Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

रेलफैनों की तो बात ही कुछ और है

Full Site Search
  Full Site Search  
FmT LIVE - Follow my Trip with me... LIVE
 
Sun Jun 13 07:05:11 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Advanced Search

News Posts by Pankaj

Page#    Showing 1 to 5 of 184 news entries  next>>
Apr 08 (23:44) जुलाई तक हो जाएगा 50 किलोमीटर दोहरीकरण का काम पूरा (www.amarujala.com)
Commentary/Human Interest
NCR/North Central
0 Followers
42796 views

News Entry# 448184  Blog Entry# 4933491   
  Past Edits
Apr 08 2021 (23:44)
Station Tag: Kalpi/KPI added by Pankaj/1718748

Apr 08 2021 (23:44)
Station Tag: Rasulpurgogamau/RPGU added by Pankaj/1718748

Apr 08 2021 (23:44)
Station Tag: Bhimsen Junction/BZM added by Pankaj/1718748

Apr 08 2021 (23:44)
Station Tag: Rasulpur/RSLR added by Pankaj/1718748

Apr 08 2021 (23:44)
Station Tag: Pokhrayan/PHN added by Pankaj/1718748

Apr 08 2021 (23:44)
Station Tag: Orai/ORAI added by Pankaj/1718748

Apr 08 2021 (23:44)
Station Tag: Chaunrah/CNH added by Pankaj/1718748

Apr 08 2021 (23:44)
Station Tag: Malasa/MLS added by Pankaj/1718748

Apr 08 2021 (23:44)
Station Tag: Erach Road/ERC added by Pankaj/1718748

Apr 08 2021 (23:44)
Station Tag: Nandkhas/NDK added by Pankaj/1718748

Apr 08 2021 (23:44)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by Pankaj/1718748

Apr 08 2021 (23:44)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by Pankaj/1718748
उरई (जालौन)। झांसी मंडल के डीआरएम संदीप माथुर ने कहा कि झांसी कानपुर ट्रैक के नंदखास से एरच रोड, कालपी से चौराहा, पुखरायां मलासा के 50 किलोमीटर ट्रैक के दोहरीकरण का काम जुलाई तक पूरा कर लिया जाएगा। इसके बाद मलासा से रसूलपुर 25 किलोमीटर ट्रैक का दोहरीकरण अगले साल जनवरी 22 तक पूरा करने का लक्ष्य है। इसी प्रकार रसूलपुर से भीमसेन तक का काम मार्च 2022 तक पूरा कर लिया जाएगा। डीआरएम बुधवार को वेबिनार के माध्यम से पत्रकारों से वार्ता कर रहे थे। ...
more...
डीआरएम ने बताया कि उरई स्टेशन पर एक दो और तीन नंबर पर निर्माणाधीन रैंप को इसी महीने 30 अप्रैल तक चालू कर दिया जाएगा। कोच इंडीकेट व सीसीटीवी कैमरे का संचालन भी जल्द शुरु होगा। उन्होंने बताया कि फुटओवरब्रिज (एफओबी) सरसौखी,आटा व उसरगांव में जून तक तैयार हो जाएंगे। उन्होंने बताया कि सीसीटीवी कैमरा मंडल के उरई समेत पांच स्टेशनों पर जीपीएस सिस्टम से जुड़े हैं जिनके माध्यम से झांसी में बने कंट्रोल रूम रूम में उरई स्टेशन की गतिविधियां सीसीटीवी कैमरे के माध्यम से देखी जा सकती हैं। इनको कमांडेंट ऑफिस से भी जोड़ा गया है। दो और तीन नंबर पर अक्सर ट्रेन आने पर बिजली जाने की समस्या को लेकर उन्होंने कहा कि मामला गंभीरता से लिया गया है। संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि व्यवस्था में सुधार लाए अन्यथा कार्रवाई होगी। कोंच एट शटल ट्रेन चलाने के सवाल पर उन्होंने कहा है कि जैसे ही रेलवे बोर्ड से एट स्टेशन पर ट्रेनों के ठहराव की अनुमति आ जाती है। इसके बाद शटल का संचालन के लिए रेलवे बोर्ड से अनुमति के लिए पत्र लिखेंगे। रेलवे क्रासिंग नंबर 179 रिनियां रेलवे क्रासिंग पर लगने वाले जाम को लेकर उन्होंने कहा कि संबंधित अधिकारियों से बात कर समस्या के निदान का उपाय करेंगे। इस दौरान सीनियर डीसीएम नवीन दीक्षित मौजूद रहे।
Apr 01 (14:38) सादुलपुर-नाेहर रेलखंड में विद्युतीकरण कार्य काे दी हरी झंडी (www.bhaskar.com)
IR Affairs
NWR/North Western
0 Followers
24160 views

