Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

Brindavan Express - ರೈಲು ಹೆಸರು ಬೃಂದಾವನ್ ,ಇದು ಯಾವಾಗಲೂ Number 1 - Vijay Baradwaj

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Thu Jan 21 21:45:36 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Post PNRAdvanced Search
Front Entrance - Outside;
Entry# 2306274-0
Scenic; Platform Pic; Small Station Board;
Entry# 3189314-0


AWR/Alwar Junction (3 PFs)
     अलवर जंक्शन

Track: Double Electric-Line

Show ALL Trains
Jn point RE/MTJ/BKI Aerodrome Road, Indra Colony, Alwar-301001
State: Rajasthan

Elevation: 272 m above sea level
Zone: NWR/North Western   Division: Jaipur

No Recent News for AWR/Alwar Junction
Nearby Stations in the News
Type of Station: Junction
Number of Platforms: 3
Number of Halting Trains: 81
Number of Originating Trains: 2
Number of Terminating Trains: 2
Rating: 4.4/5 (72 votes)
cleanliness - excellent (9)
porters/escalators - excellent (9)
food - good (9)
transportation - excellent (9)
lodging - good (9)
railfanning - good (9)
sightseeing - excellent (9)
safety - good (9)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 148 News Items  next>>
रेलवे स्टेशन पर रविवार को हुए हादसे के लिए सीधे तौर रेलवे के अधिकारी जिम्मेदार हैं। रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक व तीन काे जाेड़ने वाले फुट ओवरब्रिज को अधिकारियों ने कोरोना के कारण मार्च 2020 से बंद करा रखा है। स्टेशन पर आने-जाने वाले यात्रियों के लिए एक ही गेट से एंट्री है। लाेगाें का कहना है कि यदि फुट ओवरब्रिज खुला हाेता ताे यह हादसा नहीं हाेता।
रेलवे की दूसरी बड़ी लापरवाही यह रही कि हादसे के शिकार हुए मनीष काे मालगाड़ी के टैंकर पर चढ़ने से किसी ने नहीं राेका। जबकि स्टेशन पर चौबीस घंटे आरपीएफ व रेलवे कर्मी तैनात रहते हैं। फुट ओवरब्रिज बंद हाेने के कारण लाेग पटरी क्राॅस करते है या फिर प्लेट फार्म नंबर
...
more...
तीन पर खड़ी ट्रेनों के नीचे से पटरी क्राॅस करते हैं। इन्हें रोकने वाला मौके पर कोई नहीं होता।डंडों व बांस से युवक को नीचे गिराया, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी
स्टेशन अधीक्षक रंगलाल मीना ने बताया कि शाम 6 बजकर 7 मिनट पर स्टॉल वाले ने फोन कर बताया कि टैंकर में आग लग गई है। मैं स्टाफ के साथ दौड़ कर वहां पहुंचा। टंकी के ऊपर एक व्यक्ति आग की लपटों में घिरा हुआ था। सुरक्षा काे देखते हुए हमने मालगाड़ी की जिस टंकी में आग लगी थी, उसे काटकर अलग कराया। शेष मालगाड़ी को सिंगल से आगे ले गए।
