Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

ಮೈಸೂರು - ವಾರಣಾಸಿ ಎಕ್ಸ್‌ಪ್ರೆಸ್: ಕಾವೇರಿ ಮತ್ತು ಗಂಗಾ ನದಿಗಳ ಸಂಪರ್ಕ ಸೇತುವೆ - Vishwanath Joshi

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Sun Jan 24 09:36:59 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Post PNRAdvanced Search

NSZ/Nishatpura Junction Cabin
نشاتپرا     निशातपुरा

Track: Triple Electric-Line

Show ALL Trains
Junction point BIH/BPL/BINA, Vidisha Road, Nishatpura, Bhopal-462010
State: Madhya Pradesh


Zone: WCR/West Central   Division: Bhopal

No Recent News for NSZ/Nishatpura Junction Cabin
Nearby Stations in the News
Type of Station: Cabin
Number of Platforms: n/a
Number of Halting Trains: 1
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Rating: 4.1/5 (10 votes)
cleanliness - good (1)
porters/escalators - good (2)
food - good (2)
transportation - excellent (1)
lodging - good (1)
railfanning - excellent (1)
sightseeing - excellent (1)
safety - good (1)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 46 News Items  next>>
Jan 14 (11:07) Bhopal Railway News: सुनिए वित्त मंत्री जी... उत्पादन यूनिट में बदले भोपाल का रेल कारखाना तो बनेगी बात (www.naidunia.com)
IR Affairs
WCR/West Central
0 Followers
11748 views

