Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

Bandra Garib-Rath - नाम से गरीब, लेकिन मेरे दिल के करीब - Abdul Rehman

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Mon Jul 22 03:19:55 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Feedback
Post BlogPost Stn TipUpload Stn PicAdvanced Search
Details Edit
Large Station Board;
Entry# 686946-0
Details Edit
Medium; Platform Pic; Large Station Board;
Entry# 2413950-0


JHS/Jhansi Junction (8 PFs)
جھانسی جنکشن     झाँसी जंक्शन

Track: Double Electric-Line

Dandi Chauraha,Chitra-No.9 Road Rani Laxmi Nagar(Railway Colony East), Jhansi-284003 (Jn Point ;AGC/CNB/BPL/ALD)
State: Uttar Pradesh


Zone: NCR/North Central   Division: Jhansi

No Recent News for JHS/Jhansi Junction
Nearby Stations in the News
Type of Station: Junction
Number of Platforms: 8
Number of Halting Trains: 262
Number of Originating Trains: 20
Number of Terminating Trains: 20
Rating: 3.3/5 (345 votes)
cleanliness - average (46)
porters/escalators - good (43)
food - average (44)
transportation - good (43)
lodging - good (41)
railfanning - good (44)
sightseeing - good (43)
safety - average (41)

Nearby Stations

BJI/Bijauli 8 km     MSV/Mustara 8 km     ORC/Orchha 11 km     KRQ/Karari 12 km     GRM/Garhmau 14 km     KHJ/Khajraha 17 km     CIRL/Chirula 18 km     PIC/Paricha 22 km     BWR/Barwa Sagar 22 km     PTSC/Parichaa Thermal 24 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 705 News Items  next>>
  
Jul 19 (02:18) झांसी ‘ए’ बनेगा नया रेलवे स्टेशन (www.amarujala.com)
New Facilities/Technology
NCR/North Central
0 Followers
4973 views

News Entry# 387057  Blog Entry# 4381775   
  Past Edits
Jul 19 2019 (02:18)
Station Tag: Jhansi A Cabin/JHSA added by ⚡22222मुंबई राजधानी22221⚡~/1939170

Jul 19 2019 (02:18)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by ⚡22222मुंबई राजधानी22221⚡~/1939170
झांसी ‘ए’ बनेगा नया रेलवे स्टेशन
झांसी। पुलिया नंबर नौ के नजदीक ए और बी केबिन को खत्म कर रेलवे वहां एक नया तकनीकी झांसी ए स्टेशन बनाएगा। इसके लिए भवन बन गया है। इस स्टेशन को इलेक्ट्रानिक इंटरलॉकिंग सिस्टम से जोड़ा जाएगा। यानी यहां बैठकर स्टेशन मास्टर कंप्यूटर से ट्रेनों का संचालन कर सकेंगे। इन दिनों पटरियों के बीच बने प्वाइंट को खत्म कर मोटर लगाने का काम अंतिम चरण में है। सितंबर से यह स्टेशन शुरू हो जाएगा। शुरुआत में इस स्टेशन से माल और थ्रू निकलने वाली गाड़ियों को निकाला जाएगा। भविष्य में इसी स्टेशन से ललितपुर और बीना की तरफ जाने वाली पैसेेंजर ट्रेनों को चलाया जाएगा। अभी
...
more...
भोपाल, बीना की तरफ से आने वाली ट्रेनों को झांसी रेलवे स्टेशन पर आने से पहले एसी लोको शेड के पास बनी ए केबिन, पुलिया नंबर नौ के पास बनी बी केबिन और इसके बाद रूट रिले सिस्टम की सी केबिन की संचालन व्यवस्था से होकर गुजरना पड़ता है। ए और बी केबिन पर अभी पुरानी व्यवस्था से काम चल रहा है। हर केबिन पर एक स्टेशन मास्टर और लीवरमैन तैनात है। किसी ट्रेन के ए केबिन में प्रवेश करने के बाद लीवरमैन लीवर बदलकर पटरियों के प्वाइंट बदलने का काम करते हैं, इसके बाद स्टेशन मास्टर ट्रेन को आगे बढ़ने का सिगनल देते हैं। ए केबिन से ट्रेन गुजरने के बाद सूचना बी केबिन को दी जाती है। इस व्यवस्था में ए केबिन से ही ट्रेन की गति धीमी होती जाती है। ए केबिन से झांसी स्टेशन की दूरी करीब दो किलोमीटर है, जिसे तय करने में कम से कम दस मिनट का वक्त लग जाता है। मगर, रेल प्रशासन अब ए और बी केबिन को खत्म करने जा रहा है। इनकी जगह दोनों केबिनों के बीच एक नया स्टेशन बनाया जा रहा है। इसके लिए भवन तैयार हो गया है। इसमें इलेक्ट्रानिक इंटरलॉकिंग लगाई जा रही है। इस सिस्टम में लीवरमैन की आवश्यकता नहीं पड़ती। स्टेशन मास्टर कंप्यूटर के सामने बैठकर माउस चलाकर ही सीधा ट्रेनों का संचालन कर सकेंगे। इसके लिए ए और बी केबिन के बीच पटरियों के बीच स्थित 26 प्वाइंटों पर मोटर लगाने का काम अंतिम चरण में चल रहा है। उम्मीद है कि सितंबर से इस नए स्टेशन का संचालन शुरू हो जाएगा। शुरुआत में इस स्टेशन से थ्रू गाड़ियों (जिन गाड़ियों को स्टेशन पर नहीं रुकना है) और मालगाड़ियों को निकाला जाएगा। भविष्य में बीना और ललितपुर की तरफ जाने वाली पैसेंजर ट्रेनों को इसी स्टेशन से रवाना किया जाएगा। इससे झांसी स्टेशन का भार कम होगा। ‘स्टेशन का भवन बनकर तैयार हो चुका है। इसके शुरू होते ही ए और बी केबिन की व्यवस्था खत्म हो जाएगी। इससे ट्रेनों का संचालन और तेज गति से हो सकेगा।’मनोज कुमार सिंह, जनसंपर्क अधिकारी। ये होंगे फायदे -------------
स्टेशन में प्रवेश करने से पूर्व ट्रेनों की गति बढ़ जाएगी। - लीवर बदलने की पुरानी व्यवस्था खत्म हो जाएगी। - स्टेशन मास्टर से ही काम चल जाएगा, अतिरिक्त कर्मचारी नहीं लगेंगे। - इलेक्ट्रानिक इंटरलॉकिंग से संरक्षा और बेहतर हो जाएगी। - भविष्य में झांसी से चलने वाली ट्रेनों का यहां से संचालन हो सकेगा।

