Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

Malgudi Express: From the pages of RK Narayan to the railway tracks of Mysore. - Vageesh

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Sun Jan 24 09:33:51 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Post PNRAdvanced Search

BSPC/SAIL Bhilai
     स्टील अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया लिमिटेड भिलाई इस्पात संयत्र
[M/s. Steel Authority of India Ltd. Bhilai Steel Plant]

Track: Triple Electric-Line

Show ALL Trains
9/29, NH6, Khursipar, Bhilai
State: Chhattisgarh

Elevation: 312 m above sea level
Zone: SECR/South East Central   Division: Raipur

No Recent News for BSPC/SAIL Bhilai
Nearby Stations in the News
Type of Station: Regular
Number of Platforms: n/a
Number of Halting Trains: 0
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Rating: 3.0/5 (8 votes)
cleanliness - good (1)
porters/escalators - good (1)
food - average (1)
transportation - poor (1)
lodging - good (1)
railfanning - average (1)
sightseeing - good (1)
safety - average (1)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 9 of 9 News Items  
Jul 06 2020 (14:22) Bhilai Steel Plant for 1st time delivers high speed rail tracks (www-livemint-com.cdn.ampproject.org)
0 Followers
10671 views

News Entry# 413203  Blog Entry# 4663186   
  Past Edits
Jul 06 2020 (14:22)
Station Tag: SAIL Bhilai/BSPC added by Today special for me keep guessing/2046224
Stations:  SAIL Bhilai/BSPC  
Bhilai Steel Plant delivered R-260 Rails to be used by Indian Railways for the first time: Minister of Railways Piyush Goyal
BHILAI : Minister of Railways Piyush Goyal on Sunday informed that the Bhilai Steel Plant for the first time delivered R-260 Rails to be used by Indian Railways.
Minister of Railways Piyush Goyal on Sunday informed that the Bhilai Steel Plant for the first time delivered R-260 Rails to
...
more...
be used by Indian Railways.
"Make in India Powers Rail Manufacturing: Fulfilling the requirements of higher speed and load on train tracks, Bhilai Steel Plant for the first time delivered R-260 Rails to be used by Indian Railways," Piyush Goyal tweeted.
"Make in India Powers Rail Manufacturing: Fulfilling the requirements of higher speed and load on train tracks, Bhilai Steel Plant for the first time delivered R-260 Rails to be used by Indian Railways," Piyush Goyal tweeted.
This story has been published from a wire agency feed without modifications to the text. Only the headline has been changed.

Jan 09 2020 (23:54) नौ महीने में ही नौ लाख टन से ज्यादा बनी रेल पटरी (www.naidunia.com)
Other News
0 Followers
5008 views

