Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
dark mode

Rockfort Express: திருச்சி அவனது கோட்டை, இரவில் சென்னை வரை வேட்டை, அவன் தான் மலைக்கோட்டை. - Vijay Baradwaj

Full Site Search
  Full Site Search  
FmT LIVE - Follow my Trip with me... LIVE
 
Mon Dec 6 14:33:51 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips
Login
Advanced Search

News Posts by Bundelkhand Expressway The Game Changer

Page#    Showing 1 to 5 of 150 news entries  next>>
Dec 04 (09:03) लाल की जगह अब सफेद रंग में दिखाई देगी ट्रेन व कोच की पोजीशन (www.amarujala.com)
New Facilities/Technology
NCR/North Central
0 Followers
4718 views

News Entry# 471568  Blog Entry# 5153393   
  Past Edits
Dec 04 2021 (09:03)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by Bundelkhand Expressway The Game Changer/2083092
Stations:  Jhansi Junction/JHS  
झांसी। रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर आधुनिक कोच व ट्रेन इंफॉरमेशन बोर्ड लगने जा रहे हैं। इन बोर्डों पर लाल की जगह सफेद रंग में ट्रेन व कोच के नंबर दिखाई देंगे। इस सिस्टम में कर्मचारी को कोच फीडिंग का काम नहीं करना होगा। जनवरी से यह सिस्टम चालू हो जाएगा।विज्ञापनरेलवे कर्मचारियों को अभी ट्रेन आने से पहले उसके कोचों की पोजीशन (इंजन से पीछे का क्रम) स्टेशन से लेनी पड़ती है। टिकट चेकिंग कर्मी दूसरे स्टेशन से पोजीशन लेने के बाद आरक्षण कर्मी को उसके बारे में बताते हैं। आरक्षण कर्मी पूछताछ कार्यालय में ट्रेन नंबर व कोचों की पोजीशन कंप्यूटर पर फीड करता है। ट्रेन आने से पहले कोच पोजीशन प्लेटफार्म पर प्रदर्शित होने लगती है। इस मैन्युअल व्यवस्था में कभी-कभार ऐसा भी हो जाता है कि ट्रेन आने के बाद कोचों की पोजीशन प्लेटफार्म पर प्रदर्शित हो पाती है। इस व्यवस्था को एनटीएस से जोड़ा जा रहा है।...
more...
एनटीएस में कोच पोजीशन ऑनलाइन हो जाती है। इसमें जैसी ही ट्रेन यार्ड में प्रवेश करेगी, वैसे ही प्लेटफार्म पर कोच पोजीशन प्रदर्शित होने लगेगी।दूसरा, अभी काले रंग के कोच व ट्रेन पोजीशन बोर्डों को बदला जा रहा है। नए प्रकार के आधुनिक बोर्ड लगाए जा रहे हैं। इन बोर्डों पर कोच व ट्रेन नंबर लाल रंग की जगह सफेद रंग में लिखे नजर आएंगे। इलेक्ट्रिक बोर्ड पर सफेद रंग दूर से ही बहुत स्पष्ट दिखाई देता है। जनसंपर्क अधिकारी मनोज कुमार सिंह ने बताया कि अभी यह सिस्टम ग्वालियर, दतिया व मुरैना स्टेशन पर स्थापित हो चुका है। झांसी में जनवरी से काम करने लगेगा।
Dec 01 (07:07) 'मैं चलाऊंगा पुरी तक के लिए ट्रेन', गोरखपुर के व्यापारी ने रेलवे से मांगे 15 कोच, जानिए पूरा मामला (www.livehindustan.com)
Tourism
NER/North Eastern
0 Followers
6295 views

News Entry# 471294  Blog Entry# 5150063   
  Past Edits
Dec 01 2021 (07:07)
Station Tag: Puri/PURI added by Bundelkhand Expressway The Game Changer/2083092

