिन

4: 12870/69 हावड़ा छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस हावडा साप्ताहिक

5: 22894/93 हावड़ा साईं नगर शिर्डी हावड़ा साप्ताहिक

6: 22831/32 हावड़ा श्री सत्य साईं प्रसादम निलायम हावड़ा साप्ताहिक

7: 22855/56 सांतरागाछी तिरुपति सांतरागाछी साप्ताहिक

8: 22849/50 शालीमार सिकंदराबाद शालीमार साप्ताहिक

9: 22837/38 हटिया एर्नाकुलम हटिया धरती आभा साप्ताहिक

10: 12817/18 हटिया आनंदविहार टर्मिनस हटिया त्रिसाप्ताहिक

11: 12825/26 राँची आनंदविहार टर्मिनस राँची झारखंड सम्पर्क क्रान्ति द्विसाप्ताहिक

12: 12871/72 हावड़ा टिटलागढ़ हावडा इस्पात प्रतिदिन

13: 22857/58 सांतरागाछी आनंदविहार टर्मिनस सांतरागाछी साप्ताहिक

14: 18117/18 राउरकेला गुणुपुर राउरकेला राज्यरानी प्रतिदिन

15: 20822/21 सांतरागाछी पुणे सांतरागाछी साप्ताहिक

16: 22853/54 शालीमार विशाखापट्टनन शालीमार साप्ताहिक

17: 18107/08 राउरकेला जगदलपुर राउरकेला इन्टरसिटी प्रतिदिन

18: 22887/88 हावड़ा यशवंतपुर हावडा साप्ताहिक

19: 18640/39 राँची आरा राँची साप्ताहिक

20: 12885/86 शालीमार भुज शालीमार साप्ताहिक

21: 18635/36 राँची सासाराम राँची सप्ताह में 6 दिन

22: 12873/74 हटिया आनंदविहार टर्मिनस हटिया त्रिसाप्ताहिक

कृपया रेलवे की अधिकृत घोषणाओंपर ध्यान दीजिए, जल्द ही विशेष क्रमांक के साथ उपरोक्त गाड़ियाँ चलने लगेगी।
Mar 08 2021 (15:58) Railway News: रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी, इस महीने के अंत तक दौड़ने लगेंगी 47 ट्रेनें; किराया भी होगा कम (m.jagran.com)
New/Special Trains
SER/South Eastern
0 Followers
544127 views

News Entry# 443265  Blog Entry# 4900344   
  Past Edits
Mar 08 2021 (15:59)
Station Tag: Kolkata Shalimar/SHM added by Adittyaa Sharma/1421836

Mar 08 2021 (15:59)
Station Tag: Santragachi Junction/SRC added by Adittyaa Sharma/1421836

Mar 08 2021 (15:59)
Station Tag: Howrah Junction/HWH added by Adittyaa Sharma/1421836

Mar 08 2021 (15:59)
Station Tag: Tatanagar Junction/TATA added by Adittyaa Sharma/1421836