News Entry# 447513  Blog Entry# 4926172   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
कमिश्नर ऑफ रेलवे सेफ्टी (सीआरएस) आरके शर्मा ने 29 व 30 मार्च को चूरू, सादुलपुर, नोहर खंड में हुए रेल विद्युतीकरण कार्य का विस्तृत निरीक्षण किया। इसके बाद 100 किमी. प्रति घंटा की रफ्तार से सीआरएस स्पेशल ट्रेन का विद्युतीकृत लोको इंजन से स्पीड ट्रायल किया।
इसके बाद इस ट्रेन पर इलेक्ट्रिक ट्रेन चलाने का प्राधिकार जारी किया। अब जल्द ही इस ट्रैक पर विद्युतीकरण का काम हाेगा। रेल विद्युतीकरण से राजस्थान एवं हरियाणा राज्य के चार जिलों चूरू, भिवानी, महेन्द्रगढ़ एवं रेवाड़ी के नागरिकों को प्रदूषण रहित ग्रीन ट्रांसपोर्ट व तेज गति की रेल सेवा का लाभ मिलेगा। निरीक्षण के दौरान उत्तर पश्चिम रेलवे के प्रमुख मुख्य बिजली अभियंता राजेश मोहन, मंडल रेल प्रबंधक संजय श्रीवास्तव, मुख्य बिजली कर्षण वितरण अभियंता
...
more...
अनिल कुमार जैन, मुख्य परियोजना निदेशक एसएस यादव, उपमुख्य विद्युत अभियंता ओम प्रकाश मदेरणा, वरिष्ठ मंडल बिजली अभियंता (कर्षण) राजेन्द्र सिंह चौधरी, मंडल विद्युत अभियंता विपिन कुमार एवं मंडल विद्युत अभियंता अमित कुमार मीणा भी उपस्थित रहे।
मुरादाबाद रेल मंडल के कोटद्वार-नजीबाबाद के बीच जल्‍द ही इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेन संचालन शुरू हो जाएगा। सीआरएस ने इसकी अनुमत‍ि दे दी है। इसके बाद से मंडल रेल प्रशासन तैयारियों में जुट गया है।
मुरादाबाद, : एक साल से अधिक समय तक इंतजार करने के बाद मुरादाबाद रेल मंडल के कोटद्वार-नजीबाबाद रेल मार्ग पर इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेन चलाने की अनुमति म‍िल गई है। सिद्धबली जनशताब्दी एक्सप्रेस में शीघ्र ही डीजल इंजन हटाकर इलेक्ट्रिक इंजन लगाकर संचालन शुरू किया जाएगा।
मुरादाबाद रेल मंडल के नजीबाबाद-कोटद्वार के बीच 27 किलोमीटर रेल मार्ग पर
...
more...
दिसंबर 2019 में विद्युतीकरण का कार्य पूरा हो चुका था। कमिश्नर रेलवे आफ सेफ्टी (सीआरएस) ने जनवरी 2020 में इस मार्ग का निरीक्षण किया था और विद्युतीकरण के कार्य में कई कमी बताई थी। इस पर विद्युतीकरण संगठन के अधिकारियों ने ध्यान नहीं दिया। इसके कारण इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेन चलाने की अनुमति नहीं मिली थी। रेलवे मंत्री ने फरवरी में कोटद्वार-दिल्ली के बीच जनशताब्दी एक्सप्रेस चलाने का उदघाटन किया था और घोषणा की थी कि पहली अप्रैल से नजीबाबाद-कोटद्वार के बीच इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेन चलनी शुरू हो जाएगी। उदघाटन के बाद सिद्धबली जनशताब्दी एक्सप्रेस को डीजल इंजन से चलाया जा रहा है। रेलवे मंत्री की घोषणा के बाद उत्तर रेलवे मुख्यालय, विद्युतीकरण संगठन के अधिकारी सक्रिय हो गए। 15 मार्च तक अधूरे काम को पूरा कर लिया और उत्तर रेलवे मुख्यालय के मुख्य विद्युत अभियंता ने टीम के साथ नजीबाबाद से कोटद्वार के बीच निरीक्षण किया। इस दौरान अधूरे काम को पूरा होना पाया गया। इसकी रिपोर्ट के बाद सीआरएस ने नजीबाबाद-कोटद्वार के बीच इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेन चलाने की आदेश दे द‍िए। इस आदेश के बाद मंडल रेल प्रशासन ने इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेन चलाने की तैयारी शुरू कर दी है। माना जा रहा है कि सिद्धबली एक्सप्रेस दो-तीन दिन में डीजल इंजन के बजाय इलेक्ट्रिक इंजन से चलनी शुरू हो जाएगी। सहायक वाणिज्य प्रबंधक नरेश सिंह ने बताया कि कोटद्वार-नजीबाबाद के बीच इलेक्ट्रिक इंजन द्वारा ट्रेन चलाने की अनुमत‍ि मिल गई है। अभी तक बालामऊ-सीतारपुर-ऊन्नाव रेल मार्ग पर इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेन चलाने की अनुमत‍ि नहीं मिली है।
Mar 30 (15:18) जींद-सोनीपत ट्रैक पर इलेक्ट्रिक इंजन से चलती नजर आएगी ट्रेन (www.haribhoomi.com)
IR Affairs
NR/Northern
0 Followers
18898 views