News Entry# 433241  Blog Entry# 4844383   
  Past Edits
Jan 14 2021 (11:08)
Station Tag: Harda/HD added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 14 2021 (11:08)
Station Tag: Betul/BZU added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 14 2021 (11:08)
Station Tag: Nishatpura Junction Cabin/NSZ added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 14 2021 (11:08)
Station Tag: Obaidulla Ganj/ODG added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 14 2021 (11:08)
Station Tag: Misrod/MSO added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 14 2021 (11:08)
Station Tag: Ramganj Mandi Junction/RMA added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 14 2021 (11:08)
Station Tag: Sant Hirdaram Nagar/SHRN added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 14 2021 (11:08)
Station Tag: HabibGanj/HBJ added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 14 2021 (11:08)
Station Tag: Sukhisewaniyan/SUW added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 14 2021 (11:08)
Station Tag: Mandideep/MDDP added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 14 2021 (11:08)
Station Tag: Barkhera/BKA added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 14 2021 (11:08)
Station Tag: Bina Junction/BINA added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 14 2021 (11:08)
Station Tag: Bhopal Junction/BPL added by Adittyaa Sharma/1421836
भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। कोरोना संक्रमण की मार से हर क्षेत्र प्रभावित हुआ है। रेलवे पर भी इसका असर पड़ा। तब भी भोपाल रेल मंडल ने इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़े कामों में अच्छी उपलब्धियां हासिल कीं। भोपाल-बीना के बीच (बरखेड़ा-मंडीदीप रेलखंड को छोड़कर) तीसरी रेल लाइन, अशोकनगर से गुना के बीच रेल लाइनों का विद्युतीकरण और गुना से पीलीघटा तक दूसरी रेल लाइन के निर्माण को पूरा किया है। बीना के सोलर प्लांट में पैदा होने वाली बिजली से ट्रेनें दौड़ रही हैं। इन कामों के सार्थक नतीजे आने वाले समय में और दिखेंगे। अब भोपाल का रेल कारखाना उत्पादन यूनिट में बदल जाए, रेलवे की खाली जमीन का 100 फीसद उपयोग होने लगे और भोपाल के आसपास छोटे स्टेशन विकसित हो जाएं तो गति और बढ़ जाएगी। प्रदेश के युवाओं को रोजगार, छोटे-बड़े उद्योगों को काम और आम जनता को सुविधा मिलने लगेगी। मंडल रेल उपयोगकर्ता सलाहकार समिति, जोनल रेल उपयोगकर्ता सलाहकार...
more...
समिति के सदस्यों, रेलवे के कांट्रेक्टरों और रेलवे मामलों के जानकारों का कहना है कि आगामी बजट में भोपाल रेल मंडल और पश्चिम-मध्य रेलवे जबलपुर के लिए इन कामों को शामिल किया जाना चाहिए।
बैतूल-हरदा संसदीय क्षेत्रों के लिए प्रमुख स्टेशनों पर ट्रेनों का स्टॉपेज मिले। आमला में रेलवे की 416 एकड़ जमीन पर उद्योग या रेलवे संस्थान खुले आदि मांगें रेलमंत्री के समक्ष रखी हैं। -डीडी उइके, सांसद बैतूल-हरदा
बाजार में बढ़े हुए दामों का लाभ रेलवे के उन्हीं कांट्रेक्टरों को मिलता है, जिनके पास पांच करोड़ से अधिक के टेंडर हैं। यह लाभ कम राशि के टेंडर वाले कांट्रेक्टरों को भी मिलना चाहिए। -अशोक आहूजा, अध्यक्ष रेलवे कांट्रेक्टर एसोसिएशन, भोपाल
निशातपुरा रेल कारखाने में पुराने कोचों को नए सिरे से बनाते हैं। इसे नई उत्पादन यूनिट में बदला जाना चाहिए। भोपाल समेत बड़े शहरों से सटे छोटे स्टेशनों का विकास हो, आगे सहूलियत होंगी। - निरंजन वाधवानी, सदस्य मंडल रेल उपयोगकर्ता सलाहकार समिति
आउटसोर्सिंग व निजीकरण रेलवे के हित में नहीं है। बजट में इन व्यवस्थाओं को जगह न दें। रेलवे एक बड़ा और सालों पुराना संगठन है, खुद काम करें। भोपाल को और ट्रेनों की जरूरत है। इसे पूरा करें। -शरद कशरेकर, पूर्व सदस्य जोनल रेल उपयोगकर्ता सलाहकार समिति
एयरपोर्ट की तरह हबीबगंज जैसे प्रमुख स्टेशनों पर यात्रियों को ट्रेन तक खुद सामान ले जाने की अच्छी सुविधा मिले। हबीबगंज से पुणे समेत सभी प्रमुख शहरों के लिए नॉन स्टॉपेज ट्रेनें मिलनी चाहिए। -सीपी जायसवाल, पूर्व सदस्य जोनल रेल उपयोगकर्ता सलाहकार समिति
मप्र में रेलवे ने निर्माणाधीन भोपाल-रामगंजमंडी रेल लाइन समेत इंफ्रास्ट्रक्चर में अच्छा निवेश किया है। उनको आगे बढ़ाने के लिए बजट में राशि मिलें, इसका प्रयास कर रहे हैं। -रोडमल नागर, सांसद राजगढ़
रेलवे भोपाल के आसपास मंडीदीप, औबेदुल्लागंज, मिसरोद, संत हिरदाराम नगर, निशातपुरा और सूखीसेवनिया जैसे स्टेशन का विकास करें। भविष्य में इनकी जरूरत पड़ेगी। -विकास विरानी, पूर्व सदस्य मंडल रेल उपयोगकर्ता सलाहकार समिति
निर्माण संबंधी काम करने के पहले माक्रो स्तर पर योजना बनाने व आम लोगों से राय लेने का प्रविधान हो। करोंद अंडरब्रिज में इन बातों का पालन करते तो आज परेशान नहीं होती। फंड मैनेजमेंट में सुधार हो। - विकास मेघानी, सचिव रेलवे कांट्रेक्टर एसोसिएशन, भोपाल
Jan 14 (11:04) Bhopal news: निशातपुरा रेलवे क्रॉसिंग पर ओवरब्रिज का निर्माण कार्य शुरू, आज से मार्ग रहेगा परिवर्तित (www.naidunia.com)
Commentary/Human Interest
WCR/West Central
0 Followers
7726 views

