Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

Malgudi Express: From the pages of RK Narayan to the railway tracks of Mysore. - Vageesh

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Tue Jan 26 12:21:57 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Post PNRAdvanced Search
Medium; Front Entrance - Outside;
Entry# 1989526-0
Platform Pic; Large Station Board;
Entry# 2333491-0


RWL/Raiwala Junction (2 PFs)
رائے والا جنکشن     रायवाला जंक्शन

Track: Single Electric-Line

Show ALL Trains
NH 34, Dehradun- Haridwar Rd, Raiwala, Dist - Dehradun, Pin - 249205
State: Uttarakhand


Zone: NR/Northern   Division: Moradabad

Type of Station: Junction
Number of Platforms: 2
Number of Halting Trains: 26
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Rating: NaN/5 (0 votes)
cleanliness - n/a (0)
porters/escalators - n/a (0)
food - n/a (0)
transportation - n/a (0)
lodging - n/a (0)
railfanning - n/a (0)
sightseeing - n/a (0)
safety - n/a (0)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 28 News Items  next>>
गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर रैली का असर रेल संचालन पर पड़ेगा। रैली के चलते आनंद विहार से चलने मुरादाबाद रूट की सुहेल देव, सदभावना समेत चार ट्रेनें देरी से चलेंगी। सभी ट्रेनें रात आठ बजे के बाद रवाना किया जाएगा। इससे मुरादाबाद में सभी ट्रेनें देर रात पहुंचेंगी। इसी तरह बुधवार को देहरादून रेल मार्ग पर ब्लाक के कारण भी देहरादून शताब्दी, काठगोदाम जनशताब्दी नैनी भी हरिद्वार तक चलेगी। अन्य ट्रेनों का संचालन प्रभावित होगा।मंगलवार को मुरादाबाद रेल मंडल में रेल संचालन प्रभावित रहेगा। गणतंत्र दिवस पर कृषि मांगों को लेकर आयोजित ट्रैक्टर रैली का असर आनंद विहार से चलने वाली चार ट्रेनों पर भी पड़ेगा। आनंद विहार से मुजफ्फरपुर जाने वाली सप्तक्रांति(02558) दोपरह 2.50 बजे की बजाय रात में 8.20 बजे, रक्सौल  जाने वाली सदभावना (04008) शाम 4.30 की जगह रात 8.40 बजे, सत्याग्रह एक्सप्रेस(05274) शाम 5.30 की बजाय रात 9.00 बजे और गाजीपुर जाने वाली सुहेलदेव एक्सप्रेस(02220) शाम 6.50...
more...
बजे की बजाय रात 9.40 बजे रवाना होगी। बुधवार को जनशताब्दी नैनी व देहरादून शताब्दी हरिद्वार तकइसके अलावा रेलवे ने कुंभ मेले की तैयारी को अंतिम रुप देते हुए साढ़े दस घंटे के मेगा ब्लाक जारी किया है। देहरादून सेक्शन में कासरो व रायवाला के बीच अंडरपास के लिए एनएचएआई गर्डर डालने का काम करेगा। रेलवे ने बुधवार को काम के लिए मेगा ब्लाक को मंजूरी दी है। सीनियर डीसीएम रेखा शर्मा ने बताया कि अंडरपास पर निर्माण का काम सुबह आठ से शाम साढ़े छह बजे तक चलेगा। इसके चलते रेल संचालन में बदलाव हुआ है। नई दिल्ली-देहरादून(02017-18) और मुरादाबाद होकर चलने वाली काठगोदाम-देहरादून जनशताब्दी नैनी (02091-92) ट्रेनें हरिद्वार तक चलेगी। जबकि हावड़ा-देहरादून उपासना एक्सप्रेस (02327) मंगलवार को बीच रास्ते दो घंटे रुककर चलेगी।  चार ट्रेनों मसूरी एक्सप्रेस(04041), श्रीमाता वैष्णो देवी(04610), अमदाबाद-योगनगरी(09031) और बाड़मेर-ऋषिकेश (04888) डीजल इंजन से चलेगी।
Jan 17 (15:01) ‘Can’t reduce trains’ speed from 100 kmph to 50 kmph in RTR’ (timesofindia.indiatimes.com)
Commentary/Human Interest
NR/Northern
0 Followers
4857 views