Dec 01 2021 (07:07)
Station Tag: Gorakhpur Junction/GKP added by Bundelkhand Expressway The Game Changer/2083092
Stations:  Puri/PURI   Gorakhpur Junction/GKP  
सर...मुझे 15 कोच लीज पर चाहिए। निजी ट्रेन चलाकर यात्रियों को पुरी तक ले जाऊंगा। यह आवेदन गोरखपुर के एक व्यापारी की है। व्यापारी ने रेलवे की भारत गौरव यात्रा योजना के तहत पारंपरिक बोगियों को लीज पर लेने के लिए आवेदन किया है।
व्यापारी का कहना है कि गोरखपुर से पुरी तक कोई सीधी रेल सेवा नहीं है। इस ट्रेन के जरिए बुजुर्गों को भगवान जगन्नाथ के दर्शन कराएंगे। व्यापारी की मंशा बुजुर्ग यात्रियों को अधिक से अधिक रियायत पर पुरी तक यात्रा कराने की है। व्यापारी का आवेदन आने के बाद अब रेलवे कोच उपलब्ध कराने के साथ ही औपचारिकताएं पूरी कराने में जुट गया है। वाणिज्य विभाग के अफसरों का कहना है कि कुछ और लोगों ने भी लीज
...
more...
के बारे में कार्यालय में पूछताछ की है। इस तरह की ट्रेन चलने से तीर्थयात्रियों को सहूलियत होगी। यात्री जब चाहेंगे आराम से यात्रा कर सकेंगे।
खुद तय कर सकेंगी ट्रैफिक और रूट
लीज अवधि कोचों की लाइफ तक बढ़ाई जा सकती है। अहम बात ये है कि इच्छुक पार्टी खुद बिजनेस मॉडल (मार्ग, यात्रा कार्यक्रम, टैरिफ आदि) का विकास या निर्णय करेगी।
पुरी के लिए ही क्याें चलाना चाहते हैं ट्रेन
आवेदन के साथ ही व्यापारी ने लिखा है कि कुछ समय पहले उनके समाज के लोगों को पुरी तक यात्रा करनी थी। गोरखपुर से कोई सीधी ट्रेन न होने की वजह से वाराणसी जाना पड़ा। बस से वाराणसी जाते समय कुछ लोगों का सामान चोरी हो गया। बिना पुरी गए सभी वापस गोरखपुर आ गए। इसके बाद कई बार गोरखपुर से पुरी तक सीधी चलाने के लिए रेलवे पत्र लिखा लेकिन कुछ नहीं हुआ। इस समय लीज पर बोगियों को लेकर पुरी तक यात्रा कराने का अच्छा अवसर है।
लीज पर लेने के लिए कितना देना होगा किराया
आवेदक को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करते एक समय एक लाख रुपये जमा करने होंगे। यह पैसा वापस नहीं होगा।
रजिस्ट्रेशन के बाद प्रयोग के अधिकार के लिए 15 कोच (6 थर्ड एसी, 6 स्लीपर, एसएलआर-2 और पेंट्रीकार-1) के प्रयोग के लिए एकमुश्त 3761004 रुपये देने होंगे।
इसके बाद लीज शुल्क (15 साल) के रूप में इन्हीं 15 कोच के लिए 25294606 रुपये देने होंगे।
इस सब के बाद 900 रुपये प्रति किलोमीटर की दर से हर ट्रिप में परिचालन शुल्क देना होगा।
Nov 26 (08:43) लखीमपुर-बांकेगंज रेलखंड पर सौ की स्पीड से दौड़ी सीआरएस स्पेशल (www.amarujala.com)
IR Affairs
NER/North Eastern
0 Followers
7024 views

News Entry# 470927  Blog Entry# 5144794   
  Past Edits
Nov 26 2021 (08:43)
Station Tag: Banke Ganj/BNKJ added by Bundelkhand Expressway The Game Changer/2083092