तीनों प्लेटफार्म पर मौजूद आग बुझाने वाले करीब एक दर्जन से अधिक सिलेंडरों से आग बुझाई। डंडों और बांस के जरिए युवक को नीचे गिराया, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। जीआरपी थाना प्रभारी लक्ष्मण सिंह ने बताया कि शव को राजीव गांधी सामान्य चिकित्सालय की मोर्चरी में रखवा दिया है।
कुली कल्याण बोला- मैंने टैंकर पर चढ़ने से राेका था, शायद उसने सुना नहींरेलवे के कुली कल्याण मीणा ने बताया कि मैं प्लेटफार्म पर खड़ा हुआ था। तभी एक व्यक्ति पटरी पर खड़ी मालगाड़ी के टैंकर पर चढ़ते हुए दिख्राई दिया। मैंने उसे आवाज लगाकर टैंकर पर नहीं चढ़ने के लिए बाेला, लेकिन मेरी बात उसने अनसुनी कर दी। तभी वह टैंकर के ऊपर हाइवोल्टेज लाइन के टच हाे गया और तेज धमाके के साथ उसके कपड़ों में आग लग गई।
इंटरसिटी से आया रेवाड़ी, आश्रम एक्सप्रेस में अलवर के लिए बैठाया था : रमेशचंदरिटायर्ड रेलवे गार्ड रमेशचंद ने बताया कि मनीष उसके छोटे भाई महीपाल का दामाद था। वह इंटरसिटी से बीकानेर से रेवाड़ी आया था। यह ट्रेन दोपहर साढ़े तीन बजे रेवाड़ी आई थी। महीपाल का बेटा उसे आश्रम एक्सप्रेस में बैठाकर आया था। इस ट्रेन में रमेश का चचेरा भतीजा पुष्पक गार्ड था। उसका बांदीकुई हैडक्वार्टर है। पुष्पक ने आश्रम एक्सप्रेस से अलवर स्टेशन पर मालगाड़ी की टंकी से आग तो उठती देखी, लेकिन उसे भी पता नहीं था कि यह मनीष है।
अबोहर। कई वर्षों से लंबित रेल यात्रियों की मांग को पूरा करने के लिए श्रीगंगानगर से रेवाड़ी के बीच चलने वाली रेवाड़ी एक्सप्रेस को अलवर तक विस्तारित करने के प्रयास शुरू हो गए हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री व श्रीगंगानगर के सांसद निहालचंद की ओर से रेल मंत्रालय को लिखे गए पत्र पर कार्रवाई शुरू हो गई है।विज्ञापनजानकारी के अनुसार श्रीगंगानगर से रेवाड़ी के मध्य चलने वाली गाड़ी संख्या 54751/54752 पैसेंजर ट्रेन को अब एक्सप्रेस में परिवर्तित कर दिया गया है। यह गाड़ी देर रात 01.25 बजे श्रीगंगानगर से रवाना होकर वाया अबोहर, मलोट, बठिंडा व सिरसा होते हुए रेवाड़ी पहुंचती है। ट्रेन को रेवाड़ी से करीब 75 किमी आगे अलवर तक विस्तारित करने का प्रस्ताव तैयार करके मंत्रालय को भेजा गया है। अबोहर, फाजिल्का, श्रीगंगागनर और मलोट से बड़ी संख्या में लोगों का अलवर क्षेत्र में आना-जाना होता है लेकिन सीधी ट्रेन न होने के कारण यात्रियों को रेवाड़ी से ट्रेन...
more...
बदलकर जाना पड़ता है। इससे यात्रियों का समय व्यर्थ जाता है। सांसद की ओर से लिखे गए पत्र में कहा गया है कि इस ट्रेन के विस्तार के लिए रेल प्रशासन को न ही अतिरिक्त रैक की आवश्यकता होगी और न ही मेंटेनेंस की। इसके विस्तार से रेवाड़ी से अलवर के मध्य बावल, अजरका, हरसौली व खैरथल जैसे स्टेशन की यात्रा करने वालों को सीधी ट्रेन का लाभ मिल सकेगा।
Dec 18 2020 (10:50) रेलवे:पूजा, आश्रम व राजधानी एक्सप्रेस ट्रेन भी अब बिजली इंजन से चलेंगी (www.bhaskar.com)
Commentary/Human Interest
NWR/North Western
0 Followers
8022 views