News Entry# 433713  Blog Entry# 4848002   
  Past Edits
Jan 17 2021 (15:05)
Station Tag: Raiwala Junction/RWL added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 17 2021 (15:05)
Station Tag: Haridwar/HW added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 17 2021 (15:05)
Station Tag: Dehradun Terminal/DDN added by Anupam Enosh Sarkar/401739
DEHRADUN: The
has turned down Rajaji Tiger Reserve (RTR) administration’s request to not raise the speed of trains passing through the reserve from 50 kmph to 100 kmph, saying it is ‘not feasible.’ On January 7, the RTR administration had voiced its concerns on the railways’ decision to increase the speed of 18 pairs of trains plying between Haridwar and
on a 52-km track that passes through RTR. Railway authorities have, however, agreed to keep the speed 35 kmph on an 18 km stretch, which has been identified as
...
more...
sensitive by both the forest department and railways, between 8pm to 6am, as has been the norm since 2016.
In its letter to the railways, RTR had flagged a number of concerns. Officials of the reserve had said that the near-negligible train movement during the lockdown had led to a mild change in the behaviour and movement of animals, who had started moving on train tracks more often. Also, the officials pointed out that a tiger and tigress which have recently been translocated to the reserve from Corbett Tiger Reserve (CTR) have no concept of avoiding rail tracks as there are none in CTR.
Director of RTR DK Singh told TOI that National Tiger Conservation Authority (NTCA) officials have also said that they will request the railway ministry to slow down the trains while passing through the reserve.
Singh added that RTR authorities had again written to the railways on Friday to keep the speed of trains at a bare minimum.
The divisional railway manager of Moradabad railways, Tarun Prakash, said that he had requested RTR authorities to “review their request” as slowing down the trains would not be possible. “The RTR as well as the railways has all protection arrangements in place, including a ranger chowki, a well-connected network of frontline forest staff that coordinates with railway teams as well as a honeybee repelling system for jumbos,” Prakash said, adding that plying trains at slow speed will hit the “section capacity” (less trains would have to ply on those tracks).
“On one hand, the state government asks us to increase the number of trains for Kumbh and on the other, its own department asks us to reduce the speed of trains which would lead to reduction in number of trains. These are contradictory requests,” Prakash said.
When asked about the second request made on Friday by RTR, Prakash said he hadn’t received it.
In its letter, the RTR had also pointed out to the railways that the Uttarakhand high court had in 2016 ordered the speed to be 30 kmph through national parks. Also, the National Board for Wildlife (NBWL) had fixed the speed of trains at 35 kmph speed at night and 40 kmph during the day through reserved forests in 2015. In his response, Prakash said, “It’s not required for cars, bikes, trucks or buses to move at a slow speed through RTR; why must only trains regulate their speed?”
Jan 12 (16:16) Rajaji Tiger Reserve: जंगल से होले-होले ही गुजरेगी रेलगाड़ी, 35 किमी प्रति घंटे की गति पर बनी सहमति (www.amarujala.com)
Commentary/Human Interest
NR/Northern
0 Followers
8906 views

News Entry# 433025  Blog Entry# 4842295   
  Past Edits
Jan 12 2021 (16:16)
Station Tag: Dehradun Terminal/DDN added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 12 2021 (16:16)
Station Tag: Haridwar/HW added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 12 2021 (16:16)
Station Tag: Rishikesh/RKSH added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 12 2021 (16:16)
Station Tag: Raiwala Junction/RWL added by Anupam Enosh Sarkar/401739
राजाजी टाइगर रिजर्व क्षेत्र में ट्रेनों की गति बढ़ाकर 100 किमी प्रति घंटे करने संबंधी फैसले पर रेलवे प्रशासन बैकफुट पर आ गया है। टाइगर रिजर्व प्रशासन के विरोध के बाद गति को 35 किलोमीटर प्रति घंटे रखने का निर्णय लिया गया है। मंडल रेल प्रबंधक ने इस संबंध में दिशानिर्देश भी जारी कर दिए हैं। पिछले दिनों रेल संरक्षा आयुक्त रायवाला से ऋषिकेश और देहरादून से हरिद्वार रेलखंड में ट्रेनों की गति बढ़ाकर 100 किलोमीटर प्रति घंटे करने का आदेश जारी किया था। वन्यजीवों की सुरक्षा के मद्देनजर राजाजी टाइगर रिजर्व प्रशासन ने इसका विरोध किया था। टाइगर रिजर्व के निदेशक डीके सिंह ने इस संबंध में मंडल रेल प्रबंधक को पत्र भी लिखा था।उन्होंने कहा कि था टाइगर रिजर्व में ट्रेनों की गति बढ़ाने से वन्यजीव हादसे का शिकार हो सकते हैं। उन्होंने कहा था कि कोरोना संकट के चलते ट्रेनों का संचालन बहुत कम हो रहा है। ऐसे...
more...
में रेलवे ट्रैक पर वन्यजीवों की आवाजाही बढ़ गई है। उन्होंने ट्रेनों की गति को 35 किमी प्रति घंटे रखने का अनुरोध किया था।  मंडल रेल प्रबंधक तरुण प्रकाश का कहना है कि टाइगर रिजर्व क्षेत्र में ट्रेनों को 35 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से ही संचालित किया जाएगा। हरिद्वार-देहरादून रेलखंड पर टाइगर रिजर्व के 18 किलोमीटर क्षेत्र में ट्रेनों की गति पर नियंत्रण रहेगा जबकि टाइगर रिजर्व क्षेत्र के बाहर ट्रेन की गति 100 किलोमीटर प्रति घंटे होगी।हरिद्वार और देहरादून के बीच राजाजी टाइगर रिजर्व क्षेत्र में ट्रेनों की गति को लेकर गतिरोध पैदा हो गया था। एक ओर रेलवे ने इस क्षेत्र में 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार की अनुमति दे दी। वहीं, टाइगर रिजर्व प्रशासन वन्यजीवों की सुरक्षा का हवाला देते हुए इस फैसले पर कड़ी आपत्ति जताई। निदेशक डीके सिंह ने मंडल रेल प्रबंधक को लिखे गए पत्र में ट्रेनों की गति को 30 किलोमीटर प्रति घंटा रखने के लिए कहा था।
Jan 11 (07:59) ट्रेनों की 100 किमी की रफ्तार वन्य जीवों के लिए घातक (www.amarujala.com)
Commentary/Human Interest
NR/Northern
0 Followers
5152 views