Mar 08 2021 (15:59)
Station Tag: Hatia/HTE added by Adittyaa Sharma/1421836

Mar 08 2021 (15:58)
Station Tag: Ranchi Junction/RNC added by Adittyaa Sharma/1421836
Trains:  Howrah - Digha SUPER AC Express/12847   Digha - Howrah SUPER AC Express/12848   Aranyak Express/12885   Coromandel Express/12841   East Coast Express/18045   Ranchi - Ajmer Garib Nawaz Express/18631S   Mumbai CSMT - Howrah Weekly SF Express/12869   Samaleswari Express/18005   Howrah - Titlagarh -Kantabanji Ispat Express/12871   Tatanagar - Amritsar Jallianwala Bagh Express/18103   Tatanagar - Jammu Tawi Express/18101   Jharkhand Sampark Kranti Express/12825   Jharkhand Sampark Kranti Express/12826   Jharkhand Swarna Jayanti Express (via NSCB Jn. Gomoh)/12817   Jharkhand Swarna Jayanti Express (Via Barkakana)/12873   Jharkhand Swarna Jayanti Express (Via Barkakana)/12874   Neelachal Express/12876   Patliputra Express/18622   Shalimar - Mumbai Lokmanya Tilak Terminus Express/18030   Ranchi - Banaras Express/18611   Shalimar - Vasco-da-Gama Amaravati Express/18047   Tamralipta Express/12858   Kandari Express/22897   Ranchi - Howrah Intercity Express (Via Adra)/18628   Howrah - Mumbai CSMT AC Duronto Express/12262   Mumbai CSMT - Howrah AC Duronto Express/12261   Howrah - Sainagar Shirdi SF Express/22894   Shalimar - Visakhapatnam SF Express/22853   Howrah - Mysuru Weekly SF Express/22817   Santragachi - Mangaluru Central Vivek Express/22851   Shalimar - Secunderabad Weekly SF Express/22849   Santragachi - Ajmer Weekly Express/18009   Shalimar - MGR Chennai Central Weekly SF Express/22825   Shalimar - Bhuj Weekly SF Express/22830   Hatia - SMVT Bengaluru Weekly Express/18637   Santragachi - Anand Vihar Terminal Weekly SF Express/22857   Santragachi - Tambaram Antyodaya Express/22841   Dharti Aaba AC SF Express/22837   Santragachi - Jabalpur Humsafar Express/20828   Ranchi - Sasaram Intercity Express/18635  
Posted by: Adi_18477_18478^~ 41071 news posts
IRCTC Indian Railway News मार्च के अंत में रांची रेल जोन से दौड़ने के लिए 47 ट्रेनें तैयार हैं। दो चरणों में ट्रेनों को चलाने का खाका तैयार हुआ है। ये ट्रेनें स्पेशल नहीं बल्कि नियमित बनकर चलेंगी।
रांची, [मुजतबा हैदर रिजवी]। IRCTC Indian Railway News दक्षिण पूर्व रेलवे ट्रेनों का परिचालन सामान्य करने की तरफ कदम बढ़ा रहा है। जोन में अप्रैल की शुरुआत तक दो चरणों में 47 नियमित ट्रेनों को दौड़ाने का खाका तैयार हुआ है। यह ट्रेनें दो चरणों में चलाई जाएंगी। पहले चरण में 29 ट्रेनें चलाने की बात कही जा रही है। दूसरे चरण में 18 ट्रेनें चलेंगी। पहले चरण में चलने के लिए प्रस्तावित 29 ट्रेनों की बोगियां और इंजन तैयार कर लिए गए हैं।
...
more...
रेलवे बोर्ड को प्रस्ताव भेज दिया गया है। रेलवे बोर्ड से जैसे-जैसे हरी झंडी मिलती जाएगी, ट्रेनों को चलाने का काम शुरू कर दिया जाएगा।
गौरतलब है कि पिछले साल कोरोना वायरस के कारण लाॅकडाउन में ट्रेनों का परिचालन बंद कर दिया गया था। अब रेलवे बोर्ड के आदेश से धीरे-धीरे परिचालन सामान्य किया जा रहा है। दक्षिण पूर्व जोन में कई मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें शुरू कर दी गई हैं। दक्षिण पूर्व जोन में अभी 43 ट्रेनें दौड़ रही हैं। जल्द ही 47 और ट्रेनों को चलाने की कवायद शुरू कर दी गई है। रेलवे के मैकेनिकल विभाग को 47 ट्रेनों को तैयार करने का निर्देश दिया गया है। पहले चरण में 29 ट्रेनें तैयार कर ली गई हैं। दूसरे चरण के लिए 18 ट्रेन तैयार करने का निर्देश है। इसके बाद दक्षिण पूर्व जोन का मैकेनिकल विभाग इन 18 ट्रेनों के इंजन और बोगियों को तैयार करने में जुट गया है।
सीपीटीएम ने लिया तैयारी का जायजा
इसे लेकर कुछ दिनों पहले दक्षिण पूर्व रेलवे के हेड क्वार्टर गार्डन रीच में चीफ पैसेंजर ट्रैफिक मैनेजर (सीपीटीएम) और प्रिंसिपल चीफ मैकेनिकल इंजीनियर ने एक मीटिंग कर ट्रेनों का परिचालन सामान्य करने की तैयारी का जायजा लिया। इस बैठक में दक्षिण पूर्व रेलवे के चीफ रोलिंग स्टॉक इंजीनियर मोहम्मद असद आलम ने जानकारी दी कि दक्षिण पूर्व रेलवे ट्रेनों का परिचालन सामान्य करने के लिए पूरी तरह तैयार है। जोन में दूसरे चरण के लिए जिन 29 ट्रेनों की सूची तैयार की है, उनका इंजन और बोगियां तैयार कर दी गई हैं।