News Entry# 398637  Blog Entry# 4535999   
  Past Edits
Jan 09 2020 (23:55)
Station Tag: SAIL Bhilai/BSPC added by 12649⭐️ KSK ⭐️12650^~/1203948
Stations:  SAIL Bhilai/BSPC  
भिलाई। नईदुनिया प्रतिनिधि
एक तरफ हड़ताल के लिए संघर्ष चल रहा था। दूसरे तरफ यूनिवर्सल रेल मिल और रेल मिल में रेल पटरी उत्पादन का ग्राफ बढ़ाया जा रहा था।
भारतीय रेलवे की आवश्यकता को पूरा करने के लिए रेल के उत्पादन पर जोर बनाए हुए है। वर्तमान वित्त वर्ष के अप्रैल से दिसंबर तक नौ महीनों की अवधि में 9.23 लाख टन यूटीएस 90 प्राइम रेल्स का उत्पादन किया गया है। संयंत्र ने पिछले वित्तवर्ष के इसी अवधि के दौरान 6.63 लाख यूटीएस 90 प्राइम रेल्स के उत्पादन का रिकॉर्ड तोड़ते
...
more...
हुए संयंत्र ने इस वित्तवर्ष में 39.2 प्रतिशत की वृद्घि दर्ज की है। यह उल्लेखनीय है कि पिछले वित्तवर्ष 2018-19 की समग्र अवधि के दौरान संयंत्र ने यूटीएस 90 प्राइम रेल्स के 9.85 लाख टन का उत्पादन किया था।
आरएसएम व यूआरएम ने रेल्स उत्पादन में दर्ज की भारी वृद्घि की है। अप्रैल से दिसंबर की अवधि के दौरान रेल एवं स्ट्रक्चरल मिल से यूटीएस-90 प्राइम रेल्स के 6.47 लाख टन का उत्पादन किया, जोकि पिछले वित्तवर्ष में इसी अवधि के दौरान 5.37 लाख टन था। यह विगत वर्ष की तुलना में 20.7 प्रतिशत की वृद्घि को दर्शाता है। इसी प्रकार संयंत्र ने वर्तमान वित्तवर्ष के अपै्रल से दिसंबर के दौरान यूनिवर्सल रेल मिल से 4.30 लाख टन यूटीएस 90 प्राइम रेल्स का उत्पादन किया है। पिछले वित्तवर्ष के इसी अवधि के दौरान यूआरएम से 2.99 लाख टन यूटीएस 90 प्राइम रेल्स का उत्पादन किया गया था। यह पिछले वित्तवर्ष के मुकाबले 43.9 प्रतिशत की भारी वृद्घि दर्शाता है।
प्राइम रेल्स के उत्पादन का सर्वश्रेष्ठ मासिक रिकॉर्ड कायम
संयंत्र के रेल एवं स्ट्रक्चरल मिल एवं यूनिवर्सल रेल मिल दोनों टीमों के संयुक्त प्रयासों रेल्स के उत्पादन का ग्राफ लगातार बढ़ रहा है। संयंत्र ने दिसंबर में रेल्स के 1.27 लाख टन के मासिक उत्पादन का सर्वश्रेष्ठ कीर्तिमान दर्ज करने में सफल हुआ है। इसके पूर्व माह मार्च 2019 के दौरान 1.24 लाख टन मासिक उत्पादन का रिकॉर्ड दर्ज किया गया था। इसमें मिल के कई रिकॉर्ड शामिल हैं। विदित हो कि यूनिवर्सल रेल मिल ने नवंबर में किए गए 47,087 टन प्राइम रेल्स के उत्पादन के सर्वश्रेष्ठ रिकॉर्ड को ध्वस्त करते हुए दिसंबर में प्राइम रेल्स के 54,629 टन उत्पादन का सर्वश्रेष्ठ मासिक रिकॉर्ड कायम किया।
रेल्स डिस्पैच का भी बना रिकॉर्ड
वर्तमान वित्तवर्ष के अप्रैल से दिसंबर की अवधि के दौरान संयंत्र द्वारा की गई 4,49,156 टन लांग रेल्स के डिस्पैच ने भी विगत वित्तवर्ष 2018-19 में किए गए संपूर्ण डिस्पैच की मात्रा 4,49,973 टन को भी छू लिया है। अक्टूबर में 1,18,459 टन के सर्वाधिक लोडिंग के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए दिसंबर के दौरान संयंत्र ने यूटीएस 90 प्राइम रेल्स के 1,21,407 टन लोडिंग करते हुए सर्वाधिक लोडिंग का नया रिकॉर्ड बनाया। इसी तरह अक्टूबर में 54,588 टन लांग रेल्स के सर्वश्रेष्ठ डिस्पैच के मुकाबले संयंत्र ने दिसंबर में 58,358 टन लांग रेल्स का डिस्पैच कर नया रिकॉर्ड बनाया।
रेल्स उत्पादन का रिकॉर्ड दर रिकॉर्ड
यूनिवर्सल रेल मिल ने 30 जुलाई को 2,264 टन प्राइम रेल उत्पादन और 2,404 टन फिनिश्ड रेल्स के उत्पादन का रिकॉर्ड को तोड़ते हुए यूआरएम ने 29 दिसंबर को 2,414 टन प्राइम रेल्स के उधातम उत्पादन को प्राप्त किया है। 2,519 टन फिनिश्ड रेल का सर्वश्रेष्ठ उत्पादन करने में सफल हुआ। यहां यह रेखांकित करना आवश्यक है कि दिसंबर में 10 बार यूटीएस 90 रेल्स के 2,000 टन से अधिक दैनिक उत्पादन कर अपने ही उत्पादन रिकॉर्ड को बेहतर बनाने में सफलता हासिल की।
Jan 08 2020 (04:07) हाई स्पीड ट्रेन के लिए और ताकतवर होगी रेल पटरी (www.naidunia.com)
Other News
0 Followers
6102 views