Nov 26 2021 (08:43)
Station Tag: Lakhimpur/LMP added by Bundelkhand Expressway The Game Changer/2083092
Stations:  Lakhimpur/LMP   Banke Ganj/BNKJ  
लखीमपुर स्टेशन पर हवन पूजन के बाद शुरू हुआ निरीक्षण कार्यविज्ञापनबांकेगंज से शाम 05.55 पर शुरू हुआ स्पीड ट्रायललखीमपुर खीरी। रेल संरक्षा आयुक्त ने बृहस्पतिवार को लखीमपुर-बांकेगंज रेलखंड के विद्युतीकरण कार्य का निरीक्षण कर स्पीड ट्रायल किया। सीआरएस ने बांकेगंज से लखीमपुर तक सौ की स्पीड से ट्रायल किया, जिसे कार्यदायी संस्था के लोग पूरी तरफ से सफल बता रहे हैं।लखीमपुर-बांकेगंज रेलखंड का विद्युतीकरण काम पूरा होने के बाद बृहस्पतिवार को सीआरएस ट्रायल होना था। इसके लिए सीआरएम मोहम्मद लतीफ खान, डीआरएस डॉ. मोनिका अग्निहोत्री पूरे अमले के साथ सुबह 11 बजे लखीमपुर स्टेशन पहुंचीं। विधि विधान से हवन पूजन के बाद सीआरएस और डीआरएम स्पेशल ट्रेन से निरीक्षण के लिए बांकेगंज रवाना हुए। अधिकारियों की टीम निरीक्षण करते हुए शाम करीब साढ़े चार बजे बांकेगंज स्टेशन पहुंची। बताते हैं कि इस दौरान विद्युतीकरण कार्य बेहतर मिला। स्पीड ट्रायल के लिए सीआरएस की स्पेशल ट्रेन शाम 5:55 बजे बांकेगंज से रवाना...
more...
होकर 6:46 बजे लखीमपुर पहुंची। इस दौरान करीब 15 मिनट सीआरएस और डीआरएम ने फरधान स्टेशन पर रुककर पॉवर हाउस निर्माण की प्रगति जानी। रेलवे के लोगों ने बताया कि 100 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से ट्रायल सफल रहा। इस दौरान पूर्वोत्तर रेलवे के विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।इन सुविधाओं की पड़ताल कीरेल संरक्षा आयुक्त ने लखीमपुर से लेकर बांकेगंज तक विद्युतीकृत के मानक अनुरूप क्रॉस ओवर लाइन विद्युतकर्षण, लाइन फिटिंग, ओवर हेड ट्रैक्शन, लाइन की मानक, ऊंचाई, समपार फाटकों से दूरी, स्टेशन वर्किंग रुल के अपडेशन सहित अन्य टेक्निकल बिंदुओं की गहनता से पड़ताल की। बांकेगंज और गोला स्टेशन पर अधीक्षक कार्यालय, पैनल रूम, रिले का भी निरीक्षण किया।मैलानी से लखनऊ जाने वाली पैसेंजर रहेगी निरस्तशुक्रवार सुबह 7:48 बजे लखीमपुर से लखनऊ जाने वाली पैसेंजर ट्रेन निरस्त रहेगी, जबकि अन्य ट्रेनों का संचालन पहले की भांति होगा। रेलवे के लोग बताते हैं कि शुक्रवार से गोमती एक्सप्रेस का संचालन भी पूर्व की तरह विधिवत शुरू हो जाएगा।सीआरएस ने देखा बांकेगंज स्टेशन पर विद्युतीकरण का कार्यबांकेगंज। लखीमपुर-बांकेगंज के बीच कराए गए रेल विद्युतीकरण कार्य का सीआरएस मोहम्मद लतीफ खान और डीआरएम डॉ. मोनिका अग्निहोत्री ने निरीक्षण किया। सीआरएस मोहम्मद लतीफ खान ने सबसे पहले समपार फाटक का जायजा लेकर यात्रियों एवं आम लोगों की सुरक्षा को लेकर किए गए कार्यों को देखा। इसके बाद रेलवे स्टेशन पर कार्यों का बारीकी से निरीक्षण किया। साथ ही आरवीएनएल के मुख्य परियोजना अधिकारी दिल्ली दिनेश चंद्र पांडेय, प्रमुख मुख्य विद्युत इंजीनियर गोरखपुर एके शुक्ला, मुख्य कर्षण इंजीनियर ओपी सिंह और संबधित अधिकारियों से 25 वोल्ट करंट से प्रवाहित बिजली पोलों और तारों से यात्रियों की सुरक्षा के लिए लगाए जाने वाले चेतावनी/ काशन बोर्डों का निरीक्षण कर अधिनस्थों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। इस बीच उन्होंने रेल ट्रैक, सिग्नल, स्विचिंग बोर्ड आदि का बारीकी से जायजा लिया। स्टेशन मास्टर से इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेनों के संचालन में बरती जाने वाली सावधानियों से संबधित जानकारी ली। रेलवे स्टेशन पर डेढ़ घंटे तक निरीक्षण करने के बाद शाम छह बजे इलेक्ट्रिक ट्रेन पर सवार होकर स्पीड ट्रायल के लिए लखीमपुर रवाना हो गए। सेक्शन प्रभारी जगन्नाथ मिश्र, सफदर हुसैन, सुभाष त्रिपाठी आदि मौजूद रहे।सीआरएस ने बृहस्पतिवार को लखीमपुर-बांकेगंज रेलखंड पर कराए गए विद्युतीकरण कार्य का निरीक्षण कर स्पीड ट्रायल किया। 100 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से ट्रायल सफल रहा।- जगन्नाथ मिश्र, प्रबंधक रेल विकास निगम लिमिटेड
Nov 26 (08:35) ट्रेन छूटी तो मिल जाएगी बस, यूपी के परिवहन विभाग ने तैयार किया प्लान, एक दिसंबर से मिलेगी सुविधा (www.livehindustan.com)
Commentary/Human Interest
NR/Northern
0 Followers
18868 views