News Entry# 428980  Blog Entry# 4815864   
  Past Edits
Dec 18 2020 (10:50)
Station Tag: Alwar Junction/AWR added by Anupam Enosh Sarkar/401739
Stations:  Alwar Junction/AWR  
रेल यात्रियाें के लिए अच्छी खबर है। जल्द ही अलवर हाेकर चलने वाली 3 और ट्रेनें बिजली के इंजन से चलेंगी। इनमें जम्मूतवी-अजमेर पूजा एक्सप्रेस, दिल्ली-अहमदाबाद आश्रम एक्सप्रेस और नई दिल्ली-अहमदाबाद स्वर्णजयंती राजधानी एक्सप्रेस शामिल हैं।
इनमें से पूजा व आश्रम एक्सप्रेस का लाभ अलवर के यात्रियाें काे मिलेगा। स्वर्णजयंती राजधानी ट्रेन अलवर में रुकती नहीं है। रेलवे ने इस दिशा में कार्रवाई शुरू कर दी है। अभी प्रयागराज-जयपुर एक्सप्रेस ट्रेन बिजली के इंजन से चल रही है।
गाैरतलब है कि दिल्ली-मदार (अजमेर) रेलवे ट्रैक विद्युतीकरण हाेने के बाद इस ट्रैक पर 29
...
more...
नवंबर से मालगाड़ी और 14 दिसंबर से यात्री ट्रेन बिजली इंजन से चलना शुरू हाे गई।
Nov 29 2020 (16:54) Piyush Goyal In Alwar: पीयूष गोयल बोले, देश के हर रेलवे स्टेशन पर कुल्हड़ में ही मिलेगी चाय (m.jagran.com)
Commentary/Human Interest
0 Followers
10456 views