News Entry# 433240  Blog Entry# 4844382   
  Past Edits
Jan 14 2021 (11:05)
Station Tag: Nishatpura Junction Cabin/NSZ added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 14 2021 (11:05)
Station Tag: Bhopal Junction/BPL added by Adittyaa Sharma/1421836
भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। पुराने शहर में आरिफ नगर से कृषि उपज मंडी मुख्य मार्ग के पास निशातपुरा रेलवे क्रॉसिंग ओवरब्रिज का निर्माण कार्य शुरू हो गया है। आज से इस सड़क पर खोदाई का काम शुरू किया जाएगा। इस क्षेत्र के रहवासी लंबे समय से ओवर ब्रिज बनाए जाने की मांग कर रहे हैं। ओवर ब्रिज बनने के बाद ट्रैफ‍िक का दबाव कम होगा और लोगों को बार-बार लगने वाले जाम से निजात मिलेगी।
बहरहाल, ओवर ब्रिज का काम शुरू होने की वजह से आम लोगों की सुरक्षा एवं सुविधा हेतु डीआइजी बंगला चौराहा से करोंद चौराहे की ओर मुख्य मार्ग का ट्रैफिक डायवर्सन किया गया है।
करोंद
...
more...
की ओर जाने वाले वाहन जेपी नगर तिराहा से जा सकेंगे
- करोंद चौराहा से डीआइजी बंगला चौराहे की ओर भारी एवं मध्यम वाहनों का
आना-जाना पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा। करोंद चौराहा से डीआइजी बंगला चौराहा आने वाले वाहन करोंद से बेस्ट प्राइज, मंडीगेट, जेपी नगर तिराहा, डीआइजी बंगला चौराहा एवं डीआइजी बंगला चौराहा से करोंद की ओर जाने वाले वाहन जेपी नगर तिराहा से करोंद की ओर आ जा सकेंगे।
- करोंद चौराहा, हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी चौराहा की ओर से आने वाले समस्त छोटे वाहन कृषि उपज मंडी के पिछले गेट से प्रवेश कर कृषि उपज मंडी, जेपी पुल, जेपी नगर तिराहा से होकर डीआइजी बंगला चौराहा या आगे की ओर से जा जा सकेंगे। कृषि उपज मंडी के पिछले गेट के आगे निशातपुरा रेलवे फाटक, आरिफ नगर की ओर वाहन नहीं जा सकेंगे।
- डीआइजी बंगला चौराहा, फिरदौस नगर की ओर से करोंद की ओर जाने वाले छोटे वाहन निशातपुरा रेलवे फाटक से दाहिनी ओर सब्जी मंडी गेट से सब्जी मंडी, बेस्ट प्राइज तिराहा होते हुए करोंद की ओर जा सकेंगे।
Dec 14 2020 (23:14) Bhopal railway news: 10 करोड़ के महंगे कोचों से नल की टोटी-इलेक्ट्रॉनिक सामान, कांच तोड़े (www.naidunia.com)
IR Affairs
WCR/West Central
0 Followers
5339 views

