PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

Bihar Sampark Kranti - ECR Don ka ticket Confirm hona mushkil hi nahi, namumkin hai. - Somanko

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Wed Nov 25 08:37:36 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Advanced Search
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 422477
Oct 23 (13:01) North Eastern Railway: प्लेटफार्मों पर शोपीस बनीं आटोमेटिक वाटर वेंडिंग मशीनें, बंद पड़ी हैं 40 मशीनें (m.jagran.com)
Commentary/Human Interest
NER/North Eastern
0 Followers
6310 views

News Entry# 422477  Blog Entry# 4756241   
  Past Edits
Oct 23 2020 (13:02)
Station Tag: Gorakhpur Junction/GKP added by Anupam Enosh Sarkar/401739
Stations:  Gorakhpur Junction/GKP  
गोरखपुर, जेएनएन। रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों को कम दाम में पीने का शुद्ध पानी उपलब्ध कराने का रेलवे का दावा हवाई साबित हो रहा है। ट्रेनें चलने लगीं, तो स्टेशन गुलजार हो गए, लेकिन प्लेटफार्मों पर आटोमेटिक वाटर वेंडिंग मशीनें शोपीस बनी हुई हैं।
लखनऊ मंडल में गोरखपुर जंक्शन की एक दर्जन सहित खलीलाबाद, बस्ती, गोंडा, बादशाहनगर और लखनऊ आदि रेलवे स्टेशनों पर करीब 40 मशीनें बंद पड़ी हैं। उनकी देखभाल भी करने वाला कोई नहीं है। जानकारों का कहना है कि सात माह से मशीनें बंद हैं। उन्हें चालू नहीं किया गया, तो पानी देने लायक नहीं रह जाएंगी। 2016 से शुरू रेलवे की यह महत्वाकांक्षी योजना परवान चढऩे से पहले ही धराशायी हो जाएगी।
पीने
...
more...
के शुद्ध पानी के नाम पर ढीली हो रही आम यात्रियों की जेब
दरअसल, आम यात्रियों की सुविधा के लिए इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कार्पोरेशन (आइआरसीटीसी) ने पूर्वोत्तर रेलवे के प्रमुख स्टेशनों पर आटोमेटिक वाटर वेंडिंग की व्यवस्था की है। इन मशीनों से महज पांच रुपये में एक लीटर पीने का पानी मिल जाता है। फिलहाल यात्रियों को एक लीटर पानी के लिए 15 से 20 रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं।
फंसा है बिजली बिल का पेंच
आइआरसीटीसी ने आटोमेटिक वाटर वेडिंग मशीनों को संचालित करने की जिम्मेदारी निजी संस्था को दी है। संस्था मशीन से पानी तो बेचती रही, लेकिन शर्तों के मुताबिक रेलवे प्रशासन के पास बिजली का बिल जमा नहीं किया। संस्था पर बिजली बिल का लाखों रुपये बकाया है। संस्था न बिजली बिल जमा कर रही है और न रेलवे मशीनें चालू करने की अनुमति दे रहा है। आइआरसीटीसी के प्रबंधक अनिल गुप्‍ता का कहना है कि रेलवे प्रशासन का जैसे ही दिशा-निर्देश मिलेगा, आटोमेटिक वाटर वेंङ्क्षडग मशीनें चालू करा दी जाएंगी। यात्रियों की सुविधा के लिए ही मशीनें लगाई गई हैं।
Go to Full Mobile site