News Entry# 432809  Blog Entry# 4840779   
  Past Edits
Jan 11 2021 (07:59)
Station Tag: Dehradun Terminal/DDN added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 11 2021 (07:59)
Station Tag: Raiwala Junction/RWL added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 11 2021 (07:59)
Station Tag: Haridwar/HW added by Anupam Enosh Sarkar/401739
मुरादाबाद। ट्रेनों की हाई स्पीड रफ्तार पर वन्य जीवों की सुरक्षा के तहत नियंत्रण लगाया गया है। हाल ही में हरिद्वार-देहरादून रेलमार्ग पर 100 किमी की रफ्तार से ट्रेन चलाने के लिए रेल प्रशासन को अनुमति मिली है। राजाजी टाइगर रिजर्व इसी रूट पर आता है। ऐसे में ट्रनों की हाई स्पीड से वन्य जीवों की सुरक्षा को लेकर राजाजी टाइगर रिजर्व प्रबंधन चिंतित था। रेल प्रशासन ने टाइगर रिजर्व प्रबंधन की चिंता दूर करते हुए कहा है कि वन क्षेत्र में ट्रेनों की रफ्तार रात में 35 किमी प्रतिघंटा ही रहेगी। दिन में भी इसे 50 किमी प्रतिघंटा से ज्यादा नहीं किया जा सकेगा।विज्ञापनइससे प्रबंधन ने राहत की सांस ली है। दरअसल राजाजी टाइगर रिजर्व के निदेशक डीके सिंह का कहना था कि ठंड के मौसम में कोहरा अधिक है। इससे वन्य जीवों को देखने में परेशानी होती है। साथ ही लॉकडाउन में ट्रेनों का परिचालन बंद रहने के कारण...
more...
बाघ, हाथी और हिरन आदि जानवरों का रेलवे ट्रैक के पास आवागमन बढ़ गया है। ऐसे में इस रूट पर ट्रेनों को की हाई स्पीड को लेकर उन्होंने चिंता जताई। उनका कहना है कि इससे वन्य जीवों को हानि पहुंच सकती है। इसे लेकर निदेशक डीके सिंह ने मुरादाबाद रेल प्रशासन को पत्र लिखकर कहा कि वन क्षेत्र में ट्रेनों की गति सीमा 35 किमी प्रतिघंटा ही रखी जाए। साथ ही कहा कि यदि किसी वन्यजीव को क्षति पहुंचती है तो इसकी जिम्मेदारी रेलवे प्रशासन की होगी। इस पर रेल प्रशासन ने टाइगर रिजर्व प्रबंधन की चिंता को दूर करते हुए वन क्षेत्र में ट्रेनों की रफ्तार कम रखने का निर्णय लिया है। गौरतलब है कि रेल मंडल में लक्सर-हरिद्वार, रायवाला-ऋषिकेश और इक्कड़-हरिद्वार रेलखंड पर 100 की रफ्तार से ट्रेनें चलाने की अनुमति है। जबकि अब तक इन रूटों पर ट्रेनों की अधिकतम गतिसीमा 50 किमी प्रतिघंटा ही निर्धारित थी।
वर्जन
हरिद्वार-देहरादून रेलमार्ग पर 18 किमी सेक्शन में राजाजी टाइगर रिजर्व है। वन्य जीवों की सुरक्षा के तहत राजाजी टाइगर रिजर्व प्रबंधन का पत्र प्राप्त हुआ है। वन क्षेत्र से गुजरते समय दिन में ट्रेनों की अधिकतम रफ्तार 50 किमी प्रतिघंटा और रात में 35 किमी प्रतिघंटा रखी जाएगी। वन क्षेत्र पर यही नियम लागू होता है।
- तरुण प्रकाश, डीआरएम मुरादाबाद मंडल
Jan 10 (01:21) ट्रेन की रफ्तार बढ़ने से पार्क अफसरों की नींद उड़ी (www.jagran.com)
Commentary/Human Interest
NR/Northern
0 Followers
4978 views