News Entry# 428508  Blog Entry# 4812964   
  Past Edits
Dec 14 2020 (23:15)
Station Tag: Nishatpura Junction Cabin/NSZ added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 14 2020 (23:15)
Station Tag: HabibGanj/HBJ added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 14 2020 (23:15)
Station Tag: Bhopal Junction/BPL added by Adittyaa Sharma/1421836
भोपाल(नवदुनिया प्रतिनिधि)। भोपाल एक्सप्रेस में लगने के लिए आए 10 करोड़ के महंगे कोचों से नल की टोटियां, प्रेशर वॉल और इलेक्ट्रॉनिक सामान चोरी हो गया है। चोरो ने 10 कोचों के अंदर तोड़फोड़ कर नुकसान पहुंचाया है। घटना बीते सप्ताह निशातपुरा व हबीबगंज यार्ड में हुई है। इन कोचों में बाहर ताला लगा था तब भी चोर दो कोचों के बीच लगने वाली प्लेट के पास से अंदर घुस गए थे। रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स (आरपीएफ) घटना की जांच कर रही है। एक कोच की कीमत एक करोड़ रुपये हैं। ये कोच रायबरेली कोच फैक्ट्री से नवंबर माह में भोपाल रेल मंडल को मिले हैं, जो 1 जनवरी से भोपाल एक्सप्रेस में लगने हैं। बता दें कि रेलवे बोर्ड ने भोपाल एक्सप्रेस को मेल व एक्सप्रेस श्रेणी में आदर्श माना था। उसके बाद ट्रेन को अच्छी सुविधा वाले एलएचबी कोच आवंटित किए थे। ये कोच जर्मन कंपनी लिंक हॉफमैन बुश (एलएचबी)...
more...
के तकनीकी सहयोग से रायबरेली में तैयार किए गए हैं। इस तरह के 45 कोच भोपाल मंडल को दिए हैं। इन्हें तैयार करके हबीबगंज यार्ड में खड़ा करना था लेकिन यार्ड में जगह के अभाव के कारण ऑपरेटिंग ने इन्हें निशातपुरा यार्ड में खड़ा किया था। इनकी देखरेख आरपीएफ के भरोसे थी। तब भी चोरी हो गई है।
ऐसे हुआ चोरी का खुलासा
रेलवे ने तय किया है कि भोपाल एक्सप्रेस को 1 जनवरी से नए कोच से चलाया जाएगा। इसके लिए निशातपुरा यार्ड में खड़े कोचों को बीते सप्ताह हबीबगंज लाया गया था। तब कोचों की जांच की गई, तब चोरी व तोड़फोड़ की बात पता चली है।
एलएचबी कोचों की खासियत
- सेंटर बफर कपलिंग लगी होती हैं, इसलिए दुर्घटना होने पर कोच एक-दूसरे पर नहीं चढ़ते।
- ये 160 से 200 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ने में सक्षम होते हैं।
- कोच में एंटी टेलीस्कोपिक सिस्टम लगा होता है। इसके कारण ये पटरी से नहीं उतरते।
- कोच का साउंड लेवल 60 डेसीबल से भी कम होता है। ट्रेन के चलने से निकलने वाली आवाज यात्रियों तक कम पहुंचती है।
- 5 लाख किमी चलने पर मेंटेनेंस की जरूरत पड़ती है। सामान्य कोच को 2 से 4 लाख किमी चलने पर मेंटेनेंस करना पड़ता है।
- कोच के भीतर एयर कंडीशनिंग सिस्टम लगे होते हैं जो तापमान को नियंत्रित करते हैं।
- इनकी बाहरी दीवारें सामान्य कोचों की तुलना में अधिक मजबूत होती हैं, हादसों के समय यात्रियों के नुकसान की आशंका कम होती है।
- कोच की भीतरी डिजाइन में स्क्रू कम उपयोग हुए हैं। हादसों की स्थिति में यात्रियों को ज्यादा चोटंे नहीं आती।
वर्जन
कुछ कोचों के अंदर चोरी हुई है। उसकी जांच करवा रहे हैं। जिन्होंने कोचों को नुकसान पहुंचाया है उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करेंगे।
- बी रामकृष्णा, वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त, भोपाल
Nov 17 2020 (07:16) भोपाल रेल कारखाना ने 150 पुराने यात्री कोचों को कार परिवहन कोचों में बदला (www.naidunia.com)
IR Affairs
WCR/West Central
0 Followers
4842 views

News Entry# 424993  Blog Entry# 4780850   
  Past Edits
Nov 17 2020 (07:17)
Station Tag: Nishatpura Junction Cabin/NSZ added by Adittyaa Sharma/1421836