रांची व हटिया की 13 और टाटा की ट्रेनें
दक्षिण पूर्व जोन से चलने वाली इन ट्रेनों में 13 ट्रेनें रांची और हटिया की हैं। इनमें 8 ट्रेनें रांची रेलवे स्टेशन से और 5 ट्रेनें हटिया रेलवे स्टेशन से चलेंगी। पहले चरण में हटिया और रांची से पांच-पांच ट्रेनें चलाने की योजना है। जबकि दूसरे चरण में रांची की तीन ट्रेन चलाई जाएगी। जबकि चार ट्रेनें टाटानगर रेलवे स्टेशन से दौड़ेंगी। टाटानगर रेलवे स्टेशन से पहले चरण में 2 और दूसरे चरण में 2 ट्रेन दौड़ाने की योजना है।
स्पेशल नहीं नियमित तौर पर चलेंगी यह ट्रेनें, कोच तैयार
यह 47 ट्रेनें स्पेशल नहीं बल्कि नियमित ट्रेन के तौर पर चलाई जाएंगी। इनमें से टाटा यशवंतपुर और रांची हावड़ा रांची इंटरसिटी एक्सप्रेस समेत तीन ट्रेनों को भी स्पेशल श्रेणी से हटाकर नियमित ट्रेन की श्रेणी में चलाया जाएगा। अभी यह तीन ट्रेनें स्पेशल ट्रेन के तौर पर चल रही हैं।
सामान्य होगा ट्रेनों का किराया
रेलवे के अधिकारियों का कहना है कि स्पेशल ट्रेनों का किराया अधिक रखा गया है। लेकिन नियमित ट्रेनें दौड़ने लगेंगी तो इनमें वही किराया लगेगा जो पहले था। यानी किराया सामान्य कर दिया जाएगा।
पहला चरण
ट्रेन नंबर 12262, 12261 दुरंतो एक्सप्रेस हावड़ा छत्रपति शिवाजी टर्मिनल 19 कोच
ट्रेन नंबर 12817 12858 हटिया आनंद विहार झारखंड एसजे एक्सप्रेस 22 कोच
ट्रेन नंबर 12873, 12874 हटिया आनंद विहार झारखंड स्वर्ण जयंती एक्सप्रेस 22 कोच
ट्रेन नंबर 12825, 12826 रांची नई दिल्ली झारखंड संपर्क क्रांति एक्सप्रेस 16 कोच
ट्रेन नंबर 12847, 12848 हावड़ा दीघा सुपर फास्ट 10 कोच
ट्रेन नंबर 12876, 12869 हावड़ा छत्रपति शिवाजी टर्मिनल,  22 कोच
ट्रेन नंबर 22853 शालीमार विशाखापट्टनम एसएफ एक्सप्रेस 22 कोच
ट्रेन नंबर 12871 इस्पात एक्सप्रेस 21 कोच
ट्रेन नंबर 22837 धरती आबा एक्सप्रेस हटिया एर्नाकुलम  16 कोच
ट्रेन नंबर 18637 हटिया बेंगलुरु कैंट एक्सप्रेस 19 कोच
ट्रेन नंबर 20828 संतरागाछी जबलपुर हमसफर एक्सप्रेस विस्कोज
ट्रेन नंबर 22841 संतरागाछी चेन्नई सेंट्रल अंत्योदय एक्सप्रेस 18 कोच
ट्रेन नंबर 22857 संतरागाछी आनंद विहार वीकली एक्सप्रेस 18 कोच
ट्रेन नंबर 22894 हावड़ा शिरडी साईं नगर एक्सप्रेस 18 कोच
ट्रेन नंबर 18628 रांची हावड़ा इंटरसिटी एक्सप्रेस 14 कोच
ट्रेन नंबर 22897 हावड़ा दीघा कंदारी एक्सप्रेस 17 कोच
ट्रेन नंबर 107 शालीमार भांजपुर एक्सप्रेस  आठ कोच
ट्रेन नंबर 18103 टाटा अमृतसर एक्सप्रेस 23 कोच
ट्रेन नंबर 18101 टाटा जम्मू तवी एक्सप्रेस 9 कोच
ट्रेन नंबर 18611 रांची मंडुवाडीह एक्सप्रेस 13 कोच
ट्रेन नंबर 18631 रांची अजमेर गरीब नवाज एक्सप्रेस 16 कोच
ट्रेन नंबर 12841 हावड़ा चेन्नई एमजीआर कोरोमंडल एक्सप्रेस 24 कोच
ट्रेन नंबर 22817 हावड़ा मैसूर वीकली एक्सप्रेस 23 कोच
ट्रेन नंबर 22849 शालीमार सिकंदराबाद एसएफ एक्सप्रेस 22 कोच
ट्रेन नंबर 12885 शालीमार भोजोडीह एक्सप्रेस 10 कोच
ट्रेन नंबर 18047 हावड़ा वास्कोडिगामा अमरावती एक्सप्रेस 21 कोच
ट्रेन नंबर 18645 हावड़ा हैदराबाद ईस्ट कोस्ट एक्सप्रेस 23 कोच
ट्रेन नंबर 18635 रांची सासाराम एक्सप्रेस 17 कोच
ट्रेन नंबर 18622 हटिया पटना पाटलिपुत्र एक्सप्रेस 16 कोच
द्वितीय चरण
ट्रेन नंबर 18005 कोरापुट समलेश्वरी एक्सप्रेस हावड़ा जगदलपुर 24 कोच
ट्रेन नंबर 18009 संतरागाछी अजमेर एक्सप्रेस 22 कोच
ट्रेन नंबर 22825 शालीमार चेन्नई एक्सप्रेस 23 कोच
ट्रेन नंबर 22830 शालीमार भुज एक्सप्रेस 23 कोच
ट्रेन नंबर 22851 संतरागाछी मंगलुरू विवेक एक्सप्रेस  23 कोच
ट्रेन नंबर 18030 शालीमार लोकमान्य तिलक एक्सप्रेस ‌24 कोच
ट्रेन नंबर 28181 टाटा कटिहार लिंक एक्सप्रेस 18 कोच
ट्रेन नंबर 18603 रांची भागलपुर एक्सप्रेस 13 कोच
ट्रेन नंबर 18613 रांची चोपन एक्सप्रेस 12 कोच
ट्रेन नंबर 18106 राउरकेला जगदलपुर एक्सप्रेस 11 कोच
ट्रेन नंबर 18639 रांची आरा एक्सप्रेस  14 कोच
ट्रेन नंबर 18117 राउरकेला गुनोपुर राजरानी एक्सप्रेस  16 कोच
ट्रेन नंबर 18111 टाटा यशवंतपुर एक्सप्रेस 20 कोच
ट्रेन नंबर 20889 हावड़ा तिरुपति हमसफर एक्सप्रेस 19 कोच
ट्रेन नंबर 22887 हावड़ा यशवंतपुर एक्सप्रेस 19 कोच
ट्रेन नंबर 22831 हावड़ा श्री सत्य साईं प्रशांति नीलायम सुपरफास्ट‌ 23 कोच
ट्रेन नंबर 22855 संतरागाछी तिरुपति एक्सप्रेस 23 कोच
'रेलवे बोर्ड ट्रेनों का परिचालन सामान्य करने की तैयारी में जोर शोर से जुटा है। जल्द ही नियमित ट्रेनों का परिचालन शुरू कर दिया जाएगा। इसकी कवायद चल रही है।' -एस घोष, मुख्य जनसंपर्क अधिकारी, दक्षिण पूर्व रेलवे।