News Entry# 398386  Blog Entry# 4534228   
  Past Edits
Jan 08 2020 (04:08)
Station Tag: SAIL Bhilai/BSPC added by 12649⭐️ KSK ⭐️12650^~/1203948
Stations:  SAIL Bhilai/BSPC  
भिलाई। नईदुनिया प्रतिनिधि
भिलाई इस्पात संयंत्र रेल पटरी बनाता है। दुनिया में सबसे लंबी रेल पटरी भिलाई में ही बनती है। छह दशक से रेलवे के लिए बीएसपी अपना योगदान दे रहा है। अब हाई स्पीड ट्रेन का दौर आने वाला है। इसके लिए बीएसपी ने तैयारी शुरू कर दी है। रेल पटरी की शक्ति को और बढ़ाने के लिए स्टील प्रॉपर्टी को विकसित किया जाएगा।
आईआईटी भिलाई और एनआईटी रायपुर से मदद ली जाएगी। इस्पात उत्पादन को और बेहतर करने के साथ ही रेल पटरी की ताकत बढ़ाने पर भी जोर दिया
...
more...
जाएगा। इसका मकसद यह है कि देश में ही हाईस्पीड ट्रेन के लिए रेल पटरी को तैयार कर लिया जाए। आने वाले समय में विदेशों पर इसके लिए निर्भर न होना पड़े।
एनआईटी रायपुर के डिपार्टमेंट ऑफ मेटलर्जिकल एंड मटेरियल इंजीनियरिंग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. मनोज कुमार चोपकर बताते हैं कि तकनीक के मामले में बेहतर काम किया जाएगा। बीएसपी के साथ होने वाले एमओयू के बाद इस दिशा में और बेहतर होगा। इससे शैक्षणिक क्षेत्र के विद्यार्थियों के साथ ही बीएसपी को भी लाभ मिलेगा।
रेल पटरी प्रोडक्शन के दौरान बहुत सारी खामियां नजर आती हैं। रिसर्च के माध्यम से इस खामी को दूर करने पर फोकस किया जा सकता है। इससे रेल पटरी का रिजेक्शन रोका जा सकेगा। हॉट रेल पटरी में कहीं भी केमिकल प्रॉब्लम नजर आएगी तो उसको रोलिंग के समय सही किया जा सकता है। तकनीक सुधार के माध्यम से बड़े पैमाने पर सेल को फायदा होगा।
बता दें कि स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड-सेल ने भी रिसर्च और डेवलपमेंट पर जोर दिया है। 300 अधिकारी लगे हुए हैं। अभी हम 20 लोगों की टीम बनाकर इलेक्ट्रिक स्टील को विकसित करने पर शोध कर रहे हैं। इसके लिए सेल ने 50 करोड़ का फंड दिया है। मिश्र धातु निगम के साथ 250 करोड़ के बजट से रिसर्च कार्य किया जा रहा है।
इधर, रेलवे का ऑर्डर पूरा करने बनेगा नया रोलिंग टेबल
बीएसपी के यूनिवर्सल रेल मिल में रोलिंग टेबल की कमी है। इंटीग्रेटेड सिस्टम होने की वजह से एक प्वाइंट पर खामी होते ही पूरा सिस्टम थम जाता है। खासतौर से रेल पटरी रोलिंग में कहीं खामी आने पर रोलिंग प्रभावित हो जाती है। इसके लिए नया रोलिंग टेबल बनाने की मंजूरी मिल चुकी है। करीब 22 करोड़ रुपये खर्च करके छह माह के भीतर इसे तैयार कर लिया जाएगा। इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि रिजेक्टेड रेल प्रोडक्शन लाइन जाम नहीं होगी। मौजूदा समय में रोलिंग के दौरान अगर कोई रिजेक्शन है तो उसे बीच से हटाने की व्यवस्था नहीं है। शुरू से लेकर अंत तक उत्पादन रोकना पड़ता है। कूलिंग बेड भी जाम हो जाता है। नया सिस्टम बनने के बाद जहां से ब्रेक हुआ, वहीं से दूसरी तरफ पटरी को शिफ्ट किया जा सकेगा। नया रोल टेबल और नई लाइन बनाने में करीब 22 करोड़ का खर्च होगा। पांच माह के उत्पादन से ही इसकी रिकवरी भी करने का दावा किया जा रहा है।
2020-21 में 16 लाख टन रेलपांतों का लक्ष्य
आज सेल के पास इस्पात उद्योग का सबसे बड़ा रिसर्च व डेवलपमेंट सेंटर है। टेक्नो-इकोनॉमिक्स पैरामीटर को सुधार कर कास्ट रिडक्शन पर फोकस है।
भिलाई हर चुनौती पर खरा उतरने का साहस रखता है। रेल निर्माण मात्र साइंस ही नहीं, यह एक आर्ट भी है, जिसमें भिलाई पारंगत है।
भारतीय रेलवे को जो रेल्स आपूर्ति का वादा किया है, उसे पूरा कर दिखाने का दम भी है। हाल ही में रेल्स के रेट्स रिवाइज किए गए हैं। इससे भिलाई के खाते में करोड़ों का अतिरिक्त लाभ जुड़ा।
भिलाई इस्पात संयंत्र के पास रेल जैसे उत्पाद हैं। इसके उत्पादन को बढ़ाकर कंपनी बेहतर स्थिति का प्लान बना रही है।
वर्ष 2020-21 में 16 लाख टन रेलपांतों का उत्पादन करना है। रेलवे की मांग को पूरा करने का प्लान है।
Jan 02 2020 (03:39) बीएसपी के नए मिल यूआरएम ने तोड़ा रिकार्ड, 1 माह में किया सर्वाधिक रेलपटरी की सप्लाई (www.patrika.com)
Other News
0 Followers
6120 views