4 Public Posts - Fri Jul 19, 2019

  

  

  

  

  
  
Jul 18 (13:33) पटरियां मिलीं, कंपनी ने भी शुरू किया काम (www.amarujala.com)
New Facilities/Technology
NCR/North Central
0 Followers
2205 views

News Entry# 387034  Blog Entry# 4380929   
  Past Edits
Jul 18 2019 (13:40)
Station Tag: Nankhas/NDK added by 12649⭐️ KSK ⭐️12650^~/1203948

Jul 18 2019 (13:33)
Station Tag: Usargaon/URG added by 12649⭐️ KSK ⭐️12650^~/1203948

Jul 18 2019 (13:33)
Station Tag: Bhimsen Junction/BZM added by 12649⭐️ KSK ⭐️12650^~/1203948

Jul 18 2019 (13:33)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by 12649⭐️ KSK ⭐️12650^~/1203948

Jul 18 2019 (13:33)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by 12649⭐️ KSK ⭐️12650^~/1203948
झांसी। झांसी-कानपुर डबल ट्रैक का काम अब तेजी पकड़ने लगा है। डबल ट्रैक के लिए पटरियां मिलना शुरू हो गई हैं। साथ ही, चीन की कंपनी ने भीमसेन से ऊसरगांव स्टेशन के बीच अधूरा काम पूरा करना शुरू कर दिया है। अभी तक 206 किलोमीटर के इस रेल लाइन पर 51 किलोमीटर पटरी बिछाने का काम पूरा होने के बाद उस पर ट्रेनों का संचालन शुरू कर दिया गया है। जबकि, वित्तीय सत्र 2019- 20 में 34 किलोमीटर पटरी बिछाने का लक्ष्य दिया गया है। झांसी-कानपुर डबल ट्रैक में 206 किलोमीटर तक काम होना है। इसकी जिम्मेदारी रेल विकास निगम लिमिटेड (आरवीएनएल) को सौंपी गई है। अभी तक 51 किलोमीटर रेल लाइन का काम ही पूरा हो सका है। इसमें झांसी- पारीछा के बीच 24 किलोमीटर और पिरौना- एट व भुआ स्टेशन के बीच 27 किलोमीटर रेल लाइन बनकर तैयार हो चुकी है। इस पर ट्रेनें दौड़ने लगी हैं। अगले चरण...
more...
में पारीछा से नंदखास और उरई के नजदीक स्थित सरकोजी से ऊसरगांव स्टेशन के बीच दूसरी लाइन तैयार होनी है। इन स्टेशनों के बीच की दूरी 34 किलोमीटर है और इस काम को मार्च 2020 तक पूरा करने का लक्ष्य दिया गया है। मगर, रेल पटरी बनाने वाले भारत सरकार के उपक्रम स्टील अर्थोरिटी ऑफ इंडिया (सेल) से नई पटरी नहीं मिल पा रही थीं। इससे काम तेजी नहीं पकड़ पा रहा था। लेकिन अब सेल से बीस किलोमीटर के लिए पटरियां मिल गईं हैं। साथ ही, ऊसरगांव से भीमसेन (69 किलोमीटर) तक का 264 करोड़ रुपये का काम हैदराबाद की कंपनी एसईडब्लू को सौंपा गया था, लेकिन यह कंपनी बीच में ही काम छोड़कर