Mar 07 2021 (21:19) बड़ी खबर : द पु रेल की 29 जोड़ी गाड़ी चल पड़ने के लिए तैयार है। (wp.me)
New/Special Trains
ECR/East Central
0 Followers
399581 views

News Entry# 443086  Blog Entry# 4899776   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
Trains:  Howrah - Digha SUPER AC Express/12847   Aranyak Express/12885   Coromandel Express/12841   East Coast Express/18045   Mumbai Lokmanya Tilak Terminus - Shalimar Express/18029   Howrah - Mumbai CSMT Weekly SF Express/12870   Samaleswari Express/18005   Howrah - Titlagarh -Kantabanji Ispat Express/12871   Tatanagar - Amritsar Jallianwala Bagh Express/18103   Tatanagar - Jammu Tawi Express/18101   Jharkhand Sampark Kranti Express/12825   Jharkhand Swarna Jayanti Express (via NSCB Jn. Gomoh)/12817   Jharkhand Swarna Jayanti Express (Via Barkakana)/12873   Yesvantpur - Puri Weekly Garib Rath Express/22884   Patliputra Express/18622   Howrah - Puri SF Express/12837   Ranchi - Banaras Express/18611   Shalimar - Vasco-da-Gama Amaravati Express/18047   Kandari Express/22897   Ranchi - Howrah Intercity Express (Via Adra)/18628   Howrah - Mumbai CSMT AC Duronto Express/12262   Howrah - Mysuru Weekly SF Express/22817   Santragachi - Mangaluru Central Vivek Express/22851   Shalimar - Secunderabad Weekly SF Express/22849   Santragachi - Ajmer Weekly Express/18009   Shalimar - MGR Chennai Central Weekly SF Express/22825   Shalimar - Bhuj Weekly SF Express/22830   Hatia - SMVT Bengaluru Weekly Express/18637   Santragachi - Anand Vihar Terminal Weekly SF Express/22857   Santragachi - Tambaram Antyodaya Express/22841   Santragachi - Jabalpur Humsafar Express/20828   Ranchi - Sasaram Intercity Express/18635  
Posted by: SmallTownTraveller^~ 4282 news posts
द पु रेल की फ़िलहाल 43 जोड़ी गाड़ी भारतीय रेल नेटवर्क में चल रही है। मुख्यालय से इस बात की पुरजोर कोशिश की जा रही है, और भी गाड़ियाँ यात्री सेवाओं में लायी जाए। इसी कार्यक्रम में अपनी कोच, रैक की अद्यतनीकरण किया गया, जिसमे अलग अलग सूचियां बनाई गई। सूची में पहली 29 जोड़ी गाड़ियाँ है, जो बिल्कुल तैयार है और एक आदेश पर चलाई जा सकती है।

इन गाड़ियोंमे 12262/61 हावडा मुम्बई हावडा वातानुकूलित दुरन्तो, 12817/18 और 12873/74 हटिया आनंदविहार हटिया 2 जोड़ी, 12825/26 राँची नई दिल्ली राँची, 12847/48 हावडा
...
more...
दिघा हावडा, 12870/69 हावडा मुम्बई हावडा साप्ताहिक, 22753/54 शालीमार विशाखापट्टनम शालीमार, 12871/72 हावडा टिटलागढ़ हावडा, 12837/38 हटिया एर्नाकुलम हटिया, 18637/38 हटिया बेंगलुरु कैंट हटिया, 20828/27 सांतरागाछी जबलपुर, 22841/42 सांतरागाछी चेन्नई, 22857/58 सांतरागाछी आनंदविहार, 22884/83 हावडा शिर्डी, 18628/27 राँची हावडा, 22897/97 हावडा दिघा, 18097/08 शालीमार भांजपुर, 18103/04 टाटा यशवंतपुर, 18101/02 टाटा जम्मूतवी, 18611/12 राँची मंडुआडीह, 17631/32 राँची अजमेर, 12841/42 हावडा चेन्नई, 22817/18 हावडा मैसूरु, 22849/50 शालीमार सिकन्दराबाद, 12885/86 शालीमार भोजूडीह, 18047/48 हावडा वास्को, 18645/46 हावडा हैदराबाद, 18635/36 राँची सासाराम, 18622/21 हटिया पटना यह गाड़ियाँ है। इनका विस्तृत वर्णन निम्नलिखित पत्रक में है।

सूची में दूसरे क्रमांक पर 18 जोड़ी वह गाड़ियाँ है, जिनके रैक पूरी तरह से उपलब्ध नही है अतः उन गाड़ियोंके फेरे पूर्णतयः नही चलाए जा सकते।

18 जोड़ी वह गाड़ियाँ है, जिनके लिए रैक उपलब्ध नही है। इसमें प्रमुख 18029/30 शालीमार लोकमान्य तिलक टर्मिनस प्रतिदिन, 22830/29 शालीमार भुज, 18005/06 हावडा जगदलपुर, 18009/10 सांतरागाछी अजमेर, 22825/25 शालीमार चेन्नई, 22851/52 शालीमार मंगालुरु, टाटा कटिहार, छपरा फर्रूखाबाद, राँची चोपन, राँची भागलपुर, राउरकेला जगदलपुर, राँची आरा, राँची गुनूपुर, टाटा यशवंतपुर, हावडा तिरुपति, हावडा यशवंतपुर, हावडा सत्य साईं निलयम, सांतरागाछी तिरुपति यह गाड़ियाँ शुरू करने में रैक की उपलब्धता नही है।