News Entry# 447334  Blog Entry# 4923467   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
रेलवे सीआरएस शैलेश कुमार पाठक ने पांडु-पिंडारा जंक्शन से गोहाना तक निरीक्षण किया था। निरीक्षण के दौरान सब कुछ सही मिला है। इसके बाद सीआरएस ने इलेक्ट्रिक इंजन से चलने वाली ट्रेनों को चलाने के लिए हरी झंडी दे दी है।
जींद-सोनीपत ट्रैक पर शीघ्र ही यात्रियों को इलेक्ट्रिक इंजन के साथ रेलगाडि़यां दौड़ती हुई नजर आएंगी। इससे रेल में सफर करने वाले यात्रियों की जहां समय की बचत होगी वहीं वो शीघ्र भी अपने गंतव्य तक पहुंचेंगे। इसी को लेकर शनिवार को रेलवे सीआरएस शैलेश कुमार पाठक ने पांडु-पिंडारा जंक्शन से गोहाना तक निरीक्षण किया था। निरीक्षण के दौरान सब कुछ सही मिला है। इसके बाद सीआरएस ने इलेक्ट्रिक इंजन से चलने वाली ट्रेनों को चलाने के लिए हरी झंडी दे
...
more...
दी है। अब इन ट्रैक पर जल्द ही इलेक्ट्रिक ट्रेनें चलेगी। समय व पैसे दोनों बचेंगे। सीएओ अरूण कुमार, मुख्य कार्यालय अधीक्षक सुधीर हुड्डा, परियोजना निदेशक एसएस यादव भी मौजूद रहे।
सेफ्टी रेलवे ऑफ कमीश्नर शैलेश कुमार पाठक पांडु-पिंडारा रेलवे जंक्शन पर पहुंचे स्थानीय अधिकारियों व कर्मियों से बातचीत की। हालांकि गोहाना से सोनीपत रेलवे ट्रैक का विद्युतीकरण का कार्य बहुत समय पहले ही पूरा किया जा चुका है और इस ट्रैक पर ट्रायल भी लिया जा चुका था लेकिन जींद से गोहाना तक ट्रैक का विद्युतीकरण चल रहा था। अब यह विद्युतीकरण का कार्य पूरा हुआ और जींद से गोहाना तक निरीक्षण किया गया था।
सीआरएस ने पांडु-पिंडारा रेलवे जंक्शन से निरीक्षण की शुरुआत की। निरीक्षण के दौरान सब कुछ सही पाया गया। इससे पहले दोपहर को जींद जंक्शन पर सीआरएस रूके और वहां पर लंच किया। गोहाना से सोनीपत के बीच का विद्युतीकरण कार्य पूरा हो चुका है। वहीं जींद से गोहाना तक का विद्युतीकरण कार्य के लिए रेलवे ने 36 करोड़ रुपये का बजट जारी किया था। जींद से गोहाना की लंबाई लगभग 36 किलोमीटर है। जिसके विद्युतीकरण का कार्य करीब 18 महीने पहले शुरू हुआ था। उसके बाद कोरोना काल के चलते यह कार्य अधर में लटक गया था। लॉकडाउन खुलने के बाद कार्य शुरू हो पाया था। अब पिछले दिनों यह कार्य पूरा हो गया था।
ट्रायल में इलेक्ट्रिक ट्रेन 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ी। पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन को अब सीआरएस की हरी झंडी का इंतजार है। होली बाद उनकी रिपोर्ट आते ही इस रूट पर भी इलेक्ट्रिक इंजनों से ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाएगा।
गोरखपुर, जेएनएन। पूर्वोत्तर रेलवे के लखनऊ मंडल स्थित गोरखपुर- आनंदनगर रेलमार्ग पर शनिवार को रेल संरक्षा आयुक्त (सीआरएस) मोहम्मद लतीफ खान की इलेक्ट्रिक ट्रेन 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ी। लगभग 42 किमी रेलमार्ग पर स्पीड ट्रायल के बाद उन्होंने विद्युतीकरण, रेल लाइनों और पुलों का भी गहन निरीक्षण किया। उनकी हरी झंडी मिलते ही गोरखपुर से आनंदनगर के बीच इलेक्ट्रिक ट्रेनें दौडऩे लगेंगी।
अधिकारियों
...
more...
के साथ विद्युतीकरण, रेल लाइनों और पुलों का किया निरीक्षण  
सीआरएस की ट्रेन सुबह 9.00 बजे 25,000 वोल्ट एसी नई विद्युतकर्षण लाइन पर संबंधित अधिकारियों को साथ लेकर गोरखपुर से रवाना हुई। नकहा जंगल और आनंदनगर रेलवे स्टेशन के अलावा विद्युतीकरण व रेल लाइनों का परीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने साथ चल रहे इंजीनियरों को आवश्यक सुझाव और दिशा-निर्देश भी जारी किया। इस मौके पर प्रमुख मुख्य विद्युत इंजीनियर एके शुक्ला, लखनऊ की मंडल रेल प्रबंधक डा. मोनिका अग्निहोत्री और प्रमुख परियोजना निदेशक सुधांशु कृष्ण दूबे, मुख्य इंजीनियर राम जनम आदि अधिकारी मौजूद थे।