चली गई। छूटे काम को चीन की चाइना रेल कंपनी डी 21 और हैदराबाद की श्री श्री निवासन कंस्ट्रक्शन कंपनी पूरा कर रही है। इस कंपनी ने भी अब अपना काम शुरू कर दिया है। मालूम हो कि अभी झांसी-कानपुर सिंगल रेलवे ट्रैक पर प्रतिदिन 40 से अधिक अप और डाउन की सवारी ट्रेनों का संचालन होता है। इतनी ही संख्या में मालगाड़ियां भी दौड़ती हैं। एक ट्रेन को निकालने में सामने आ रही दूसरी ट्रेन को नजदीक के रेलवे स्टेशन पर रोकना पड़ता है। इसका सीधा असर ट्रेनों के समय पालन पर पड़ता है। सबसे ज्यादा ट्रेनों को झांसी आने के पहले मुस्तरा स्टेशन पर रोका जाता है। यही कारण है कि कानपुर से आने वाली अधिकांश ट्रेनें समय पर झांसी नहीं आ पाती हैं। इसका खामियाजा यात्रियों को भुगतना पड़ता है। दूसरे ट्रैक से अब संबंधित सेक्शन में तेजी से ट्रेनें दौड़ने लगेंगी।‘पटरी न मिलने की समस्या दूर हो गई है। सेल से 20 किलोमीटर के लिए नई पटरियां मिल गई हैं। साथ ही ऊसरगांव से भीमसेन के बीच पड़ा अधूरा काम भी शुरू हो गया है। नए वित्तीय सत्र में 34 किलोमीटर नई रेल लाइन बिछाने का लक्ष्य दिया गया है। ’कमल कुमार, चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर, आरवीएनएल।पांच साल में 51 किलोमीटर हो सका पूरारेल बजट 2013-14 में झांसी-कानपुर दूसरी रेल लाइन के लिए 817 करोड़ रुपये स्वीकृत हुए थे। इसमें झांसी-भीमसेन के बीच 206 किलोमीटर तक काम होना है। इसकी जिम्मेदारी रेल विकास निगम लिमिटेड (आरवीएनएल) को सौंपी गई है। यह काम तीन कंपनियों को सौंपा। झांसी से एरच रोड स्टेशन (66 किलोमीटर) तक 265 करोड़ रुपये का काम मुंबई की कंपनी जीएमआर और एरच रोड से ऊसरगांव (70 किलोमीटर) तक 288 करोड़ रुपये का काम बंगलूरू की कंपनी केईसी कर रही है। ऊसरगांव से भीमसेन (69 किलोमीटर) तक का 264 करोड़ रुपये का काम हैदराबाद की कंपनी एसईडब्लू को सौंपा गया था, लेकिन यह कंपनी बीच में ही काम छोड़कर चली गई। छूटे काम को चीन की चाइना रेल कंपनी डी 21 और हैदराबाद की श्री श्री निवासन कंस्ट्रक्शन कंपनी पूरा कर रही है। डबल ट्रैक को पूरा करने का लक्ष्य जून -2018 तय किया गया था। मगर, अभी तक 51 किलोमीटर ट्रैक का काम ही पूरा हो सका है।

  
  
Jul 17 (22:28) असम के रंगापाड़ा नार्थ से दरभंगा रक्सौल के रास्ते भोपाल के लिए स्पेशल ट्रेन (navbiharpatrika.com)
New/Special Trains
ECR/East Central
0 Followers
4478 views