दपुरे कुछ छोटे दूरी की गाड़ियाँ भी चलवा सकता है। जिनके रैक की उपलब्धता जानी गयी। इसमें यह पाया गया की 6 जोड़ी सवारी गाड़ियोंके रैक उपलब्ध है और उन्हें कभी भी शुरू किया जा सकता है। वहीं 9 सवारी गाड़ियोंके रैक तैयार करने में दिक्कतें है।

6 जोड़ी सवारी गाड़ियोंके रैक उपलब्ध है, और कभी भी शुरू की जा सकती है। वह है, हावडा आद्रा, हटिया शंकी, खड़गपुर टाटा, टाटा बरकाकाना, राउरकेला पूरी

वहीं 9 जोड़ी सवारी गाड़ियोंके रैक अनुपलब्ध है, जिनमे खड़गपुर खुर्दा रोड, टाटा चाकुलिया, खड़गपुर हटिया, टाटा गुआ, टाटा इतवारी, टाटा बिलासपुर, इतवारी भिमालगोंदी, इतवारी केलोद और खुर्दा रोड पुरी यह गाड़ियाँ है।



May 23 2020 (16:35) कोरोना प्रबंधन का पूर्वोत्‍तर मॉडल (pib.gov.in)
Commentary/Human Interest
0 Followers
40174 views

News Entry# 408931  Blog Entry# 4635543   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
Posted by: Rang De Basanti^ 138863 news posts
प्रविष्टि तिथि: 20 MAY 2020 3:20PM by PIB Delhi
कोरोना प्रबंधन पर केन्‍द्रीय पूर्वोत्‍त्‍र क्षेत्र विकास राज्य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) डॉ. जितेंद्र सिंह द्वारा लिखित लेख इस प्रकार है।
“प्रधान मंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने हमेशा पूर्वोत्तर को सर्वोच्च प्राथमिकता दी है। 2014 में मोदी सरकार के सत्ता में आने के तुरंत बाद, प्रधान मंत्री ने कहा था कि पूर्वोत्तर क्षेत्र को देश के अधिक विकसित क्षेत्रों की बराबरी पर लाने का हर संभव प्रयास किया जाएगा। पिछले छह वर्षों में, हम "अपनी कथनी के अनुसार काम करने में" समुचित रूप से सफल
...
more...
रहे। न केवल मनोवैज्ञानिक खाइयों को पाटा गया, बल्कि तेज गति विकास गतिविधि भी देखी गई, इस प्रकार पूर्वोत्‍तर को विकास के मॉडल के रूप में प्रस्तुत किया गया।
पूर्वोत्तर को कुल मिलाकर उच्च प्राथमिकता देने का बढ़ता प्रभाव वर्तमान कोरोना महामारी के दौरान भी देखा गया, चाहे वह आवश्यक वस्तुओं की प्रारंभिक और पर्याप्त एयर कार्गो आपूर्ति के रूप में हो या अन्य देशों के साथ सीमा की प्रारंभिक सीलिंग या एक दूसरे से दूरी बनाए रखने (सोशल डिस्‍टेंसिंग) जैसे दिशा-निर्देशों का पालन करने में नागरिक समाज की अत्यधिक प्रेरित भागीदारी क्‍यों न हो।
इसका परिणाम यह है कि, यदि पिछले छह वर्षों में मोदी सरकार के तहत पूर्वोत्तर विकास के एक मॉडल के रूप में उभरा है, तो पिछले छह हफ्तों में, पूर्वोत्तर कोरोना प्रबंधन के एक मॉडल के रूप में उभरा है।
वास्तव में, भारत सरकार द्वारा पेश उदार समर्थन के साथ सभी पूर्वोत्तर राज्यों द्वारा उठाए गए अत्‍यधिक सक्रिय कदमों ने शेष भारत की तुलना में इस क्षेत्र की इस महामारी से बेहतर सामना करने में मदद की है। पूर्वोत्‍तर क्षेत्र में प्रभावी कोविड-19 प्रबंधन के सांख्यिकीय प्रमाण नीचे दी गई तालिका से परिलक्षित होते हैं:
तालिका : पूर्वोत्‍तर क्षेत्र में कोविड-19 की साप्‍ताहिक संचयी स्थिति
क्रम संख्‍या
दिनांक
मामलों की जांच
नैगेटिव मामले
पॉजीटिव मामले
Persons Cured
Deaths
1
7 .4.2020
2931
2800
32
0
0
2
14.4.2020
5017
4696
38
1
1
3
21.4.2020
9580
9160
53
23
2
4
28.4.2020
16022
15782
55
32
2
5
5.05.2020
22849
21719
88
48
2
6
12.5.2020
37120
34962
235
55
3
7
18.5.2020
60063
57573
291
142
4

