Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

For RailFans, the Journey itself is the Destination. - Sreerup Patranabis

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Tue Mar 9 07:40:12 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Advanced Search
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 434881
Jan 24 (08:18) रेलवे पुल का गर्डर नीचे गिरा, टल गई बड़ी दुघर्टना (m.livehindustan.com)
Major Accidents/Disruptions
NER/North Eastern
0 Followers
11090 views

News Entry# 434881  Blog Entry# 4855044   
  Past Edits
Jan 24 2021 (08:18)
Station Tag: Prayagraj Rambag/PRRB added by Adittyaa Sharma/1421836
प्रयागराज। कार्यालय संवाददातामधवापुर डॉटपुल के हाइट गेज का गर्डर शनिवार को पूरी तरह क्षतिग्रस्त होकर नीचे गिर गया। गर्डर गिरने से बड़ी दुर्घटना हो सकती थी लेकिन शुक्र है कि दुर्घटना होने से बच गई। मधवापुर डॉटपुल का गर्डर गिरना साफ तौर पर रेलवे अफसरों की उदासीनता को दर्शाता है क्योंकि तीन दिन पूर्व ही गर्डर ट्रक की टक्कर से पूरी तरह नीचे लटक गया था। रेलवे ने इसके बाद गर्डर की मरम्मत कराई थी। इसके सिर्फ तीन दिन बाद एक बार फिर गर्डर पर कोई बड़ा वाहन टकराया और गर्डर पूरी तरह नीचे गिर गया। रेलवे के अधिकारियों से गर्डर से वाहन की टक्कर रोकने के लिए रात में किसी की ड्यूटी लगाने की बात कही गई है। जिससे बड़े वाहनों को प्रवेश से रोका जा सके।दरअसल, डॉट पुल के नीचे से बड़े वाहन गुजरने की कोशिश करते हैं तो हाइट गेज के गर्डर से टक्कर होती है। स्थानीय लोग...
more...
बताते हैं कि इस पुल पर पहले भी चार बार गर्डर क्षतिग्रस्त होकर लटक चुके हैं। जिसे बार-बार रेलवे कर्मचारी बनाते हैं।पहले भी हुई है टक्कर, रास्ता डायवर्टमधवापुर के आसपास रहने वाले बताते हैं कि गर्डर से गाड़ी टकराने की घटनाएं अक्सर होती हैं। इससे पहले पांच-छह बार गर्डर किसी न किसी वाहन से टकराने की वजह से क्षतिग्रस्त हो चुका है। शनिवार को गर्डर गिरने की जानकारी मिलने के बाद रेलवे के तकनीकी अधिकारी पंहुचे और मरम्मत का कार्य शुरू कराया। गर्डर दोबारा लगाने में एक हफ्ते का समय कम से कम लगेगा। गर्डर गिरने से वहां से गुजरने वाले वाहनों को डायवर्ट किया गया।अफसर बोलेबार-बार कोई न कोई बड़ा वाहन गर्डर से टकरा जाता है। गर्डर की मरम्मत की जा रही है। एक हफ्ते का समय लगेगा। गर्डर से वाहन न टकराए इसके लिए व्यवस्था की जा रही है। किसी न किसी की रात में निगरानी के लिए ड्यूटी लगाई जाएगी। ताकि बड़े वाहनों को पुल के नीचे से निकलने से रोका जा सके।अशोक कुमार, जनसंपर्क अधिकारी, पूर्वोत्तर रेलवे
Go to Full Mobile site