News Entry# 470926  Blog Entry# 5144781   
  Past Edits
Nov 26 2021 (08:35)
Station Tag: Gorakhpur Junction/GKP added by Bundelkhand Expressway The Game Changer/2083092

Nov 26 2021 (08:35)
Station Tag: Agra Cantt./AGC added by Bundelkhand Expressway The Game Changer/2083092

Nov 26 2021 (08:35)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by Bundelkhand Expressway The Game Changer/2083092

Nov 26 2021 (08:35)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by Bundelkhand Expressway The Game Changer/2083092

Nov 26 2021 (08:35)
Station Tag: Prayagraj Junction (Allahabad)/PRYJ added by Bundelkhand Expressway The Game Changer/2083092

Nov 26 2021 (08:35)
Station Tag: Lucknow Charbagh NR/LKO added by Bundelkhand Expressway The Game Changer/2083092
ट्रेन से सफर करने वाले यात्रियों के लिए राहत की खबर है। ट्रेनों में वेटिंग होने, तत्काल में सीटें नहीं मिलने, ट्रेन छूटने या इमरजेंसी में यात्रा करनी है तो परेशान होने की जरूरत नहीं है। परिवहन निगम प्रशासन ट्रेनों की समय सारणी के हर आधे घंटे बाद आलमबाग बस टर्मिनल से एसी बसें चलाएगा। ताकि विभिन्न ट्रेनों के यात्रियों को बसों से गंतव्य स्थान तक पहुंचाया जा सके।
परिवहन निगम दिल्ली, देहरादून, पंजाब और बिहार रूट की चुनिंदा ट्रेनों की समय सारणी पर बसें चलाने की तैयारी कर रहा है। ये बसें अंतर्राज्जीय बस स्टेशन आलमबाग से चलेंगी। इसके लिए रूट और समय सारणी तैयार की जा रही है  जो कि चारबाग और लखनऊ जंक्शन रेलवे स्टेशन पर प्रदर्शित की जाएगी।
...
more...
ट्रेन के यात्रियों को एक दिसंबर से बसों की सुविधा देने की तैयारी है। 
मौके पर ऑनलाइन सीट बुक करा सकेंगे
ट्रेन में सीट नहीं मिलने पर यात्री मौके पर परिवहन निगम वेबसाइट पर जाकर तत्काल में सीटों की बुकिंग करा सकेंगे। ऑनलाइन सीटों की बुकिंग में यूपी के विभिन्न जनपदों के अलावा अन्य राज्यों के बीच संचालित सस्ते किराए की एसी बसों से सफर करने का मौका मिलेगा।  
इन शहरों के लिए मिलेंगी बसें
क्षेत्रीय प्रबंधक पल्लव बोस ने बताया कि यूपी के आधा दर्जन शहरों के अलावा चार राज्यों के बीच ट्रेन के समय पर बसें चलेंगी। इनमें यूपी के लखनऊ से प्रयागराज, वाराणसी, प्रतापगढ़, झांसी, आगरा, गोरखपुर रूट को चिह्नित किया है। जहां सस्ते किराए की एसी जनरथ बसों की सुविधा यात्रियों को मिलेगी।
लखनऊ-झांसी समेत चार रूटों पर 19 वाहनों के परमिट मंजूर 
झांसी रूट पर निजी बस ऑपरेटरों के परमिट आवेदन पर मंजूरी मिल गई। इससे झांसी रूट पर आम लोगों का सफर आसान होगा। ऐसे 14 विभिन्न मार्गों पर चलने वाले निजी वाहनों के 19 नए परमिट स्वीकृत किए गए। गुरुवार को प्रमुख सचिव परिवहन आरके सिंह की अध्यक्षता में आयोजित राज्य परिवहन प्राधिकरण की बैठक में तीन मार्गों के लिए रोडवेज बसों के चार परमिट नवीनीकृत किए गए। 
सात परिमटों के हस्तांतरण को मंजूरी दी गई। वहीं 16 मार्गों पर निजी संचालकों के परमिट के आवेदन पत्रों और पांच मार्गों पर परमिटों की समय सारणी में बदलाव पर विचार किया गया। बैठक में विशेष सचिव एवं अपर विधि परामर्शी और उप निदेशक यातायात नेजाम हसन के साथ प्राधिकरण के अन्य सदस्य मौजूद रहे। यह जानकारी राज्य परिवहन प्राधिकरण की सचिव ममता शर्मा ने दी।
Nov 23 (16:16) ट्रेनों में यात्र‍ियों को म‍िलेगा कंबल व चादर, रेलवे बोर्ड ने जारी क‍िया द‍िशा न‍िर्देश (m.jagran.com)
New Facilities/Technology
NER/North Eastern
0 Followers
7849 views