News Entry# 397829  Blog Entry# 4529127   
  Past Edits
Jan 02 2020 (03:39)
Station Tag: SAIL Bhilai/BSPC added by 12649⭐️ KSK ⭐️12650^~/1203948
Stations:  SAIL Bhilai/BSPC  
भिलाई. भिलाई इस्पात संयंत्र के यूनिवर्सल रेल मिल ने दिसंबर 2019 में रेल पटरी की आपूर्ति में नया कीर्तिमान दर्ज किया है। यूआरएम व रेल स्ट्रक्चर मिल (आरएसएम) ने अक्टूबर 2019 में मिलकर 58 रेक लांग्स रेलपटरी की आपूर्ति किया था। दिसंबर 2019 में इस रिकार्ड को तोड़ते हुए यूआरएम ने 50 रेक लांग्स रेल पटरी व आरएसएम ने 12 रेक लांग्स रेलपटरी की आपूर्ति किया है। यह अब तक किए गए रेल पटरी में नया कीर्तिमान है। बीएसपी ने इसके अलावा 13 मीटर के 18 रेक और 6 मीटर के 4 रेक रवाना किया है।यूआरएम ने तोड़ा एक माह का रिकार्ड दिसंबर 2019 में यूआरएम ने लांग्स रेल पटरी की आपूर्ति का नया रिकार्ड कायम किया है। अक्टूबर 2019 में यूआरएम से 45 रेक लांग्स रेलपटरी की आपूर्ति की गई थी। वहीं दिसंबर में 50 रेक लांग्स रेलपटरी की आपूर्ति भारतीय रेल को की गई है। यह अब तक किए...
more...
गए रेल आपूर्ति में यूआरएम का नया रिकार्ड है।लक्ष्य को किया जाएगा पूरा बीएसपी वित्त वर्ष 2019-20 में रेल पटरी के उत्पादन का लक्ष्य पूरा करने कमर कस चुका है। अब तक करीब पौने 9 लाख टन रेल पटरी की आपूर्ति भारतीय रेल को कर चुका है। वहीं करीब 10 लाख टन रेल पटरी का उत्पादन किया है।3.5 लाख टन करना है उत्पादन भारतीय रेल को बीएसपी वित्त वर्ष 2019-20 में 13.5 लाख टन रेल पटरी की आपूर्ति करना है। अब तक करीब 10 लाख टन रेल पटरी का उत्पादन किया जा चुका है। इस तरह से अंतिम चौंथाई (जनवरी से मार्च 2020) के दौरान बीएसपी को 3.5 लाख टन रेल पटरी का उत्पादन करना है। बीएसपी हर माह 1.20 लाख टन से 1.40 लाख टन तक रेल पटरी का उत्पादन करता है। जिससे यह तय है कि इस साल 13.5 लाख टन रेल पटरी के लक्ष्य को बीएसपी पूरा कर लेगा, यह उम्मीद की जा रही है।62 रेक लांग्स रेल पटरी इस माह किए रवाना बीएसपी ने इस माह में दिसंबर 2019 में भारतीय रेल को 62 रेक लांग्स रेल पटरी की आपूर्ति की है। जिसकी वजह से अक्टूबर 2019 का रिकार्ड टूटा है।
Dec 29 2019 (22:56) रेल-सेल का रिश्ता अटूट करने इस बार बंपर प्रोडक्शन (www.naidunia.com)
IR Affairs
0 Followers
5233 views