पूर्वोततर राज्यों द्वारा किए गए उपायों की सफलता इस तथ्य से स्पष्ट है कि सिक्किम और नागालैंड में आज तक एक भी कोविड-19 का पॉजीटिव मामला नहीं है। अरुणाचल प्रदेश और मिजोरम में एक-एक मरीज था, जो ठीक हो गए हैं। मेघालय में एक विदेशी यात्री के कारण शिलांग के एक अस्पताल में 13 मामले सामने आए, जिसमें से एक की मौत हो गई, लेकिन अन्य सभी लोग अब तक ठीक हो चुके हैं और मेघालय भी अब कोविड मुक्‍त है। वास्तव में, आज पूर्वोत्‍तर के पांच राज्य अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड और सिक्किम कोविड-19 मुक्त हैं।पूर्वोत्‍तर के सबसे बड़े राज्य, असम में कुछ मामले हैं, लेकिन राज्य ने महामारी का बहुत अच्छी तरह से मुकाबला किया और स्थानीय क्षेत्रों में प्रभावी तरीके से इसकी रोकथाम की। इसी तरह, मणिपुर और त्रिपुरा दोनों में प्रत्येक में 2-2 मामले थे, जिनका इलाज किया गया और राज्यों को कोविडमुक्त घोषित किया गया, हालांकि, संक्रमित प्रवासियों के कारण मई के पहले सप्ताह में, त्रिपुरा में वहां तैनात सीएपीएफ में विशेष रूप से मामलों में एक तेजी देखी गई। मणिपुर में पिछले 3-4 दिनों में प्रवासियों से संबंधित 5 नए मामले भी देखे गए हैं।
लॉकडाउन को कड़ाई से लागू करने में केन्‍द्र और राज्य सरकारों की त्वरित प्रतिक्रिया के कारण यह संभव हुआ है; एयर कार्गो और वायु सेना के माध्यम से दवा और उपकरणों की शीघ्र आपूर्ति; जांच सुविधाओं और जांच संख्‍या के बढ़ने; कोविड संबंधी स्वास्थ्य बुनियादी ढांच का उन्नयन और पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना के माध्यम से पीडीएस और समाज के सबसे कमजोर वर्गों के माध्यम से सभी नागरिकों को आवश्यक आपूर्ति उपलब्ध कराना।
सिक्किम और नागालैंड में जांच की कोई सुविधा नहीं थी जबकि असम में केवल 2 जांच केन्‍द्र थे। इस अवधि में, असम के सभी मेडिकल कॉलेजों में जांच की सुविधा की संख्या बढ़ा दी गई। कोहिमा, नागालैंड में प्रयोगशाला अब कार्य कर रही है और सिक्किम में ट्रूएनएएटीमें जांच शुरू हो गई है जबकि आरटी-पीसीआर प्रयोगशाला शीघ्र ही काम करने लगेगी। इस क्षेत्र में जांच सुविधाओं के विस्तार के परिणामस्वरूप, अप्रैल 2020 के पहले सप्ताह में इस क्षेत्र में जांच की गति 2931 से बढ़कर मई,2020 के मध्य में तक 60063 हो गई है, जो प्रति दिन औसतन 300 से इस अवधि के दौरान 3800 प्रति दिन है। इसके कारण जहां भी आवश्यक होता है, शीघ्र देखभाल और अस्पताल में भर्ती कराया जाता है।

पूर्वोत्‍तर के सभी राज्यों में लॉक-डाउन उपायों को प्रभावी ढंग से लागू किया गया था। संबंधित राज्यों ने न केवल दूसरे राज्य से लगी सीमाओं को बंद कर दिया था, बल्कि पूर्वोत्‍तर राज्‍य, जो 5000 से अधिक किलोमीटर की अंतरराष्ट्रीय सीमाओं को साझा करते हैं, उन्‍हें सीमा की रक्षा करने वाले बलों और स्थानीय जनता ने प्रभावी रूप से बंद कर दिया गया था। राज्यों ने स्थिति की निगरानी के लिए मुख्य सचिवों की अध्यक्षता में टास्क फोर्स का गठन किया है। साथ ही महामारी पर नजर रखने के लिए जिला कलेक्टरों के अधीन जिला स्तरीय टास्क फोर्स का गठन किया गया। जिला स्तर पर नियंत्रण कक्ष स्थापित किए गए। पूर्वोत्‍तर राज्यों में गौर करने योग्‍य सिक्किम था, जहां 5 मार्च, 2020 को विदेशी नागरिकों के लिए इनर लाइन परमिट निलंबित कर दिए गए थे और स्थानीय पर्यटकों के लिए नाथुला दर्रा बंद कर दिया गया था। इसके अलावा, राज्य में घरेलू पर्यटकों के प्रवेश को राष्ट्रीय लॉक-डाउन से बहुत पहले 16 मार्च, 2020 को निलंबित कर दिया गया। इससे यह सुनिश्चित हो गया कि सिक्किम जो कि सबसे बड़े पर्यटक केन्‍द्रों में से एक है, कोविड-19 से मुक्त रहा है।
जानकार बूढ़े पुरुषों और महिलाओं की एक 'रेड आर्मी' नोवल कोरोना वायरस को दूर रखने के लिए पूर्वोत्तर के कुछ पहाड़ी राज्यों में गांवों की मदद कर रही है। गाँव के बूढ़े(गांव के पुरुष बुजुर्ग) और गाँव की बूढि़यां(गाँव की महिला बुजुर्ग) - आमतौर पर जिनका जिक्र जीबी के रूप में किया जाता है गाँवों और दुश्मन के बीच एक ढाल बनाने में अपने पूर्वजों का अनुसरण करते हैं-इस मामले में, वायरस नागालैंड जैसे राज्यों का महामारी से मुकाबला करने में मदद कर रहे हैं। नागालैंड में जीबी की सहायता करने वालेनागा प्रचलित कानूनों के संरक्षकडोबशी हैं, जो लाल कोट पहनते हैं, वे 1842 से वेतनभोगी सरकारी कर्मचारी हैं, जो राज्य सरकार के अंतर्गत काम कर रहे हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सभी की आवश्यकताएं पूरी हों।