Nov 17 2020 (07:17)
Station Tag: Bhopal Junction/BPL added by Adittyaa Sharma/1421836
भोपाल। नवदुनिया प्रतिनिधि भोपाल रेल काराखना ने 150 पुराने यात्री कोचों को कार परिवहन (मालभाड़ा) करने वाले कोचों में बदल दिया है और 150 कोचों को इस तरह बदला जाएगा। मतलब जिन कोचों में यात्री सफर करते थे उनमें कार समेत अन्य मालभाड़े का परिवहन किया जाएगा। इस काम में उन कोचों का उपयोग किया जा रहा है जो यात्री कोच के रूप में 12 से 24 साल तक चल चुके हैं। रेलवे को इससे फायदा होगा। एक तो यात्री कोच पुराने होने के बाद कबाड़ में खड़े नहीं करने पड़ेंगे, मालभाड़ा परिवहन के लिए नए कोच खरीदने की जरूरत नहीं होगी।
बता दें कि भोपाल का निशातपुरा सवारी डिब्बा पुनः निर्माण कारखाना इंटीग्रल कोच फैक्ट्री (आइसीएफ) चेन्नई द्वारा निर्माण किए गए
...
more...
12 साल तक चले चुके पुराने कोचों को नए सिरे से बनाता है। तब वे कोच और 12 साल तक चलने के काबिल बनते हैं। कारखाना प्रबंधन ने इस काम के साथ-साथ हाल में जर्मन कंपनी लिंक हाफमैन बुश के तकनीकी सहयोग से बनने वाले आधुनिक डिजाइन व सुविधाओं वाले एलएचबी कोच का पुनः निर्माण करना शुरू किया है। इसी बीच आइसीएफ डिजाइन के पुराने कोचों को मालभाड़ा परिवहन करने वाले कोचों में बदलने का काम भी शुरू कर दिया है, जो तीसरा बड़ा काम है जो भोपाल रेल कारखाना ने शुरू किया है। कारखाना प्रबंधन की तरफ से बताया गया है कि पुराने कोचों को ट्रेनों में वाहनों के परिवहन के लिए तैयार किया जा रहा है।
हर महीना तैयार कर रहे 90 कोच
भोपाल रेल कारखाना प्रबंधन से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि कोरोना संक्रमण के बाद से हर माह 90 कोच तैयार कर रहे हैं। इनमें छह से आठ एलएचबी होते हैं और बाकी के आइसीएफ डिजाइन वाले कोच शामिल हैं।
रेलवे का मकसद
रेलवे बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि रेलवे आइसीएफ डिजाइन के पुराने कोचों को यात्री परिवहन से बाहर कर रहा है। इनकी जगह आधुनिक सुविधाओं वाले एलएचबी कोचों का उपयोग किया जा रहा है। इसके लिए कपूरथला समेत अन्य रेल कारखानों में एलएचबी कोचों का उत्पादन बढ़ा दिया है। जैसे ही एलएचबी कोच पर्याप्त क्षमता में बन जाएंगे, आइसीएफ कोचों का उपयोग पूरी तरह बंद कर दिया जाएगा। जिन पुराने यात्री कोचों को यात्री परिवहन से बाहर कर रहे हैं, उनका मालभाड़ा परिवहन में उपयोग करेंगे।
एलएचबी कोचों का उपयोग इसलिए
- एलएचबी कोचों की बाहरी दीवारें बहुत मजबूत होती है। इनमें सेंटर बफर कप्लर लगे होते हैं। यदि कोच पटरी से उतरते हैं तब भी एक-दूसरे पर नहीं चढ़ते। ये 200 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ने में सक्षम होते हैं। बार-बार मेंटेनेंस नहीं करना पड़ता, ट्रेन के चलने पर इनमें आवाज कम आती है।
Sep 10 2020 (06:43) निशातपुरा विकसित होने तक भोपाल स्टेशन से खत्म न करें क्षिप्रा एक्स. का ठहराव (www.naidunia.com)
IR Affairs
WCR/West Central
0 Followers
11576 views

News Entry# 417990  Blog Entry# 4711100   
  Past Edits
Sep 10 2020 (06:43)
Station Tag: Sant Hirdaram Nagar/SHRN added by TATA JAT Express Will Run Independently/1421836

Sep 10 2020 (06:43)
Station Tag: Bhopal Junction/BPL added by TATA JAT Express Will Run Independently/1421836