News Entry# 432657  Blog Entry# 4839751   
  Past Edits
Jan 10 2021 (01:21)
Station Tag: Raiwala Junction/RWL added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 10 2021 (01:21)
Station Tag: Haridwar/HW added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 10 2021 (01:21)
Station Tag: Jwalapur/JWP added by Anupam Enosh Sarkar/401739
ज्वालापुर में ट्रायल ट्रेन की चपेट में आकर चार युवकों की मौत होने के बाद राजाजी टाइगर रिजर्व के अधिकारियों को वन्यजीवों की सुरक्षा की चिता सताने लगी है।
संवाद सहयोगी, हरिद्वार: ज्वालापुर में ट्रायल ट्रेन की चपेट में आकर चार युवकों की मौत होने के बाद राजाजी टाइगर रिजर्व के अधिकारियों को वन्यजीवों की सुरक्षा की चिता सताने लगी है। पार्क के निदेशक डीके सिंह ने इस क्षेत्र में ट्रेन की रफ्तार 100 या 120 किलोमीटर प्रतिघंटा होने पर वन्यजीवों के चपेट में आने की आशंका जताई है। उन्होंने मुरादाबाद मंडल के रेल प्रबंधक को पत्र भेजकर पार्क क्षेत्र में ट्रेनों की रफ्तार पूर्व की 35 से 40 किलोमीटर प्रतिघंटा नियत किए जाने की की बात कही है।
...
more...
हरिद्वार-देहरादून रेल मार्ग के बीच दोहरीकरण का कार्य पूरा हो चुका है। रेलवे ने दो रोज पहले नए रेलवे ट्रेक पर ट्रायल भी लिया है। स्पीड ट्रायल के दौरान ही ज्वालापुर क्षेत्र में रेलवे फाटक से चंद कदम की दूरी पर ट्रेन की चपेट में आने से चार युवकों की मौत हो गई थी।
इस घटना के बाद से राजाजी टाइगर रिजर्व के अफसरों के भी कान खड़े हो गए हैं। हरिद्वार रायवाला के बीच के रेलवे ट्रेक पर वन्यजीवों की सक्रियता लगातार बनी रहती है। पूर्व में यहां हाथियों के ट्रेन की चपेट में आने की घटनाएं हो चुकी है। राज्य गठन के बाद से यहां अब तक 19 हाथी जान गंवा चुके हैं।
रेलवे ने हरिद्वार क्षेत्र में हाल में रेलगाड़ियों की गति सीमा बढ़ाने का एलान किया है, हालांकि, रेलवे अधिकारी राजाजी पार्क क्षेत्र में गति पूर्ववत रखने की बात कह रहे हैं। लेकिन वन विभाग के अधिकारी सभी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए वन्य जीवों की सुरक्षा को लेकर मंथन कर रहे हैं। मंडल रेल प्रबंधक को भेजे पत्र में पार्क के निदेशक डीके सिंह ने नैनीताल हाईकोर्ट के आदेश एवं राष्ट्रीय वन्य जीव बोर्ड की बैठक में तय हुई शर्तों का हवाला देकर पार्क क्षेत्र में ट्रेनों की रफ्तार 35 से 40 किलोमीटर प्रतिघंटा ही रखने की पैरवी की है।
पत्र में यह भी उल्लेख है कि कोरोना काल में ट्रेनों का आवागमन बंद होने के चलते वन्य जीवों की यहां सक्रियता ज्यादा हुई है। इनदिनों कोहरा भी छा रहा है। ऐसे में रेलवे ट्रैक पर दुर्घटनाओं की आशंका ज्यादा है। लिहाजा, ट्रेनों की रफ्तार पूर्व की भांति ही रखी जाए। पत्र में निदेशक ने दो टूक लिखा है कि ट्रेनों की रफ्तार बढ़ाए जाने पर वन्य जीवों के साथ दुर्घटना होती है तो उसका जिम्मेदार रेलवे होगा।
Page#    Showing 1 to 20 of 28 News Items  next>>

Go to Full Mobile site