News Entry# 470731  Blog Entry# 5141067   
  Past Edits
Nov 23 2021 (16:16)
Station Tag: Gorakhpur Junction/GKP added by Bundelkhand Expressway The Game Changer/2083092
Stations:  Gorakhpur Junction/GKP  
रेलवे बोर्ड ने पूर्वोत्तर रेलवे सहित सभी जोन मुख्यालय से बेडरोल की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित कर दिया है। कभी भी यात्रियों को बेडरोल उपलबध कराने का फरमान जारी हो सकता है। 23 मार्च 2020 से लाकडाउन के साथ ही उनका उपयोग नहीं हो रहा है।
गोरखपुर, जागरण संवाददाता। Blankets & bedrolls to passengers in trains: वातानुकूलित कोचों में सफर करने वाले यात्रियों के लिए राहत भरी खबर है। उन्हें जल्द ही बेडरोल (चादर, कंबल, तौलिया और तकिया आदि) की सुविधा भी मिलने लगेगी। संबंधित अधिकारी बेडरोल की व्यवस्था फिर से शुरू करने की तैयारी में जुट गए हैं।
पूर्वोत्तर
...
more...
रेलवे प्रशासन ने मुख्यालय व तीनों मंडल से पूछा, कितने हैं कंबल, चादर, तकिया और तौलिया
जानकारों के अनुसार पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन ने मुख्यालय गोरखपुर सहित लखनऊ, वाराणसी और इज्जतनगर मंडल से उपयोग लायक कंबल, चादर, तकिया और तौलिया आदि की संख्या पूछी है। ताकि, कम पड़ने पर यथाशीघ्र टेंडर की प्रक्रिया के तहत पर्याप्त बेडरोल की व्यवस्था सुनिश्चित की जा सके।
दरअसल, रेलवे बोर्ड ने पूर्वोत्तर रेलवे सहित सभी जोन मुख्यालय से बेडरोल की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित कर दिया है। कभी भी यात्रियों को बेडरोल उपलबध कराने का फरमान जारी हो सकता है। ऐसे में रेलवे प्रशासन ने अपनी तैयारी तेज कर दी है। फिलहाल, गोरखपुर मुख्यालय में बेडरोल के स्टाक की गड़ना शुरू हो गई है। देखा जा रहा है कि बेडरोल उपयोग लायक है या नहीं। अधिकतर बेडरोल उपयोग लायक नहीं है। ऐसे में उपयोग लायक बेडरोल की धुलाई भी शुरू हो गई है।
कंडम हो रहे हैं करोड़ों के बेडरोल
भारतीय रेलवे में करोड़ों के बेडरोल कंडम हो रहे हैं। 23 मार्च 2020 से लाकडाउन के साथ ही उनका उपयोग नहीं हो रहा है। जानकारों के अनुसार गोरखपुर स्थित मैकेनाइज्ड लाउंड्री में ही लगभग 55 हजार चादरों की उम्र पूरी हो चुकी है। करीब 15 हजार कंबल के अलावा तौलिया और तकिये भी पड़े हैं। उनकी क्वालिटी परखी जा रही है। कंबल का प्रयोग चार और चादर का अधिकतम दो साल तक किया जा सकता है।
बोगियों से हटा लिए गए हैं बेडरोल और पर्दे
लाकडाउन के बाद एक जून 2020 से स्पेशल के रूप में ट्रेनों का संचालन शुरू हो गया। लेकिन रेलवे बोर्ड ने कोविड प्रोटोकाल का हवाला देते हुए वातानुकूलित बोगियों से बेडरोल और पर्दों को हटा लिया। अब स्थिति सामान्य होने के बाद सभी ट्रेनें चलने लगी हैं। ट्रेनों में वातानुकूलित कोच भी बढ़ने लगे हैं। ठंड ने भी दस्तक दे दी है। लेकिन बेडरोल नहीं मिल रहा। ऐसे में यात्रियों की परेशानी बढ़ गई।
Page#    150 news entries  next>>

Go to Full Mobile site