Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

Purulia Express: লালপাহাড়ীর দ‍্যাশে যাবি? চিন্তা কিসের লো? বিকাল বেলা হাওড়া থেকে পুরুল্যা এক্সপেরেস পাবি। - Dip

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Fri Mar 5 04:18:44 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Post PNRAdvanced Search
no description available
Entry# 2360486-0
Close-up; Platform Pic; Large Station Board;
Entry# 2360486-0

JRO/Jiron (3 PFs)
جرون     जीरोन

Track: Double Electric-Line

Show ALL Trains
Lalitpur
State: Uttar Pradesh

Elevation: 384 m above sea level
Zone: NCR/North Central   Division: Jhansi

No Recent News for JRO/Jiron
Nearby Stations in the News
Type of Station: Regular
Number of Platforms: 3
Number of Halting Trains: 4
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Rating: NaN/5 (0 votes)
cleanliness - n/a (0)
porters/escalators - n/a (0)
food - n/a (0)
transportation - n/a (0)
lodging - n/a (0)
railfanning - n/a (0)
sightseeing - n/a (0)
safety - n/a (0)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 2 of 2 News Items  
गोरखपुर यशवंतपुर एक्सप्रेस ( 02591) सोमवार सुबह दुर्घटनाग्रस्त होने से बाल-बाल बच गई। ललितपुर रेल सेक्शन के जीरोंन स्टेशन के नजदीक अराजक तत्वों ने पटरी पर लोहे का एंगल रख दिया। हालांकि समय रहते सावधानी बरतने के कारण बड़ी दुर्घटना टल गई। विज्ञापनबता दें कि शीतलहर और कोहरे के चलते पहले से ही ट्रेनों की चाल पर असर पड़ने लगा है। आलम यह है कि ट्रेनें कई घंटे तक लेट हो रही हैं। इसके चलते यात्रियों को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। वहीं, ट्रेनों की लेट-लतीफी से परिचालन पर असर पड़ रहा है।रविवार को कई ट्रेनें देरी से झांसी पहुंचीं थीं। दिल्ली से एरनाकुलम जाने वाली मंगला एक्सप्रेस दो घंटे की देरी से झांसी पहुंची। जबकि लखनऊ-मुंबई एक्सप्रेस 14 मिनट, तेलंगाना एक्सप्रेस 20 मिनट, गोवा एक्सप्रेस एक घंटा 33 मिनट, भोपाल प्रतापगढ़ एक्सप्रेस 19 मिनट, राप्तीसागर एक्सप्रेस 30 मिनट, सचखंड एक्सप्रेस 40 मिनट की देरी पहुंची। इसके चलते यात्रियों को...
more...
दिक्कत का सामना करना पड़ा। यात्री ट्रेन के समय पर स्टेशन पहुंच गए और घंटों तक इंतजार करना पड़ा। रेलवे अधिकारियों के मुताबिक कोहरे के चलते परिचालन प्रभावित हो रहा है। इसके लिए इंतजाम किए जा रहे हैं।
Feb 13 2019 (07:26) ‘जियो ग्रिड’ से लैस होगा रेल ट्रैक (www.amarujala.com)
New Facilities/Technology
NCR/North Central
0 Followers
12076 views

News Entry# 376424  Blog Entry# 4229197   
  Past Edits
Feb 13 2019 (07:26)
Station Tag: Bina Junction/BINA added by ललितपुर सिंगरौली बड़ी रेल लाइन~/1206649

Feb 13 2019 (07:26)
Station Tag: Agasod Junction/AGD added by ललितपुर सिंगरौली बड़ी रेल लाइन~/1206649

Feb 13 2019 (07:26)
Station Tag: Jiron/JRO added by ललितपुर सिंगरौली बड़ी रेल लाइन~/1206649

Feb 13 2019 (07:26)
Station Tag: Lalitpur Junction/LAR added by ललितपुर सिंगरौली बड़ी रेल लाइन~/1206649

