PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

RailFans LIVE life to the fullest.

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Mon Nov 30 10:44:58 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Advanced Search
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 366411
Oct 25 2018 (06:53) भीड़ देख रेल प्रशासन ने कासन पर चलाईं ट्रेनें (www.jagran.com)
Commentary/Human Interest
NER/North Eastern
0 Followers
9803 views

News Entry# 366411  Blog Entry# 3935756   
  Past Edits
Oct 25 2018 (06:53)
Station Tag: Govindnagar/GOVR added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739

Oct 25 2018 (06:53)
Station Tag: Tinich/TH added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739
Stations:  Govindnagar/GOVR   Tinich/TH  
बस्ती: अमृतसर में रावण दहन के दौरान हुई घटना को लेकर बुधवार को पूर्वोत्तर रेल प्रशासन सतर्क रहा। यात्रियों और श्रद्धालुओं की सुरक्षा को देखते हुए जिले के टिनिच- गो¨वदनगर स्टेशन के बीच बलुआ समय माता स्थल के निकट आठ घंटे तक ट्रेनों को कासन के सहारे संचालित किया गया। इस दौरान चालीस किमी प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेनें चली। सामाजिक संगठन भारतीय ¨हदू सेवक संघ के मंडल अध्यक्ष जीतेंद्र अग्रहरि की अगुवाई में लोगों ने टिनिच रेल प्रबंधन को ज्ञापन दिया था। कहा था कि समय माता स्थल के निकट कुआनो नदी पर रेल पुल बना है। स्थल के सामने रेल ट्रैक कर्व है। पुल के निकट नदी में क्षेत्र की दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन होता है। साथ ही कुछ दूरी पर मेला भी लगता है। इस दौरान बड़ी संख्या में लोगों का रेलवे ट्रैक के आसपास आवागमन रहता है। लिहाजा दोपहर बाद दो बजे से रात दस बजे...
more...
तक पुल के पास ट्रेनों की गति कम होने से सुरक्षित विसर्जन किया जा सकेगा। साथ कि किसी घटना की आशंका भी कम हो जाएगी। स्टेशन प्रबंधन ने यह सूचना कंट्रोल के साथ उच्चाधिकारियों को दी। रेल प्रशासन ने आमजन की सुरक्षा को देखते हुए ट्रेनों को धीमी गति से चलाया। इस दौरान दो दर्जन से अधिक ट्रेनें कासन के सहारे चलाई गईं।
Go to Full Mobile site