News Entry# 426495  Blog Entry# 4795151   
  Past Edits
Nov 29 2020 (16:54)
Station Tag: Alwar Junction/AWR added by Anupam Enosh Sarkar/401739
Stations:  Alwar Junction/AWR  
जयपुर, एएनआइ/प्रेट्र। Piyush Goyal In Alwar: राजस्थान के अलवर में रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि जब 2014 में मोदी की सरकार आई तो रेलवे स्टेशन पर प्लास्टिक के कप में चाय मिलती थी। अब देश में लगभग 400 रेलवे स्टेशनों पर कुल्हड़ में ही चाय मिलती है। रविवार को यहां पीयूष गोयल ने कहा कि हमारी योजना है कि आगे चलकर देश के हर रेलवे स्टेशन पर कुल्हड़ में ही चाय मिलेगी। गोयल ने कहा कि देश के सभी रेलवे स्टेशनों पर प्लास्टिक के कपों के स्थान पर पर्यावरण के अनुकूल 'कुल्हड़' में बेची जाएगी। राजस्थान के अलवर जिले के डिगवारा रेलवे स्टेशन पर आयोजित एक कार्यक्रम में गोयल ने कहा कि यह पहल प्लास्टिक मुक्त भारत की दिशा में रेलवे का योगदान होगा। देश के लगभग 400 रेलवे स्टेशनों पर कुल्हड़ में चाय दी जाती है। भविष्य में यह हमारी योजना है कि देश के सभी रेलवे स्टेशनों...
more...
पर केवल कुल्हड़ ’में चाय बेची जाएगी, इसमें भारत प्लास्टिक मुक्त होगा।
गोयल ने कहा कि इस सभा को संबोधित करने से पहले वह एक 'कुल्हड़' में चाय पी रहे थे। चाय का स्वाद वास्तव में अलग था। उन्होंने कहा कि कुल्हड़ पर्यावरण को बचाता है और लाखों लोगों को इससे रोजगार मिलता है।
रेल मंत्री उत्तर-पश्चिम रेलवे के तहत नए विद्युतीकृत ढीगवारा-बांदीकुई खंड के उद्घाटन को चिह्नित करने के लिए एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि 2014 में नरेंद्र मोदी सरकार के सत्ता में आने से पहले राजस्थान में रेलवे क्षेत्र की अनदेखी की गई। दिल्ली-मुंबई मार्ग के विद्युतीकरण के बाद पिछले 30 वर्षों में विद्युतीकरण नहीं हुआ था। उन्होंने कहा कि राजस्थान में रेलवे और अवसंरचना विकास परियोजनाओं द्वारा निवेश 2014-2020 के बीच 2009-2014 के बीच कई गुना बढ़ गया है। गोयल ने कहा कि 2009-14 से 65 अंडरपास बनाए गए थे, जबकि 378 अंडरपास 2014- सितंबर 2020 से बनाए गए हैं। उन्होंने कहा कि 2014 तक पांच वर्षों में केवल चार ओवरब्रिजों का निर्माण किया गया था, जबकि 2014 से सितंबर 2020 तक 30 ऐसे पुलों का निर्माण किया गया है।
मंत्री ने कहा कि देश भर में रेलवे लाइनों के विद्युतीकरण से पर्यावरण की बचत होगी, क्योंकि देश में उत्पादित बिजली, ईंधन, धन और समय की बचत होगी। ट्रेनों की गति भी बढ़ाई जाएगी। इससे उन किसानों को भी मदद मिलेगी, जो कम समय में अपनी फसल को देश के किसी भी हिस्से (रेल माल परिवहन के माध्यम से) ले जा सकेंगे। गोयल ने कहा कि प्रधानमंत्री पर्यावरण के बारे में बहुत चिंतित हैं और इसलिए विद्युतीकरण पर जोर दिया जा रहा है। मंत्री ने नई विद्युतीकृत 34 किमी लंबी ढीगवारा-बांदीकुई रेल खंड पर पहली ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। उन्होंने कहा कि रेवाड़ी से अजमेर तक की पूरी लाइन को अब इस खंड के विद्युतीकरण से विद्युतीकृत कर दिया गया है। समारोह में दौसा के सांसद जसकौर मीणा, जीएम-एनडब्ल्यूआर आनंद प्रकाश और अन्य जन प्रतिनिधि और रेलवे अधिकारी उपस्थित थे।
अलवर . कोरोना का असर हर क्षेत्र पर पड़ा है। लॉक डाउन में व्यापार चौपट हो गए। अन लॉक होने के बाद बाजारों में तो काम शुरू हो गया लेकिन रेलवे से जुड़े व्यवसाय पटरी पर नहीं लौट पाए हैं। अलवर जंक्शन की बात करें तो यहां संचालित कैंटीन और अन्य दुकानों का काम लगभग समाप्त हो गया है। कैंटीन संचालकों ने बताया कि कोविड स्पेशल ट्रेनें चलने के बाद कैंटीन फिर से खुले हैं लेकिन यहां काम मुश्किल से 10 प्रतिशत रह गया है। अलवर जंक्शन पर लगभग 15 कैंटीन संचालित हैं । जंक्शन पर ट्रेनें चलने के बाद भी यात्री भय के कारण इनसे सामान नहीं खरीद रहे हैं, जिससे इनकी आजीविका पर संकट आ गया है।रिक्शा और ऑटो चालक पर संकटलॉक डाउन लगने के बाद से ही जंक्शन के बाहर से चलने वाले रिक्शा और ऑटो संचालकों की आजीविका पर संकट आ गया था जो कि छह माह...
more...
बाद भी समाप्त नहीं हुआ है। लॉक डाउन से पहले जंक्शन पर 75 से ज्यादा ट्रेनों का ठहराव होता था लेकिन अभी 3-4 ट्रेनें ही चल रही हैं। इससे ऑटो संचालकों को सवारियां नहीं मिल रही हैं। इ-रिक्शा चालक पवन कुमार ने बताया कि लॉक डाउन से पहले लोन लेकर इ-रिक्शा खरीदा था लेकिन सवारियां नहीं मिलने से किस्तें भरना मुश्किल हो गया। ऐसे में सब्जी बेचकर गुजारा कर रहे हैं।छह माह तक हालात सामान्य होने के आसार नहींरेलवे स्टेशन के कैंटीन संचालकों का कहना है कि कोरोना से बिगड़े हालत सामान्य होने में अभी छह महीने का वक्त लग सकता है। ऐसे में कई कैंटीन संचालकों ने दूसरे काम शुरू कर दिए हैं। जंक्शन पर संचालित कैंटीन पर अभी पैकेट में बंद खाद्य पदार्थ बिक रहे हैं। यात्री खुले खाद्य पदार्थ खरीदने से बच रहे हैं। जब तक ट्रेनें नहीं चलती स्टेशन पर हालात सामान्य नहीं होंगे।फैक्ट फ़ाइल-----------------------लॉक डाउन से पहले------ लॉक डाउन के बादट्रैन संचालन ------------------78 ---------------8यात्री ---------------------10 से 12 हजार ------300कैंटीन बिक्री-------------- 3 से 5 हजार------------ 90 प्रतिशत कमीटैक्सी, रिक्शा संचालित ------------100 --------------20
Page#    Showing 1 to 20 of 148 News Items  next>>

Go to Full Mobile site