News Entry# 386991  Blog Entry# 4380560   
  Past Edits
Jul 17 2019 (22:29)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by Abhinav Sinha/1524497

Jul 17 2019 (22:29)
Station Tag: Bhopal Junction/BPL added by Abhinav Sinha/1524497

Jul 17 2019 (22:29)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by Abhinav Sinha/1524497

Jul 17 2019 (22:29)
Station Tag: Lucknow Junction NER/LJN added by Abhinav Sinha/1524497

Jul 17 2019 (22:29)
Station Tag: Gorakhpur Junction/GKP added by Abhinav Sinha/1524497

Jul 17 2019 (22:29)
Station Tag: Raxaul Junction/RXL added by Abhinav Sinha/1524497

Jul 17 2019 (22:29)
Station Tag: Sitamarhi Junction/SMI added by Abhinav Sinha/1524497

Jul 17 2019 (22:29)
Station Tag: Darbhanga Junction/DBG added by Abhinav Sinha/1524497

Jul 17 2019 (22:29)
Station Tag: Samastipur Junction/SPJ added by Abhinav Sinha/1524497

Jul 17 2019 (22:29)
Station Tag: Khagaria Junction/KGG added by Abhinav Sinha/1524497

Jul 17 2019 (22:29)
Station Tag: Katihar Junction/KIR added by Abhinav Sinha/1524497

Jul 17 2019 (22:29)
Station Tag: Rangapara North Junction/RPAN added by Abhinav Sinha/1524497

Jul 17 2019 (22:29)
Train Tag: Rangapara North - Bhopal One Way Special/05714 added by Abhinav Sinha/1524497
पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे ने यात्रियों की भीड़ को देखते हुए असम के रंगापाड़ा नार्थ से भोपाल के लिए एकदिवसीय स्पेशल ट्रेन चलाने का फैसला किया है। ट्रेन संख्या 05714 एक ट्रिप पर रंगापाड़ा नार्थ से दिन के 10 बजकर 15 मिनट पर 19 जुलाई को खुलेगी और कटिहार, खगड़िया, समस्तीपुर, दरभंगा, सीतामढ़ी,रक्सौल, गोरखपुर, लखनऊ, कानपुर सेंट्रल के रास्ते भोपाल पंहुचेगी।
एक ट्रिप पर चलेगी स्पेशल ट्रेन
19 जुलाई को रंगापाड़ा नार्थ से ट्रेन खुलने के बाद 20 को सुबह 5 बजे कटिहार पहुंचेगी, खगड़िया 7 बजकर 10 मिनट, समस्तीपुर 8 बजकर 50 बजे,
...
more...
दरभंगा 9 बजकर 20 बजे, सीतामढ़ी 11 बजकर 15 बजे और भोपाल अगले दिन 21 जुलाई को शाम 7 बजकर 20 बजे पहुंचेगी।
  
Jul 14 (13:37) पटरियों के पास नहीं रहेंगे बिजली के खंभे (www.amarujala.com)
IR Affairs
NCR/North Central
0 Followers
2494 views

News Entry# 386706  Blog Entry# 4377717   
  Past Edits
Jul 14 2019 (13:38)
Station Tag: Mathura Junction/MTJ added by 12649⭐️ KSK ⭐️12650^~/1203948

Jul 14 2019 (13:38)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by 12649⭐️ KSK ⭐️12650^~/1203948