Feb 13 2019 (07:26)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by ललितपुर सिंगरौली बड़ी रेल लाइन~/1206649
पटरियों को मजबूती देने के लिए उन्हें अब जियो ग्रिड से लैस करने की तैयारी है। जियो मतलब ‘भू’, जियो ग्रिड यानी जमीन के संपर्क में आने वाली एक खास जालीनुमा आकृति जिस पर मिट्टी, पानी, जंग का दुष्प्रभाव नहीं पड़ेगा। उत्तर मध्य रेलवे में झांसी मंडल के ललितपुर सेक्शन में पहली बार इसका उपयोग किया गया है। ललितपुर सेक्शन में जीरोन स्टेशन के पास सफल परीक्षण के बाद जल्द ही आगासौद स्टेशन के पास जियो ग्रिड सिस्टम लगाने की तैयारी है। इससे पटरियों पर भरने वाले पानी से भी रेलवे को राहत मिलेगी।
...
more...
पटरियों को मजबूती देने और ट्रेनों को तेज गति से दौड़ाने के लिए रेलवे ने जियो ग्रिड की मदद लेने की तैयारी शुरू कर दी है। बरसात के समय पटरियों के मध्य पानी न भरे, इसके लिए जियो ग्रिड कारगर साबित हो रही है। झांसी मंडल के ललितपुर से बीना रेलखंड के मध्य पटरियों पर जियो ग्रिड डाली गई है। जीरोन स्टेशन के पास नौ किलोमीटर रेलवे ट्रैक को कवर्ड किया है। इससे ट्रैक को मजबूती मिलने के साथ ही पटरियों पर न तो बरसात का पानी यहां बैठ सकेगा और न ही पटरी धसकने का खतरा पैदा होगा। इस काम में 43 लाख 57 हजार रुपये का खर्चा आया था। यहां के सफल परीक्षण होने के बाद रेलवे ने अब आगासौद स्टेशन के पास जियो ग्रिड बिछाने की भी तैयारी शुरू कर दी है।ललितपुर से बीना सेक्शन में पानी व काली मिट्टी की समस्या बरसात के समय रहती है, जिससे ट्रैक में परेशानी भी बनी रहती है। ऐसे में जियो ग्र्रिड से यह समस्या भी दूर होगी। गिट्टी और स्लीपर के बीच टेक्सटाइल की जॉग्रिड बिछाई जा रही है, जो जियो ग्रिड कहलाती है। इससे ट्रैक के रखरखाव में मदद मिलेगी और सेक्शन में ट्रेनों की गति बढ़ाने में भी मदद होगी। इस जियो ग्रिड का प्रयोग उत्तर मध्य रेलवे में सबसे पहले झांसी मंडल के इस खंड में किया जा रहा है। आरडीएसओ लखनऊ के अध्ययन के बाद प्रस्तुत रिपोर्ट के बाद ही यह कार्य कराया जा रहा है। सफलता के बाद इसे उत्तर मध्य रेलवे के अन्य मंडलों में भी लागू किया जाएगा।यह होता है जियो ग्रिडजियो ग्रिड एक फाइबर नुमा जाली होती है, जो पॉलिमर फाइबर की बनी होती है जिसमें जंग भी नहीं लगती है। जो पटरी पर गिट्टी के नीचे बिछा दी जाती है। जिससे ग्रिड मिट्टी को पकड़कर रखती है। उक्त जाली पानी व मिट्टी को पटरी पर ठहरने भी नहीं देगा और पटरी व गिट्टी की पकड़ मजबूत होने के कारण ट्रेनों की रफ्तार भी बढ़ेगी।उत्तर मध्य रेलवे के झांसी मंडल में जियो ग्रिड का पहली बार प्रयोग किया जा चुका है। इससे रेलवे ट्रैक को मजबूती मिलेगी। ग्रिड बरसात का पानी व काली मिट्टी का भराव भी नहीं होेने देगी। - मनोज कुमार सिंह, जनसंपर्क अधिकारी।
Page#    Showing 1 to 2 of 2 News Items  

Go to Full Mobile site