News Entry# 397603  Blog Entry# 4526455   
  Past Edits
Dec 29 2019 (22:57)
Station Tag: SAIL Bhilai/BSPC added by 12649⭐️ KSK ⭐️12650^~/1203948
Stations:  SAIL Bhilai/BSPC  
भिलाई। नईदुनिया प्रतिनिधि
रेल पटरी उत्पादन में भिलाई इस्पात संयंत्र साल के आखिरी दिन तक कीर्तिमान रचने जा रहा है। एक माह में एक लाख 20 हजार टन से ज्यादा रेल पटरी उत्पादन का रास्ता साफ हो गया है।
इस माह अभी तक 62,800 टन प्राइम रेल का उत्पादन शार्ट रेल बनाने में किया गया। यूआरएम ने 45871 टन रेल का उत्पादन 27 दिसंबर 2019 तक किया है। उत्पादन की यही रफ्तार रही तो 31 दिसंबर तक लगभग 72,000 टन उत्पादन शार्ट रेल और यूआरएम में 50,000 टन से ज्यादा उत्पादन
...
more...
होना तय है। इस तरह दिसंबर में लगभग 1,20,000 टन से ज्यादा प्राइम रेल का उत्पादन होने की संभावना है, जो अपने आप में रिकॉर्ड डिस्पैच होगा।
धीमी रफ्तार से ही सही, लेकिन यूआरएम अब संभल रहा है। 50,000 टन उत्पादन इस बात होने की पूरी संभावना है। वहीं, हॉट मेटी की बात की जाए तो इसी माह में लगभग 3,56,505 टन का उत्पादन हुआ है। अनुमान यह भी लगाया जा रहा है कि यह आंकड़ा लगभग 4,00,000 टन के आसपास पहुंच सकता है। कर्मियों में भी इस बात को लेकर उत्साह है कि बेहतर उत्पादन एवं लाभ की स्थिति में आने पर सुविधाएं बहाल होंगी।
रेल पटरी के ऑर्डर की सप्लाई के लिए भारतीय रेलवे सेल प्रबंधन पर लगातार दबाव बनाए हुए है। भारतीय रेलवे का सेल अफसरों को यह भी बोल चुका है कि सप्लाई धीमी होने की वजह से रेलवे के प्रोजेक्ट पर असर पड़ता है। दूसरी तरफ भारतीय रेलवे पर निजी कंपनी रेल पटरी सप्लाई करने के लिए जुगाड़ लगा रही है। जिंदल पहले ही रेलवे से ऑर्डर ले चुका है। उस आर्डर को उसने समय से पहले ही पूरा कर दिया, जिसकी वजह से बीएसपी के लिए एक चिंता का विषय है।
मैनेजमेंट को लेना पड़ा था यू-टर्न
पिछले वर्ष भी रेल का उत्पादन बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास यूआरएम में किए गए। लेकिन यूआरएम का उत्पादन नहीं बढ़ पा रहा था। सेल एवं बीएसपी प्रबंधन ने यू-टर्न लेते हुए शार्ट रेल से रेल का उत्पादन बढ़ाने का निर्णय लिया। जनवरी, फरवरी, मार्च में टारगेट तय कर उत्पादन बढ़ाने के लिए रेल मिल में ही सीईओ ने डेरा डाला था। वही स्थिति फिर निर्मित हो रही है। लेकिन रेल मेल इस वर्ष कुछ बेहतर दिख रहा है। कुल मिलाकर उम्र दराज कर्मचारी, मैनुअल ऑपरेशन, मैनुअल इंस्पेक्शन, पुरानी एवं जर्जर हो सकी मशीनों को लगातार मेंटेनेंस कर दुरुस्त कर चलाया जा रहा है। सभी चुनौतियों के बीच शार्ट रेल मिल अपनी मिसाल कायम किया।