May 20 2020 (17:03) Northeast model of Corona management (pib.gov.in)
Commentary/Human Interest
0 Followers
34895 views

News Entry# 408621  Blog Entry# 4631744   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
Posted by: Rang De Basanti^ 138863 news posts
Posted On: 20 MAY 2020 3:20PM by PIB Delhi
Following is the text of the article written by Union Minister of State for Development of North Eastern Region (I/C) Dr Jitendra Singh on Corona Management.
“Prime Minister Shri Narendra Modi has always accorded highest priority to Northeast. Soon after the Modi government took over in 2014, Prime Minister had stated that every effort would be made to bring the North Eastern region at par with the more developed regions of the country. In the last six years, we have been reasonably successful in
...
more...
"walking the talk" and not only the psychological gaps were bridged but fast pace development activity was also witnessed, thus presenting North East as a model of development.
The cumulative effect of overall high prioritization of Northeast was witnessed even during the current Corona pandemic, whether it was in the form of early and adequate Air Cargo supply of essential commodities or early sealing of border with other countries or highly motivated participation of civil society in observing guidelines like social distancing etc.
The result is that, if under the Modi government in the last six years Northeast emerged as a model of development, in the last six months Northeast has emerged as a model of Corona management.
In fact, the pro-active steps taken by all the North Eastern States coupled with the liberal support offered by the Government of India have helped the region to cope up better compared to rest of India. The statistical evidence of effective COVID-19 management in North Eastern Region is reflected by the table below:
Table: Weekly Cumulative COVID-19 Status in the North Eastern Region
Sl. No.
Date
Cases tested
Negative Cases
Positive Cases
Persons Cued
Deaths
1
7 .4.2020
2931
2800
32
0
0
2
14.4.2020
5017
4696
38
1
1
3
21.4.2020
9580
9160
53
23
2
4
28.4.2020
16022
15782
55
32
2
5
5.05.2020
22849
21719
88
48
2
6
12.5.2020
37120
34962
235
55
3
7
18.5.2020
60063
57573
291
142
4