Jul 14 2019 (13:38)
Station Tag: Bina Junction/BINA added by 12649⭐️ KSK ⭐️12650^~/1203948
झांसी। बीना से मथुरा के बीच तीसरी रेल लाइन का काम चल रहा है। इस ट्रैक पर अभी कई जगह आबादी क्षेत्र के लिए बिजली के खंभे लगे हैं। यह खंभे भविष्य में व्यवधान न बनें, इसके लिए सभी जगह अंडर ग्राउंड केबल डालने का काम शुरू हो गया है। शनिवार को एचडीडी मशीन से आईटीआई के पास अंडर ग्राउंड केबल के लिए पाइप डालने का काम किया गया।
विगत अगस्त 2016 में प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी (सीसीईए) ने मथुरा से झांसी के बीच 273.80 किलोमीटर और झांसी से बीना के बीच 152.57 किलोमीटर की तीसरी रेल लाइन को मंजूरी दी थी। तीसरी नई रेल लाइन बिछाने में मथुरा-झांसी के बीच 4377 करोड़ और झांसी-बीना के
...
more...
मध्य 2490 करोड़ रुपये की लागत से काम चल रहा है। इसमें रेल विकास निगम लिमिटेड मथुरा से झांसी के बीच, झांसी से ललितपुर के बीच रेलवे का निर्माण संगठन और ललितपुर और बीना के बीच इंजीनियरिंग विभाग को नया ट्रैक डाल रहा है। तीसरी रेल लाइन के बीच कई बिजली के खंभे आ रहे हैं, जो ओएचई लाइन के ऊपर से पार कर रहे हैं। अथवा पटरियों के पास लगे हैं। चूंकि, तीसरी रेल लाइन बनने पर लंबाई ज्यादा हो जाएगी, ऐसे मेें पटरियों के ऊपर से केबल को गुजारना संभव नहीं होगा। इसलिए सभी खंभों को हटाकर पटरी से 40 मीटर दूर से अंडर ग्राउंड केबल डाली जा रही है। शनिवार को एचडीडी मशीन से आईटीआई के निकट अंडर ग्राउंड केबल के लिए पाइप डालने का काम किया गया। राजस्थान के अजमेर से आई यह मशीन पटरियों के दस मीटर नीचे से 250 मीटर लंबाई तक छेद कर सकती है। छेद करने के बाद दो इंजी लोहे के पाइप डाल दिए जाते हैं, जिसमें से केबल को गुजारा जाता है। लोहे का एक पाइप तीन मीटर का होता है।

  

  
  
Jul 13 (09:31) रेल बजट पर चर्चा के दौरान सदन में सांसद ने टीकमगढ़ संसदीय क्षेत्र को दिल्ली और मुंबई रेल सेवा से जोड़ने की रखी बात (www.bhaskar.com)
IR Affairs
NCR/North Central
0 Followers
5064 views

News Entry# 386614  Blog Entry# 4376644   
  Past Edits
Jul 13 2019 (09:41)
Train Tag: Khajuraho - Indore Express/19664 added by माँ शीतला धाम एक्सप्रेस~/1207464

Jul 13 2019 (09:41)
Train Tag: Khajuraho - Bhopal Mahamana SF Express/22164 added by माँ शीतला धाम एक्सप्रेस~/1207464

Jul 13 2019 (09:41)
Train Tag: Bhopal - Khajuraho Mahamana SF Express/22163 added by माँ शीतला धाम एक्सप्रेस~/1207464

Jul 13 2019 (09:34)
Station Tag: Orchha/ORC added by माँ शीतला धाम एक्सप्रेस~/1207464

Jul 13 2019 (09:34)
Station Tag: Manikpur Junction/MKP added by माँ शीतला धाम एक्सप्रेस~/1207464

Jul 13 2019 (09:34)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by माँ शीतला धाम एक्सप्रेस~/1207464

Jul 13 2019 (09:34)
Station Tag: Indore Junction/INDB added by माँ शीतला धाम एक्सप्रेस~/1207464

Jul 13 2019 (09:34)
Station Tag: Mahoba Junction/MBA added by माँ शीतला धाम एक्सप्रेस~/1207464

Jul 13 2019 (09:34)
Station Tag: Khajuraho/KURJ added by माँ शीतला धाम एक्सप्रेस~/1207464