Sep 10 2020 (06:43)
Station Tag: Nishatpura Junction Cabin/NSZ added by TATA JAT Express Will Run Independently/1421836
- प्रयागराज, गया और जैन तीर्थ स्थल जाने वाले श्रद्घालुओं ने जताई नाराजगी
- बोले- रात में भोपाल से संत हिरदाराम नगर तक आने-जाने के लिए नहीं मिलेगा साधन
भोपाल। नवदुनिया प्रतिनिधि
क्षिप्रा एक्सप्रेस का भोपाल में ठहराव खत्म करने से शहर के ज्यादातर लोग नाराज हैं। इन्होंने रेलवे से क्षिप्रा का ठहराव वापस भोपाल में करने की मांग की है। यह
...
more...
भी कहा है कि ऐसा नहीं हो पाया तो निशातपुरा में ट्रेन रोकने की व्यवस्था की जाए। नाराजगी की वजह भी है, क्योंकि प्रयागराज, गया और जैन तीर्थ स्थल सम्मेद शिखर जाने के लिए बहुत उपयोगी ट्रेन है।
यह ट्रेन इंदौर से हावड़ा जाते समय संत हिरदाराम नगर में तड़के 3.45 बजे आएगी। इस समय भोपाल से संत हिरदाराम नगर के बीच सड़क आवागमन का कोई साधन नहीं रहता है। ट्रेन में चढ़ने और उतरने वाले यात्रियों को परेशान होना पड़ेगा। वहीं हावड़ा से इंदौर जाते समय यह ट्रेन रात 9 बजे संत हिरदाराम नगर पहुंचेगी। इतनी रात को सिटी बसें बंद हो जाती हैं। इस तरह दिक्कतें बढ़ जाएंगी। यह ट्रेन पूर्व में भोपाल स्टेशन पर ठहरती थी जो 12 सितंबर से दोबारा चलने पर नहीं ठहरेगी।
ठहराव इसलिए खत्मः रेलवे बोर्ड व जोन के अधिकारियों का कहना है कि इंदौर-हावड़ा रेल मार्ग सीधा है। दोनों दिशाओं में गुजरते समय ट्रेन को निशातपुरा से भोपाल तक करीब एक किमी अंदर लाना पड़ता है। फिर ट्रेन वापस हावड़ा-इंदौर मार्ग पर पहुंचती है। इसके लिए दो बार इंजन बदलकर लगाना पड़ता है, जिसमें समय लगता है। तब तक मुंबई-नई दिल्ली मुख्य रेल मार्ग पर दूसरी ट्रेनें प्रभावित होती हैं। यदि ट्रेन भोपाल न आकर संत हिरदाराम नगर स्टेशन पर रुकेगी तो इंजन बदलना व पुनः जोड़ने की नौबत नहीं आएगी। ट्रेन को निशातपुरा रोकने में भी इंजन नहीं बदलना पड़ेगा। यह भोपाल स्टेशन से काफी पास में है और संत हिरदाराम नगर स्टेशन की बजाय इस स्टेशन से भोपाल के बीच आवागमन आसानी से हो सकता है, लेकिन पहले स्टेशन को विकसित करना पड़ेगा।
ऐसे परेशान होंगे यात्री
- जब रात में आवागमन के साधन नहीं होंगे तो टैक्सी, ऑटो वाले संत हिरदाराम नगर से भोपाल के बीच ज्यादा राशि वसूलेंगे। नुकसान होगा।
- ट्रेन से हावड़ा की तरफ जाने व उस ओर से आने वाले यात्रियों के पास अधिक सामान होता है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि ट्रेन में श्रद्घालु होते हैं जो साथ में कुछ दिनों की सामग्री लेकर चलते हैं। इन्हें आवागमन के साधन नहीं होने की वजह से अधिक परेशानी होगी।
-------------------------------------------
निशातपुरा स्टेशन को विकसित करें। वहां से शहर के अन्य हिस्सों में रात्रिकालीन आवागमन की सुविधा पक्की करें फिर बदलाव करें। ऐसे तो यात्री परेशान हो जाएंगे।
- निरंजन वाधवानी, सदस्य मंडल रेल उपयोगकर्ता सलाहकार समिति भोपाल
---------------------------
हम रेलवे की समस्या को समझते है, लेकिन जब तक निशातपुरा स्टेशन विकसित न हो जाए तब तक रात में गुजरने वाली किसी भी ट्रेन का भोपाल से ठहराव खत्म न किया जाए।
- प्रमोद नेमा, सदस्य हिंदू उत्सव समिति
Page#    Showing 1 to 20 of 46 News Items  next>>

Go to Full Mobile site