क्षमता से अधिक उत्पादन भी हो रहा
एक अधिकारी ने अपना नाम छापने से इनकार करते हुए बताया कि सेल प्रबंधन और बीएसपी का उधा प्रबंधन लगातार रेल मिल से उत्पादन बढ़ाने की मांग करता रहा है। लेकिन रेल मिल को न मैनपॉवर दे रहे हैं। न ही नए इक्विपमेंट दिए जा रहे हैं। फल स्वरूप मेंटेनेंस के काम पर लगातार दबाव बढ़ रहा है। वर्तमान में रेल मिल अपनी क्षमता से लगभग दोगुना उत्पादन कर रहा है, जो अपने आप में एक मिसाल है।
छुट्टियों पर कर्मचारी, फिर भी बेहतर प्रोडक्शन
ईएल इनकैशमेंट बंद है। एफएल इनकैशमेंट बंद होने से कर्मियों के पास छुट्टियों की भरमार है। साल का अंतिम महीना और कर्मियों के पास छुट्टियां पड़ी हुई है।
छुट्टी लैप्स होने की वजह से कर्मचारी अवकाश भी ले रहे हैं। बावजदू, कर्मियों का एक बड़ा पूरी निष्ठा एवं ईमानदारी के साथ काम करता है। उनकी बदौलत अभी संयंत्र में रिकॉर्ड उत्पादन हो रहा है।
यह हालत पूरे संयंत्र में है और हर जगह जो कर्मचारी खासकर नाइट ड्यूटी जाने में कतरा रहे हैं, क्योंकि जो व्यक्ति नाइट ड्यूटी जा रहा है। उसे अन्य कर्मियों की भी ड्यूटी करनी पड़ रही है।
पूरे संयंत्र में अधिकारियों के मातहत कर्मचारी एवं कुछ नेता जनरल शिप में ड्यूटी करना पसंद करते हैं। दूसरी तरफ तीनों शिफ्ट में काम करने वाले कर्मचारी पूरी ईमानदारी के साथ उत्पादन में अपनी भागीदारी कर रहे हैं।
उम्र दराज कर्मियों की संख्या लगातार संयंत्र में बढ़ती जा रही है। दूसरी ओर लगातार कर्मी सेवानिवृत्त हो रहे हैं। इनकी जगह परमानेंट वर्कर की नियुक्ति नहीं हो रही है, जो आने वाले दिनों में संयंत्र के लिए एक बहुत बड़ी चुनौती होगी।
ये आंकड़े भी जानिए
62800ः टन प्राइम रेल का उत्पादन रेल मिल में 27 तक
45871ः टन रेल का उत्पादन यूआरएम में 27 तक
72000ः टन उत्पादन शार्ट रेल का 31 तक उत्पादन का लक्ष्य
50000ः टन से ज्यादा यूआरएम में 31 दिसंबर तक का लक्ष्य
120000ः टन रेल पटरी साल के आखिरी दिन तक डिस्पैच का दावा
Page#    Showing 1 to 9 of 9 News Items  

Go to Full Mobile site