अब सीधे नकहा जंगल व आनंदनगर नगर तक पहुंचेगी इलेक्ट्रिक मालगाडिय़ां
पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन को अब सीआरएस की हरी झंडी का इंतजार है। होली बाद उनकी रिपोर्ट आते ही इस रूट पर भी इलेक्ट्रिक इंजनों से ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाएगा। जानकारों के अनुसार शुरुआत में यात्री ट्रेनें तो नहीं, लेकिन इलेक्ट्रिक इंजनों से चलने वाली मालगाडिय़ां सीधे नकहा जंगल और आनंदनगर गुड्स यार्ड पहुंचने लगेंगी। उन्हें गोरखपुर जंक्शन में इंजन बदलने की जरूरत नहीं पड़ेगी। जल्द ही मालगाडिय़ां और यात्री ट्रेनें गोरखपुर से नौतनवां तक चलने लगेंगी। आनंदनगर- नौतनवां रेलमार्ग का विद्युतीकरण भी तेज गति से चल रहा है। नए साल में आनंदनगर बढऩी-गोंडा रेलमार्ग पर भी इलेक्ट्रिक ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाएगा। इस रेलमार्ग का विद्युतीकरण भी जारी है। रेलवे प्रशासन ने दिसंबर तक कार्य पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया है।
Page#    184 news entries  next>>

Go to Full Mobile site