Jul 13 2019 (09:34)
Station Tag: Tikamgarh/TKMG added by माँ शीतला धाम एक्सप्रेस~/1207464
टीकमगढ़ लोकसभा के सांसद डाॅ. वीरेन्द्र कुमार ने रेल बजट पर चर्चा के दौरान बुंदेलखंड के लोगों के लिए टीकमगढ़-छतरपुर से नई दिल्ली के लिए ट्रेन चलाए जाने की मांग की।
उन्होंने कहा कि काफी प्रयासों के बाद हमें यह ट्रेन नहीं मिल पा रही है। बुंदेलखंड के लिए एक्सप्रेस ट्रेन की सुविधा तब मिली जब मोदी सरकार सत्ता में आई। उसके पहले मात्र एक पैसेंजर ट्रेन चलना शुरू हुई थी, लेकिन मोदी सरकार के पिछले कार्यक्राल में खजुराहो से भोपाल तक महामना एक्सप्रेस ट्रेन चली, फिर दूसरी ट्रेन खजुराहो से इंदौर शुरू की गई। संसदीय क्षेत्र टीकमगढ़ में रेल सुविधाओं के विस्तार के विषय में मांग रखते हुए सांसद ने कहा कि खजुराहो से नई दिल्ली के लिए एक ट्रेन
...
more...
उप्र संपर्क क्रांति चलती है, जो आधी मानिकपुर से और आधी खजुराहो से आती है। यह ट्रेन महोबा उप्र में लिंक होती है। सांसद ने खजुराहो से दिल्ली तक रेल सुविधा शुरू करने की बात रखते हुए कहा कि इसके लिए नई ट्रेन चलाने की जरूरत नहीं पड़ेगी अगर उप्र संपर्क क्रान्ति ट्रेन को महोबा की जगह झांसी में लिंक किया जाए तो बुंदेलखंड का पिछड़ा क्षेत्र देश की राजधानी से सीधे जुड़ जाएगा।
खजुराहो इंदौर का समय बदलने की उठाई मांग
सांसद खटीक ने खजुराहो से इंदौर चल रही एक्सप्रेस ट्रेन का समय बदलने की बात कही। उन्होंने कहा कि यह देर रात टीकमगढ़ पहुंचती है। ट्रेन का समय गलत होने से यह रोज खाली जा रही है। जिससे रेलवे को राजस्व की हानि हो रही है। इसलिए इस ट्रेन काे महामना के समय पर चलाया जाए। जिससे इस ट्रेन का लोग लाभ ले सकें। उन्होंने एक और रेल सेवा की मांग रखते हुए कहा कि यदि खजुराहो से मुंबई के लिए ट्रेन चलाई जाती है, तो क्षेत्र के लोगों को बेहतर इलाज के सुविधा मिल सकेगी। वहीं खजुराहो से सीधी ट्रेन की सुविधा उपलब्ध होने से बुंदेलखंड का विकास हो सकेगा। सांसद ने ओरछा में एक्सप्रेस ट्रेनों के ठहराव की मांग रखते हुए कहा कि ओरछा धार्मिक और पर्यटन की दृष्टि से क्षेत्र का महत्वपूर्ण स्थान है। इस स्टेशन पर पैसेंजर ट्रेन को छोड़कर कोई और ट्रेन नहीं रूकती है। उन्होंनेे कहा कि अगर ओरछा स्टेशन पर सभी ट्रेनों का स्टाॅपेज कर दिया जाएगा, तो झांसी से जो पर्यटक ओरछा आते है, वे ओरछा से अगला पर्यटन केन्द्र वाराणसी सीधे जा सकेंगे।
खजुराहो इंदौर का समय बदलने की उठाई मांग
सांसद खटीक ने खजुराहो से इंदौर चल रही एक्सप्रेस ट्रेन का समय बदलने की बात कही। उन्होंने कहा कि यह देर रात टीकमगढ़ पहुंचती है। ट्रेन का समय गलत होने से यह रोज खाली जा रही है। जिससे रेलवे को राजस्व की हानि हो रही है। इसलिए इस ट्रेन काे महामना के समय पर चलाया जाए। जिससे इस ट्रेन का लोग लाभ ले सकें। उन्होंने एक और रेल सेवा की मांग रखते हुए कहा कि यदि खजुराहो से मुंबई के लिए ट्रेन चलाई जाती है, तो क्षेत्र के लोगों को बेहतर इलाज के सुविधा मिल सकेगी। वहीं खजुराहो से सीधी ट्रेन की सुविधा उपलब्ध होने से बुंदेलखंड का विकास हो सकेगा। सांसद ने ओरछा में एक्सप्रेस ट्रेनों के ठहराव की मांग रखते हुए कहा कि ओरछा धार्मिक और पर्यटन की दृष्टि से क्षेत्र का महत्वपूर्ण स्थान है। इस स्टेशन पर पैसेंजर ट्रेन को छोड़कर कोई और ट्रेन नहीं रूकती है। उन्होंनेे कहा कि अगर ओरछा स्टेशन पर सभी ट्रेनों का स्टाॅपेज कर दिया जाएगा, तो झांसी से जो पर्यटक ओरछा आते है, वे ओरछा से अगला पर्यटन केन्द्र वाराणसी सीधे जा सकेंगे।

4 Public Posts - Sat Jul 13, 2019

1 Public Posts - Sun Jul 14, 2019

3 Public Posts - Mon Jul 15, 2019

1 Public Posts - Tue Jul 16, 2019

1 Public Posts - Wed Jul 17, 2019

  

  

  

  

  
Page#    Showing 1 to 20 of 705 News Items  next>>

Go to Full Mobile site