The success of the measures taken by North Eastern States is evident from the fact that Sikkim and Nagaland do not have a single COVID-19 positive case till date. Arunachal Pradesh and Mizoram had one patient each, which have since been cured. Meghalaya had 13 cases in a hospital in Shillong due to a foreign traveller, which led to one death, but all others have since recovered and Meghalaya is also COVID free now. In effect, as on today, five states of NE viz. Arunachal Pradesh, Meghalaya, Mizoram, Nagaland and Sikkim are CIVID-19 free. The biggest State in North East, Assam has a few cases, but the State has handled the epidemic very well and effectively contained it in local areas. Similarly, both Manipur and Tripura had 2 cases each, which were cured and the States were declared COVID free, however, in the first week of May due to infected migrants, Tripura has seen a large spurt in cases particularly in CAPFs deployed there. Manipur has also seen 5 new case in last 3-4 days related to migrants.
This has been made possible due to prompt response of Central and State Governments in enforcing strict lockdowns; prompt supply of medicine and equipment via Air Cargo and Air Force; quick ramp up of testing facilities and number of testing facilities; upgradation of COVID related health infrastructure and making available essential supplies to all citizens through PDS and the weakest sections of the society through PM Garib Kalyan Anna Yojana.
Sikkim and Nagaland did not have any testing facility while Assam had 2 only. Over the period, the number of testing facility has been extended to all Medical Colleges in Assam. The lab in Kohima, Nagaland is now functional and in Sikkim TrueNAAT testing has started while RT-PCR lab would be functional shortly. As a result of extension of testing facilities in the region, the pace of testing in the region has increased from 2931 in first week of April 2020 to 60063 in mid-May, 2020, from an average of 300 per day to 3800 per day during this period. Leading to prompt care and hospitalizations, wherever required.
Lock-down measures in all the NE States were implemented effectively. Not only inter-state borders were closed by the respective States, but also NE States, which shares more than 5000 kilometers international borders were effectively closed by border Guarding Forces and local public. States have set up Task Force under Chairmanship of Chief Secretaries to monitor the situation. Also, District level Task Force under District Collectors was constituted to monitor the pandemic. Control rooms were set up at district levels. Notable among the NE States was Sikkim, where Inner line permits for foreign nationals were suspended on 5th March, 2020 and Nathula pass was closed for local tourists. Further, entry of domestic tourists into the State was suspended on 16th March, 2020, which is much before the national lock-down. This ensured that Sikkim which is one of the biggest tourist hotspots has remained free from COVID-19.
A ‘red army’ of wise old men and women are helping villages across some hill States in the northeast to keep the novel corona virus away. The gaon buras (male villager elder) and gaon buris (female village elder) – usually referred as GBs from following their predecessors in forming a shield between the villages and the enemy –in this case, the virus are helping the States like Nagaland to combat the epidemic. Assisting the GBs in Nagaland are dobashi, the custodians of Naga customary laws, who also wear red coats are salaried government employees since 1842 are working under the State Government to ensure everyone gets to access the necessities.
The Mizo society is one of the most cohesive and disciplined societies of the country. Its uniqueness is reflected in its social institutions encompassing an aware citizenry, NGOs, church and the civil society. In Mizoram people have observed tremendous self-discipline and practice social distancing once out of home. The enforcement of the lockdown on the international border was a humongous task given the porous nature of the border. However, the village societies and local task forces rose to the occasion in managing the inflow of people. Similarly, the migrant workers from far flung parts of the country were accounted for and measures were developed to support them in this period. Almost fifteen thousand guest workers were provided with adequate arrangements for their stay and food throughout the lockdown period.
The state of Manipur taught rest of the country how to effectively ensure social distancing by drawing circles in front of shops. All civil society organizations across NER actively helped to enforce lockdown and social distancing.
Ministry of Civil Aviation (MOCA), Ministry of Defence (MoD) and Ministry of Railways played a key role in providing medical supplies and equipments and essential commodities to the North Eastern States. 'Lifeline Udan' flights are being operated by MoCA to transport essential medical cargo to remote parts of the country to support India’s fight against COVID-19. The essential cargo includes reagents, enzymes, medical equipment, testing kits, Personal Protective Equipment (PPE), masks, gloves and other accessories required by Corona Warriors across the country. Through 'Lifeline Udan' supplies for domestic G2G movements of medical cargo to meet the requirements conveyed by state governments using Air India and Alliance Air have been effective in the region. Pharma, foodstuff and essential commodities required by the household and private sector (hospitals, etc), and also raw materials and machinery required by the Indian pharmaceuticals and medical equipment manufacturing industry were dispatched using all public and private airline carriers and air cargo. Helicopter services including Pawan Hans Ltd have been operating in North East region transporting critical medical cargo and patients. Pawan Hans till 30 April 2020 have carried 2.03 tons of cargo covering a distance of 7,529 kms. A portal for coordinating Lifeline Udan flights was developed by National Informatics Centre (NIC) and MoCA in a record span of three days to enable seamless coordination between various stakeholders.
There are no issues in supply of essential commodities and services in the region. As a part of its mission to ensure uninterrupted supply of essential commodities in NER during the nationwide lockdown, Northeast Frontier Railway (NFR) headquartered at Maligaon has operated more than 100 Parcel Express trains so far, bringing various kinds of commodities from major industrial hubs like Delhi, Mumbai, Nagpur, Bengaluru and Kolkata have arrived at Guwahati, New Guwahati, Azara, Changsari, Agartala and New Tinsukia during the last one-and-a-half-months. In many States, Home Delivery Supplies Management Control Rooms with Helpline were set up. State Governments have provided financial assistance to their people those who were stranded outside facing financial hardship on account of lockdown. The State Governments also distributed essential relief to people not covered by NFSA. Distribution of rice to the beneficiaries under 3 (three) schemes viz NFSA, PMGKAY and OMSS(D) is going on through the concerned Deputy Commissioners to both the beneficiaries of NFSA and the non-beneficiaries. Governments are also providing dry ration to the migrants, stranded truck drivers, govt. employees, children and other vulnerable groups. In Miozoram, Covid Task Force have been set up at State, district and local level further below. The local level task force consists of prominent people within each locality. They are part of Young Mizo Association and village/local councils. They have generally ensured smooth supplies of essentials, contact tracing & Social distancing compliance. The supply of essential commodities was maintained without any disruption and discomfort to the common man in Mizoram.
To meet the urgent requirements of medical supplies and equipments, Ministry of Health and Family Welfare has released Rs. 235.59 crore in March and April to all the NE States towards COVID-19. However, there are certain items and requirements which were not covered under MoH&FW grants. Ministry of Development of North Eastern Region came forward and sanctioned Rs. 25 crore to NE States as untied funds to meet urgent requirements, which were not possible to be met under other grants by Government of India..
Central Government has promptly released funds to State Governments to fight COVID effectively. Central Government has so far released a total of Rs. 7923.78 crore to the NE States (Arunachal Pradesh- Rs. 935.28 crore, Assam Rs. 3090.64 crore, Manipur – Rs. 822.22 crore, Meghalaya – Rs. 467.02 crore, Mizoram – Rs. 493.46 crore, Nagaland – Rs. 937.12 crore, Sikkim – Rs. 278.30 crore and Tripura – Rs. 899.74 crore) since April, 2020 under installments of revenue deficits of April and May 2020, first installment of Central Share of State Disaster Response Mitigation Fund (SDRMF) and States Share in Central Taxes.
The announcement of special economic package by the central government to uplift the industry specially the MSME and package for Agriculture including Animal Resources and Fisheries would will improve the livelihood scenario and give a new impetus to the small-scale industry which is the backbone of NER.
The next challenge before the states in NER is to receive its people stranded in different parts of the country who are returning home. Special trains have started arriving and arrangements have been made for travelers to be put in quarantine well before they mix with the community. Extensive testing is being done to isolate COVID positive people and treat them in dedicated facilities. The efforts of the central government and special initiatives of the Ministry of DoNER have won the hearts of people. The region is prepared and to meet any challenges that might arise in the future”.

VG/SNC

(Release ID: 1625332)
Page#    13 News Items  

Go to Full Mobile site